Connect with us

प्रादेशिक

खुद को हिंदू बताकर मुस्लिम महिला ने की पुजारी से शादी, सुहागरात के बाद हुआ कुछ ऐसा….

Published

on

भोपाल। मध्य प्रदेश राजगढ़ जिले में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक महिला ने खुद को हिंदू बताकर पुजारी से शादी कर ली और अगले दिन भागने की कोशिश में पकड़ी गई।

अपनी पोल खुलते देख महिला ने हंगामा करना शुरू कर दिया जिसके बाद मौके पर पहुंचकर पुलिस ने लुटेरी दुल्हन को गिरफ्तार कर लिया।

मामला राजगढ़ के खिलचीपुर के गादिया कला गांव का है। दरअसल, यहां एक पुजारी से दलाल ने सवा लाख रुपए लेकर एक शादीशुदा मुस्लिम महिला को हिंदू बताकर पुजारी से करा दी।

महिला ने शादी के अगले ही दिन भागने का प्रयास किया तो लोगों ने उसे रोका। इसके बाद महिला ने हंगामा खड़ा कर दिया। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने महिला को गिरफ्तार कर लिया।

पीड़ित का नाम अशोक है। अशोक काफी समय से अपनी शादी की कोशिश में था। इसी बात का फायदा उठाते हुए नारायण नाम के दलाल ने उससे सवा लाख रुपए एक महिला से शादी करा दी।

पीड़ित पुजारी के मुताबिक नारायण ने उस महिला का नाम गीता बताया गया था। इसके बाद महिला को राजगढ़ बुलाते हुए नारायण ने मंदिर में दोनों की शादी करा दी। बाद में कोर्ट मैरिज कराने की बात कर वह सवा लाख रुपए लेकर निकल गया।

शादी के बाद गादिया कला पहुंची महिला ने बीमार होने का बहाना बनाना और इलाज के लिए खिलचीपुर लाने पर वहां से भागने का प्रयास किया लेकिन पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

महिला ने पुलिस के सामने सारी कहानी बताई। उसका नाम हिना खान है और शादीशुदा है। वह मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा की रहने वाली है। पुलिस उसे गिरफ्तार कर पूछताछ कर रही है। हालांकि अभी दलाल नारायण सिंह का कुछ पता नहीं चल पाया है।

 

प्रादेशिक

लखनऊः अमित शाह ने सीएए के समर्थन में की रैली, विपक्ष पर लगाया ये बड़ा आरोप

Published

on

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह ने लखनऊ में जनसभा को संबोधित किया। अमित शाह ने कहा कि CAA के खिलाफ विपक्ष भ्रम फैला रहा है और देश को तोड़ने का काम किया जा रहा है। इसी मुद्दे पर हमारी पार्टी ने जन जागरण अभियान करने का फैसला किया है।

अमित शाह ने विपक्ष पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि जब कश्मीर से लाखों कश्मीरी पंडितों को भगा दिया गया था, तो इनका मानवाधिकार कहां गया था। उन्होंने कहा कि जिसको विरोध करना है कर ले, लेकिन CAA वापस नहीं होगा।

गृह मंत्री ने कहा कि संसद के सत्र में जब हमारी सरकार बिल लाई तो राहुल बाबा एंड कंपनी विरोध में काउ-काउ कर रही थी। इस मुद्दे पर भ्रम फैलाया जा रहा है कि इस कानून से मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी। विपक्ष का कोई भी नेता चर्चा करने के लिए तैयार हो जाए तो हमारी ओर से स्वतंत्रदेव सिंह चर्चा के लिए तैयार हैं।

आपको बता दें कि देश के कई हिस्सों में सीएए को लेकर लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। इसके जवाब में बीजेपी ने सीएए के संबंध में जागरुकता अभियान शुरू करने का ऐलान किया और इसी के बाद अमित शाह के अलावा कई अन्य केंद्रीय मंत्री भी जनसभा आयोजित कर रहे हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending