Connect with us

नेशनल

कर्नाटक संकटः बागी विधायकों पर सुप्रीम कोर्ट में शुरू हुई सुनवाई

Published

on

नई दिल्ली। कर्नाटक में चल रहे राजनीतिक संकट के बीच शुक्रवार को बागी विधायकों की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। बागी विधायकों की तरफ से उच्चतम न्यायालय में मुकुल रोहतगी ने दलील रखी और कहा कि कुछ परिस्थितियों को छोड़कर स्पीकर इस अदालत के प्रति जवाबदेह हैं।

वहीं कांग्रेस नेता और वरिष्ठ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने जिरह करते हुए कहा कि इस्तीफा देने के पीछे इन विधायकों का इरादा कुछ अलग है। यह अयोग्य ठहराए जाने से सबचना चाहते हैं।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी का अदालत में नेतृत्व कर रहे वकील राजीव धवन ने विधायकों के उस प्रस्तुतिकरण पर विरोध जताया जिसमें बागी विधायकों का कहना है कि स्पीकर ने दुर्भावनापूर्ण तरीके से काम किया है।

आपको बता दें कि कुछ दिनों पहले अमेरिकी दौरे पर गए कुमारस्वामी के अनुपस्थिति में कुछ कांग्रेस और जनता दल सेक्यूलर के विधायकों ने इस्तीफा दे दिया था। अचानक इतने सारे विधायकों के इस्तीफे के बाद जेडीएस-कांग्रेस की गठबंधन की सरकार पर खतरा मंडराने लगा था।

नेशनल

सावन के महीने में भूल से भी न खाएं ये चीज़ें

Published

on

लखनऊ। 6 जुलाई से भगवान शिव जी को समर्पित सावन का महीना शुरू होने वाला है। ये महीना भगवान शिव को प्रसन्न करने का माह होता है। शास्त्रों में भी कहा और माना गया है कि बाकी दिनों की अपेक्षा सावन के महीने में भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। इस लिहाज से भी सावन में कई चीजों को खाने की मनाही है। भक्ति के माहोल में हर कोई पूठा-पाठ में लीन रहता है। साथ ही इस महीने में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने का कई गुना लाभ भी मिलता है।

सावन में नहीं खानी चाहिए ये चीजें

सावन में हरे रंग का खास महत्व होता है. महिलाएं हरी चूड़ियां पहनती हैं पर इस दौरान हरी सब्जियों को खाना मना होता है. इसकी वजह ये है कि इस महीने में हरी पत्तेदार सब्जियां शरीर में वात को बढ़ाती हैं. अगर वैज्ञानिक कारण देखा जाए तो सावन का महीना बारिश का होता है और पत्तेदार सब्जियों में कीड़े मिलते हैं, इसलिए इनके सेवन से लोगों को बचना चाहिए.

कच्चे दूध के सेवन की मनाही होती है. कहा जाता है कि कच्चा दूध भगवान को अर्पित किया जाता है, इसलिए इसका सेवन करने से बचना चाहिए. पर ऐसा इसलिए भी है क्‍योंकि बारिश के इस मौसम में पाचन उतना अच्‍छा नहीं होता.

सावन के दौरान कढ़ी भी खाने की मनाही होती है. कहा जाता है कि कढ़ी में प्याज और दूध से बनने वाली दही का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इसे नहीं खाना चाहिए.

मांस मच्‍छी के सेवन की मनाही होती है. इसी तरह लहसुन, प्‍याज के सेवन से बचने को कहा जाता है. इस समय में तामसिक प्रवृत्ति के भोजनों को ना खाने की परंपरा इसका कारण है.

Continue Reading

Trending