Connect with us

नेशनल

पीएम मोदी के नाम पर बेंगलुरु में बनाई गई मस्जिद? सच जानें यहां…

Published

on

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर इन दिनों एक तस्वीर वायरल हो रही है। तस्वीर मस्जिद की है। फोटो को लेकर दावा किया जा रहा है कि इस मस्जिद का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर ‘मोदी मस्जिद’ रखा गया है।

फेसबुक पर इन दिनों मस्जिद के बाहर की तस्वीर शेयर की जा रही है जहां अंग्रेजी और उर्दू में “मोदी मस्जिद” लिखा दिख रहा है। पोस्ट के साथ कैप्शन में लिखा गया हैः “बेंगलुरु के शिवाजी नगर में कई दशकों से बड़ी संख्या में मुस्लिम रहते हैं। अब यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर मस्जिद बनाई गई है। मोदी है तो मुमकिन है।”

Shivaji Nagar in Bangalore has been a Muslim dominated area for decades..We now have a masjid opened there in the name of Narendra Modi ji..Modi hai tho mumkin hai 💃💃💃

Durga Menon ಅವರಿಂದ ಈ ದಿನದಂದು ಪೋಸ್ಟ್ ಮಾಡಲಾಗಿದೆ ಶುಕ್ರವಾರ, ಮೇ 31, 2019

हमने जब इस मस्जिद की पड़ताल की पाया कि किया जा रहा दावा पूरी तरह से गलत है। मस्जिद का नाम पीएम मोदी के नाम पर नहीं रखा गया है।

इंटरनेट पर जब हमने “मोदी मस्जिद” के बारे में और जानने की कोशिश की तो हमें एक वीडियो भी मिला। ये वीडियो मस्जिद पुनर्निमाण के बाद का है जिसे 4 जून को यूट्यूब पर अपलोड किया गया है।

वीडियो में मोदी मस्जिद के अध्यक्ष मौलाना सैयद अल्ताफ अहमद बता रहे हैं कि यह मस्जिद 170 साल पुरानी है, जिसका पुनर्निर्माण किया गया है।

इस मस्जिद के निर्माण के लिए उस समय बड़ी रकम देने वाले हजरत मोदी अब्दुल गफूर के नाम पर इसका नाम रखा गया था। हजरत को “मोदी” नाम ब्रिटिशर्स ने दिया था। हमारी पड़ताल में फेसबुक पर किया जा रहा दावा पूरी तरह से गलब साबित हुआ।

नेशनल

जस्टिस बोबडे हो सकते हैं अगले मुख्य न्यायाधीश, सीजेआई ने पत्र लिखकर की सिफारिश

Published

on

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं ऐसे में नए चीफ जस्टिस की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

जस्टिस रंजन गोगोई ने केंद्र सरकार को पत्र लिखकर उनके बाद जस्टिस एसए बोबडे को देश का अगला मुख्य न्यायाधीश बनाने का सिफारिश की है।

यह जानकारी आधिकारिक सूत्रों से सामने आई है। प्रक्रिया के अनुसार, वर्तमान सीजेआई ही अगले सीजेआई की सिफारिश करता है। आपको बता दें कि जस्टिस रंजन गोगोई के बाद जस्टिस बोबडे सुप्रीम कोर्ट में दूसरे वरिष्ठतम जज हैं।

अगर उनके नाम पर सहमति बन गई तो जस्टिस बोबडे 18 नवंबर को सीजेआई के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे। वे देश के 47वें मुख्य न्यायाधिश होंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending