Connect with us

प्रादेशिक

स्कूल में बच्ची का नहीं हुआ एडमिशन तो मां ने बनाया टिकटॉक, फिर जो प्रिंसिपल के साथ हुआ…

Published

on

नई दिल्ली। भारत में टिकटॉक का क्रेज समय के साथ और भी बढ़ता जा रहा है। देश में टिकटॉक की लोकप्रियता का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि बच्चे तो बच्चे बूढ़े और जवान भी जमकर इस ऐप का इस्तेमाल कर रहे हैं।

भारत में एक बड़ा तबका इस ऐप को समय की बर्बादी बताता है लेकिन आज हम आपको इससे जुड़ी एक ऐसी खबर बताने जा रहे हैं जिससे आप इसकी उपयोगिता भी समझ आ जाएगी। मामला मुंबई का है जहां टिकटॉक की वजह से एक बच्ची को एडमिशन मिल गया।

दरअसल, मुंबई की रहने वाली एक 27 वर्षीय महिला की बेटी को एक स्कूल ने एडमिशन देने से इनकार कर दिया। महिला का कसूर सिर्फ इतना था कि वो सिंगल पैरेंट थी।

 

सिंगल पैरेंट होने की वजह से बच्ची को स्कूल प्रशासन ने एडमिशन देने से इनकार कर दिया जिसके बाद महिला ने टिकटॉक पर एक वीडियो बनाया। देखते ही देखते वीडियो वायरल हो गया।

शिक्षा विभाग तक जब ये वीडियो पहुंचा तो प्रिंसिपल से इसको लेकर जवाब तलब कर लिया गया। इसके बाद प्रिसिंपल ने लिखित माफी के साथ विभाग आश्वासन दिया कि बच्ची का एडमिशन कर लिया जाएगा।

प्रादेशिक

विकास दुबे की गिरफ्तारी पर मां बोलीं सरला देवी, अब सरकार को जो करना है करेगी

Published

on

कानपुर। कानपुर में आठ पुलिस वालों के हत्यारे हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसकी गिरफ्तारी उज्जैन के महाकाल मंदिर से हुई है। इस इस मामले पर विकास दुबे की मां सरला देवी का कहना है कि भोले बाबा ने मेरे बेटे की जान बचाई है। अब सरकार को जो करना है वो करेगी। मेरे कहने से कुछ नहीं होगा।

विकास की मां ने कहा कि वह हर साल उज्जैन के महाकाल मंदिर में जाकर भगवान के दर्शन करता था और उनका श्रृंगार करवाता था। उन्होंने कहा कि भोले बाबा ने ही आज मेरे बेटे की जान बचाई है। सरला देवी ने कहा कि टीवी से उन्हें विकास की गिरफ्तारी की जानकारी मिली। अब सरकार जो करना चाहती है करे। सरकार बहुत बड़ी है। हमें नहीं पता क्या करना चाहिए।

वहीँ, यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार से जब पूछा गया कि क्या यह उप्र पुलिस और मध्य प्रदेश पुलिस का संयुक्त अभियान था तो उन्होंने जवाब दिया कि नही वहां हमारी टीम मौजूद नही थी। अधिकारी ने कहा कि कानपुर से जांच अधिकारी और पुलिस टीम शीघ्र ही दुबे को लाने के लिए उज्जैन पहुंचेगी।

Continue Reading

Trending