Connect with us

प्रादेशिक

पति ने महिला को दिया तीन तलाक, फिर तीन जेठों ने जबरन संबंध बनाकर चलती कार से फेंका

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मेरठ में रिश्तों को शर्मसार करने वाला सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां एक महिला को मामूली विवाद के बाद उसके पति ने तीन तलाक दे दिया।

इसके बाद तीन जेठों ने मिलकर महिला के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। पीड़ित महिला का नाम नाजिश है। नाजिश बुलंदशहर के गांव आसिफाबाद चंद्रपुरा की रहने वाली है।

6 महीने पहले उसका निकाह मेरठ में हुआ था। निकाह में 10 लाख रुपये खर्च किए गए थे। पीड़िता के मुताबिक 16 जून को मामूली बात पर घर में झगड़ा हो गया था जिससे नाराज पति ने उसे तीन तलाक दे दिया और घर से चला गया।

इसके बाद 18 जून को नव विवाहिता के तीन जेठों ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया और मारपीट कर चलती कार से   उसके गांव के बाहर फेंककर फरार हो गए।

पीड़ित परिवार ने 2 जुलाई को मामले की रिपोर्ट बुलंदशहर के गुलावठी कोतवाली में दर्ज कराई मगर पुलिस ने किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया। घटना स्थल जनपद मेरठ होने के कारण मुकदमे को जनपद मेरठ जांच के लिए भेज दिया है।

लड़की के परिजनों ने आरोप लगाया है कि पुलिस आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर गंभीर नजर नहीं आ रही है। हालांकि पुलिस ने तीन तलाक और गैंगरेप की धाराओं में मामला दर्ज किया है।

प्रादेशिक

निकिता हत्याकांड: कांग्रेस विधायक का चचेरा भाई है आरोपी, दादा भी रह चुके हैं विधायक

Published

on

नई दिल्ली। हरियाणा के बल्लभगढ़ में सोमवार को दिनदहाड़े 21 साल की एक युवती की हत्या के मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। घटना के वक्त छात्रा कॉलेज से अपने घर वापस जा रही थी। मुख्य आरोपी की पहचान सोहना रोड निवासी तौसिफ के रूप में हुई है और दूसरे आरोपी की पहचान नूंह जिले के रेहान के रूप में हुई है। दोनों आरोपियों को कोर्ट के समक्ष पेश किया गया, जहां से उसे दो दिनों की पुलिस रिमांड में भेज दिया गया।

वहीं, जानकारी सामने आ रही है कि तौसिफ कांग्रेस विधायक का चचेरा भाई है जबकि उसके दादा भी विधायक रह चुके हैं। नूंह से कांग्रेस विधायक आफताब अहमद उसके चचेरे भाई हैं।तौसीफ और निकिता दोनों फरीदाबाद के एक स्‍कूल में साथ पड़े थे। निकिता 12वीं की बोर्ड टॉपर्स में थी और सिविल सविर्सिज एग्‍जाम की तैयारी कर रही थी। 2018 में स्‍कूल खत्‍म होने के बाद दोनों अलग-अलग कॉलेज में पढ़ने लगे। पुलिस के अनुसार, उसी साल तौसीफ ने निकिता का अपहरण किया था। मामला दर्ज हुआ था लेकिन पंचायत के बाद वापस ले लिया गया। निकिता के परिवार का आरोप है कि उनपर तौसीफ के रिश्‍तेदारों ने दबाव बनाया था। नूंह में तौसीफ के परिवार का दबदबा है और निकिता के परिवार को भरोसा दिया गया था कि तौसीफ आगे कुछ नहीं करेगा। लेकिन इसके बाद भी उसने इस घटना को अंजाम दे डाला।

पुलिस ने कहा, घटना सोमवार शाम को शाम चार बजे तब हुई, जब पीड़िता निकिता तोमर परीक्षा के बाद अग्रवाल कॉलेज से वापस आ रही थी। दो लोगों ने पीड़िता का अपहरण करने की कोशिश की, जब उसने विरोध किया तो एक आरोपी ने रिवॉल्वर से उसपर फायरिंग कर दी। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, कस्टडी रिमांड के दौरान, हत्या के लिए इस्तेमाल हथियार, वाहन इत्यादि को बरामद किए जाएंगे उनसे घटना के कारण का भी पता लगाया जाएगा। हालांकि पीड़िता के परिवार ने दावा किया है कि मुख्य आरोपी पीड़िता को पसंद करता था और वह उसका प्रपोजल बार-बार ठुकरा रही थी, जिससे गुस्से में आकर उसने पीड़िता की हत्या कर दी।

Continue Reading

Trending