Connect with us

प्रादेशिक

दुल्हन नहीं रख पाई खुद पर काबू, लोकेशन भेजकर प्रेमी को बुलाया, फिर पति के सामने ही…….

Published

on

नई दिल्ली। राजस्थान के जयपुर में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां दुल्हन ने अपने प्रेमी को पहले वॉट्सऐप के जरिए लोकेशन भेजकर बुलाया फिर उसके साथ लाखों रुपए के गहने लेकर फरार हो गई।

वारदात जयपुर के गलता गेट के पास गणेश कॉलोनी की है। यहां मनीष गुप्ता नाम के शख्स की शादी चार दिन पहले रिया से हुई थी। मनीष मक-बधिर है जिसका फायदा उठाते हुए दुल्हन ने घटना को आसानी से अंजाम दिया।

भागने से पहले रिया ने अपने ससुराल के घर के बाहर की फोटो अपने साथी को वॉट्सएप से भेजी थी ताकि मकान की आसानी से पहचान हो सके।

फोटो भेजने के कुछ ही मिनट बाद दुल्हन का साथी कार से आया और गहनों से लदी दुल्हन को बैठाकर फरार हो गया। दुल्हन नंगे पैर ही कार में जाकर बैठ गई थी।

उसके बाद दूल्हा और उसके परिजन संजय गुप्ता और बनवारी खंडेलवाल को खोज रहे हैं जिन्होंने शादी में मध्यस्थता की थी।पीड़ित पति मनीष  के बड़े भाई हनुमान के अनुसार, मनीष न तो बोल सकता था और न सुन सकता था।

इस वजह से उसकी शादी नहीं हो पा रही थी। तब उनके पास ही रहने वाले बनवारी और संजय गुप्ता ने मनीष के शादी कराने की बात कही।

इसके बाद जयपुर में ही संसार चंद्र रोड के पास एक होटल कुबेर में लड़की को देखने बुलाया। लड़की को लड़का और लड़के को लड़की पसंद आ गई। इसके बाद हिंदू रिति रिवाजों से दोनों की शादी हो गई।

शादी के बाद 27 जून को एक कार्यक्रम में मनीष के माता-पिता चले गए। वहां दोपहर में मनीष और रिया को भी जाना था। रिया ने कार्यक्रम में जाने के लिए पूरे गहने पहने हुए थे।

मौका देखकर पहले रिया ने मेडिकल शॉप पर जाने का बहाना बनाया लेकिन मनीष के बड़े भाई ने इनकार कर दिया। इसके बाद लुटेरी दुल्हन ने ससुराल के बाहर की फोटो खींचकर वॉट्सएप पर अपने साथी को भेजा, जिसके साथ वह नंगे पैर ही गहनों के साथ फरार हो गई।

प्रादेशिक

अध्यक्ष पद से हटाए गए मनोज तिवारी, आदेश गुप्ता को मिली दिल्ली बीजेपी की कमान

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने दिल्ली में बड़ा बदलाव किया है। पार्टी ने मनोज तिवारी को अध्यक्ष पद से हटाकर अब प्रदेश की कमान आदेश गुप्ता को सौंप दी है।

इसके साथ छत्तीसगढ़ का अध्यक्ष विष्णुदेव साय को नियुक्त किया। मनोज तिवारी को पद से क्यों हटाया गया इसके पीछे की वजह फिलहाल साफ नहीं है।

बता दें कि आदेश गुप्ता एक साल पहले तक नॉर्थ एमसीडी के मेयर रह चुके हैं। माना जा रहा है कि व्यापारी वर्ग को लुभाने के लिए बीजेपी ने यह कदम उठाया है। आदेश को जमीन से जुड़ा हुआ नेता माना जाता है।

एक समय वह ट्यूशन पढ़ाकर अपना घर चलाते थे। वो पार्षद रह चुके हैं। इसके अलावा नॉर्थ दिल्ली के मेयर भी रह चुके हैं। यानी दिल्ली की सियासत में उनका तजुर्बा काफी नीचे तक है।

हालांकि, आदेश गुप्ता मनोज तिवारी की तरह चर्चित चेहरा नहीं हैं। आदेश गुप्ता वेस्ट पटेल नगर से पार्षद रहे हैं। इसके साथ ही NDMC स्टैंडिंग कमेटी के सदस्य भी रहे हैं। दिल्ली बीजेपी में काफी लंबे समय बाद बदलाव किया गया है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending