Connect with us

प्रादेशिक

बेडरूम में गद्दे की जगह रुपए के बंडल इस्तेमाल करता था इंजीनियर, हुआ गिरफ्तार

Published

on

पटना। बिहार में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां निगरानी विभाग ने पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक इंजीनियर सुरेश प्रसाद और कैशियर शशिभूषण कुमार को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

दोनों को 14 लाख रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। यह रकम पटना के पास बिहटा से बिक्रम के बीच बन रहे सड़क के करार के लिए मांगी गई थी।

गिरफ्तारी के बाद हुई छापेमारी में हैरान करने वाली बातें सामने आई हैं। रिपोर्ट्स के मुताबिक इंजीनियर की काली कमाई इतनी थी कि वो नोटों की सेज पर सोता था। उसके घर से अब तक 2.40 करोड़ रुपये की नकदी बरामद हुई है।

निगरानी विभाग के डीएसपी गोपाल पासवान ने इंजिनियर की गिरफ्तारी के बाद बताया कि साज इंफ्राकॉम प्रोजेक्ट लिमिटेड के ठेकेदार अखिलेश कुमार जायसवाल बिहटा से बिक्रम तक सड़क बनवा रहे हैं।

इसके ठेके लिए इंजीनियर सुरेश और कैशियर शशि ने 28 लाख रुपये की मांग थी। पहली किस्त के तहत 14 लाख देने के लिए सुरेश ने ठेकेदार को अपने पटेल नगर स्थित घर पर बुलाया था। निगरानी विभाग की टीम ने रिश्वत लेते दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

पकड़े जाने के बाद जब इंजीनियर की घर की तलाशी ली गई तो बिस्तर के अंदर से नोटों की गड्डियां मिलीं। साथ ही पलंग के नीचे भी करोड़ों रुपये मिले। अब तक की छापेमारी में उसके घर से 2.40 करोड़ की नकदी बरामद हो चुकी है।

इसके अलावा कई जमीन के दस्तावेज भी मिले हैं। इनका मिलान किया जा रहा है। राज्य में अभी तक किसी सरकारी अधिकारी के घर से एक साथ इतनी बड़ी नकदी बरामद नहीं हुई।

प्रादेशिक

लखनऊ में चीनी सामान जलाकर किया गया ड्रैगन का विरोध

Published

on

लखनऊ। कोरोना वायरस महामारी और फिर चीन के साथ सीमा विवाद के बाद देश भर में चीनी सामानों का बहिष्कार करने की मांग पहले ही जोर-शोर से उठ रही थी। सीमा पर हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हुए थे। जिससे लोगो का गुस्सा सातवे आसमान पर है और पूरे देश में लोगो द्वारा चीनी सामान का पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगाने की मांग उठ रही है।

इसी अभियान में करणी सेना व यूपी हैंडो मार्शल आर्ट्स एसोसिएशन के द्वारा आज दिनांक 05 जून को शाम 6 बजे लखनऊ के चिनहट चौराहे पर चीनी समान का विरोध प्रदर्शन किया गया। लोगो ने चीनी सामानों को जलाकर और उसके बहिष्कार के नारे लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही कानपुर में हुए शहीद पुलिस के जवानों को कैंडल जलाकर विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित की।

वहां मौजूद उत्तर प्रदेश हैंडो मार्शल आर्ट्स एसोसिएशन की उपाध्यक्ष डा. ज्योत्सना सिंह ने लद्दाख में चीनी सैनिकों द्वारा भारतीय सैनिकों पर किए गए हमले की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि चीन को जब भी अवसर मिलता है, भारत की सम्प्रभुता को चुनौती देता है। चीन का यह रवैया देश के हितों के विरुद्ध है। इस बात को देशवासियों के ध्यान में लाते हुए लोगो से अपील की कि चीनी सामान का बहिष्कार करे और ज्यादा से ज्यादा देश में निर्मित सामानों को खरीद कर राष्ट्रहित में योगदान दें। शायद हमारे शहीदों के लिए यही सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

करणी सेना के अवध क्षेत्र के अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा इस विषम परिस्थितियों में सभी को देश के साथ खड़े रहने की जरूरत है। सेना अपना काम कर रही है और हम देशवासियों को चीनी समान का बहिष्कार कर दुश्मन देश को आर्थिक रूप से कमजोर करके अपना फर्ज निभाने की जरूरत है। संस्था के अध्यक्ष अभिनव सिंह ने लोगो से ज्यादा से ज्यादा देश में निर्मित सामानों को खरीदने की विनती की। विरोध प्रदर्शन में अवनीश कुमार सिंह, जगदीश कमल, फौजदार सिंह कामता राकेश गौतम अजय विनोद जूली शिखा रमेश रामवीर शिराज अहमद राजेन्द्र गौतम आदि लोग शामिल हुए।

Continue Reading

Trending