Connect with us

प्रादेशिक

गुजरातः कब्रिस्तान में मुर्दा हो गया अचानक जिंदा, फिर जो हुआ…

Published

on

अहमदाबाद। गुजरात के पालनपुर में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां कब्रिस्तान में दफन के लिए ले जाए जा रहा शख्स अचानक जिंदा हो गया।

हैरानी की बात ये है कि इलाज के दौरान इस शख्स को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया था। घटना गुजरात के पालनपुर के जनता नगर की है। नदीम नागोरी नाम का शख्स यहां मजदूरी करता था।

भीषण गर्मी में काम करने की वजह से उसे लू लग गई जिसके बाद उसे पास के महाजन हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। रविवार की सुबह अचानक उनकी सांसे चलना बंद हो गई।

जांच करने के बाद डॉक्टर्स ने नदीम को मृत घोषित कर दिया। नदीम के परिवार वाले उनकी मौत से सदमे में आ गए। पूरा परिवार मातम छा गया।

नदीम का जनाजा जब कब्रिस्तान पहुंचा तो अचानक लोगों ने देखा कि उसकी सांसे चल रही हैं जिसके बाद उसे तुरंत एक निजी अस्पताल में भर्ती किया गया।

उसके शरीर में चेतना लौटी। डॉक्टर्स ने भी नदीम को बचाने की कोशिश की लेकिन उसने दोबारा दम तोड़ दिया। मृतक के परिवारवालों ने महाजन हॉस्पिटल के डॉक्टर्स पर आरोप लगाया है कि नदीम को सुबह 8 बजे मृत घोषित कर दिया था।

लेकिन वह 12 बजे तक जीवित था। इसके बाद उसकी मौत हुई है। इस मामले में हॉस्पिटल ट्रस्ट संचालकों ने फिलहाल कुछ भी कहने से इंकार कर दिया है।

नेशनल

राम रहीम ने खेती के लिए मांगी थी पैरोल, जांच में पता चली ऐसी बात, उड़े सबके होश

Published

on

नई दिल्ली। बलात्कार और हत्या के जुर्म में उम्रकैद की सजा काट रहे डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम की बाहर निकलने की ख्वाहिशों को झटका लग सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक राम रहीम की पैरोल की अर्जी खारिज हो सकती है। कृषि के लिए पैरोल मांगने वाले राम रहीम के बारे में नई जानकारी सामने आई है कि उसके पास कृषि योग्य जमीन ही नहीं है। जितने भी जमीन हैं वो डेरा सच्चा सौदा ट्रस्ट के नाम हैं।

हरियाणा सरकार के रेवेन्यू डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के मुताबिक राम रहीम के नाम पर सिरसा में कोई कृषि योग्य जमीन नहीं है। रेवेन्यू डिपार्टमेंट के तहसीलदार ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि डेरे के पास कुल 250 एकड़ भूमि है, लेकिन इस जमीन के रिकॉर्ड पर कहीं भी राम रहीम मालिक या बतौर किसान रजिस्टर्ड नहीं है।

माना जा रहा है कि सिरसा के रेवेन्यू डिपार्टमेंट की रिपोर्ट के आधार पर राम रहीम की पैरोल की याचिका खारिज की जा सकती है।

इसके अलावा हरियाणा पुलिस की खुफिया रिपोर्ट भी राम रहीम को पैरोल देने के हक में नहीं हैं। पुलिस का मानना है कि ऐसा करने पर सिरसा में कानून-व्यवस्था बिगड़ सकती है और पंचकूला जैसे हालात बन सकते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending