Connect with us

प्रादेशिक

नहीं माने शिवपाल, 2022 में अकेले लड़ेंगे विधानसभा चुनाव

Published

on

लखनऊ। लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को हुए भारी नुकसान के बाद शिवपाल और अखिलेश को फिर से एक साथ लाने में जुटे मुलायम सिंह यादव को उस समय तगड़ा झटका लगा जब शिवपाल ने 2022 में अकेले चुनाव लड़ने का एलान कर दिया।

शुक्रवार को शिवपाल यादव ने सभी कयासों को खारिज करते हुए कहा कि उनकी पार्टी का किसी भी राजनीतिक दल में विलय की कोई संभावना नहीं है और हमने तय किया है कि 2022  में होने वाले विधानसभा चुनाव  जोरदार तरीके से लड़ेंगे।

प्रगितशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव ने कहा कि हमने लोकसभा चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के साथ चार दिवसीय समीक्षा बैठक की थी। इसके बाद हमने तय किया है कि उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में हमारी पार्टी पूरी ताकत के साथ चुनाव लड़ेगी। उन्होंने कहा कि हम चुनाव से पहले संगठन को मजबूत करना चाहते हैं ताकि हम अपने दम पर सरकार बना सके। ऐसे में किसी भी राजनीतिक दल में हमारी पार्टी के विलय की कोई संभावना नहीं है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव में सपा को उत्तर प्रदेश में केवल पांच ही सीटें मिली थी। इस चुनाव में अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव और भाई अक्षय यादव भी अपनी सीट से हार गए थे जिसके बाद  मुलायम सिंह यादव मोर्चा संभालते हुए बेटे अखिलेश और भाई शिवपाल के बीच मतभेद को दूर करने की लगातार कोशिशें कर रहे थे। हाल ही में मुलायम ने दोनों ही नेताओं से अलग-अलग मुलाकात की थी जिसके बाद से ये अटकलें लगने लगी थी कि जल्द ही शिवपाल की घर वापसी हो सकती है।

प्रादेशिक

मनीष सिसोदिया की मुश्किलें बढ़ीं, हाई कोर्ट ने जारी किया नोटिस

Published

on

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मुश्किलें बढ़ती दिख रही हैं। मनीष सिसोदिया पर दिल्ली विधानसभा चुनाव में हलफनामे में गलत सूचना देने का आरोप है।

शुक्रवार को मामले पर  सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने मनीष सिसोदिया को नोटिस जारी कर दिया। सिसोदिया के खिलाफ यह याचिका पटपड़गंज से बीजेपी के उम्मीदवार रहे रविंद्र नेगी ने दाखिल की थी।

बीजेपी उम्मीदवार रविंद्र नेगी ने हाईकोर्ट में दाखिल अपनी याचिका में कहा था कि मनीष सिसोदिया ने अपने नामांकन पत्र में अपने आपराधिक मामलों की जानकारी नहीं दी थी।

सिसोदिया पर अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर मामले को छिपाने का आरोप है, जिसमें आरोप है कि उन्होंने संतोष कोली की मौत के बाद इंडियन फ्लैग को जलाया था।

इस मामले में दिल्ली की कोर्ट में उनके खिलाफ चार्जशीट भी दिल्ली पुलिस दाखिल कर चुकी है। साथ ही सिसोदिया पर चुनाव आयोग की गाइडलाइंस का उल्लंघन का आरोप है।

सिसोदिया पर यह भी आरोप है कि उन्होंने 2018 में अपना फ्लैट बेच दिया था, लेकिन अपना पुराना वोटर आई कार्ड का इस्तेमाल कर रहे हैं। अब इस मामले की अगली सुनवाई 29 मई को होगी।

प्रचार मानदंडों का कथित रूप से उल्लंघन करने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में दो याचिकाएं दायर की गई हैं। इस याचिका में दोनों के निर्वाचन को चुनौती दी गई है। इसे लेकर सिसोदिया को दिल्ली हाई कोर्ट ने नोटिस जारी किया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending