Connect with us

प्रादेशिक

जेल से बाहर नहीं आ सकेगा राम रहीम, ये बड़ी वजह आई सामने

Published

on

नई दिल्ली। साध्वी के साथ यौन शोषण और पत्रकार रामचंद्र छत्रपति की हत्या के उम्रकैद की सजा काट रहा गुरमीत राम रहीम पैरोल पर जेल से बाहर नहीं आ सकेगा।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक राम रहीम ने खुद ही अपने पैरोल की अर्जी वापस ले ली है। सिरसा के एसपी अरुण सिंह ने खुद इस बात कि पुष्टि की है।

उन्होंने बताया कि राम रहीम ने खुद ही अपने पैरोल की अर्जी वापस ले ली है। हालांकि पैरोल वापस लेने के पीछे की क्या वजह है फिलहाल इस बात का खुलासा नहीं हो सका है। कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चौतरफा विरोध के बाद अर्जी वापस लेने का फैसला लिया गया है।

आपको बता दें कि पैरोल मांगने का मामला सामने आने के बाद से प्रदेश की राजनीति गर्मा गई थी। राज्य सरकार की मंशा पर भी सवाल उठ रहे थे।

छत्रपति के परिवार सहित अन्य सामाजिक संगठन और कई वकील तक राम रहीम को पैरोल देने का विरोध कर रहे थे। बता दें कि सिरसा स्थित डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम ने 18 जून को कृषि कार्य के लिए पैरोल मांगी थी।

नेशनल

बडगाम में आतंकियों ने भाजपा नेता को उतारा मौत के घाट

Published

on

जम्मू| जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने भाजपा नेता की गोली माकर हत्या कर दी। मृतक अब्दुल हमीद नाजर बडगाम जिले के ओमपोरा इलाके में भारतीय जनता पार्टी के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा के जिलाध्यक्ष थे। अब्दुल हमीद नजर को आतंकवादियों ने रविवार की सुबह उनके घर के पास गोली मार दी थी। वह सुबह की सैर के लिए घर से निकले थे।

गोलियां लगने से गंभीर रूप से घायल हुए नजर को अस्पताल ले जाया गया जहां सोमवार सुबह उसकी मौत हो गई। इस घटना को लेकर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है।

आतंकी विशेष रूप से भाजपा नेताओं को निशाना बना रहे हैं। जून माह से अब तक चार भाजपा नेताओं पर हमले हो चुके हैं। 11 जुलाई को बांदीपोरा के पूर्व जिला अध्यक्ष वसीम बारी की उनके पिता और भाई समेत हत्या कर दी गई थी। इसके बाद 15 जुलाई को सोपोर में भाजपा नेता मेहराजुद्दीन मल्ला को अगवा किया गया था, हालांकि इन्हें दस घंटे में ही मुक्त करा लिया गया था। इसके बाद चार अगस्त को कुलगाम में पंच पीर आरिफ अहमद शाह को गोली मार दी गई थी,छह अगस्त को सज्जाद खांडे की हत्या कर दी गई।

Continue Reading

Trending