Connect with us

प्रादेशिक

सहायक अध्यापिका अंजली की हत्या के मामले में प्रमुख सचिव गृह ने दिए जांच के आदेश

Published

on

लखनऊ। 6 जून 2019 सिद्धार्थनगर में सहायक अध्यापिका अंजली यादव की हत्या के तथ्यों की सही एवं निष्पक्ष्य जांच की मांग को लेकर आज लोकभवन में राज्य कर्मचारी परिषद् के अध्यक्ष एसपी तिवारी के नेतृत्व में उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष सुशील कुमार पाण्डेय ने कु0 अंजली यादव की हत्या की जांच के लिए प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार से मिलकर ज्ञापन दिया। प्रमुख सचिव गृह ने तत्काल इस मामले की निष्पक्ष जांच के आदेश दिए हैं।

बता दें कि जालौन जिले के कुठौंद थाना इलाके हुसेपुरा तुरई गांव निवासी अजय यादव की बेटी अंजली यादव की पहली तैनाती 22 दिसंबर 2017 को सिद्धार्थनगर जिले के नौगढ़ विकास खंड के प्राथमिक विद्यालय कंचनपुर में हुई थी। करीब पाच माह पहले अंजली को पूर्व माध्यमिक विद्यालय गौहनिया से अटैच कर दिया गया था। इसलिए वह मोहाना कस्बे में किराए पर कमरा लेकर रह रहीं थीं।

अजय यादव की बेटी अंजली मुहाना कस्बे में एक अन्य महिला शिक्षिका खुशबू के साथ रहती थी। सोमवार को स्कूल बंद होने के कारण खुशबू अपने घर चली गई। घटना के समय अंजली घर में अकेली थी। उसके कमरे से मंगलवार की शाम धुआं निकलते देख आसपास के लोग जब मौके पर पहुंचे तो देखकर दंग रह गए। दरवाजे की कुंडी बाहर से बंद थी। अंजली के हाथ पैर बंधे हुए थे और वह पूरी तरह जल चुकी थी। लोगों ने घटना की सूचना पुलिस को दी।

Continue Reading

प्रादेशिक

महाराष्ट्र के मंत्री अशोक चव्हाण ने जीती कोरोना से जंग, अस्पताल से मिली छुट्टी

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र के पीडब्ल्यूडी मंत्री अशोक चव्हाण ने कोरोना से जंग जीत ली है। अब ठीक होकर अस्पताल से वापस अपने घर आ गए हैं। गुरुवार को पार्टी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व मुख्यमंत्री का कोविड -19 परीक्षण पॉजिटिव आया था, लेकिन उनमें कोरोना के लक्षण नहीं थे। 24 मई को उनके गृह स्थान नांदेड़ में और फिर उसके अगले दिन मुंबई के एक निजी अस्पताल में उन्हें स्थानांतरित कर दिया गया था।

उपचार पूरा होने के बाद चव्हाण को गुरुवार दोपहर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, लेकिन प्रोटोकॉल के अनुसार वह अभी भी क्वारंटीन में रहेंगे।

चव्हाण, कैबिनेट के दूसरे सदस्य हैं, जिन्हें कोरोना संक्रमण हुआ। इससे पहले अप्रैल में आवास मंत्री जितेंद्र अव्हाड संक्रमित पाए गए थे।अव्हाड ने क्वारंटीन में समय बिताया और फिर उन्हें एक अस्पताल में स्थानांतरित कर दिया गया और उसके बाद भी वह घर पर आइसोलेशन में रहे। मई के आखिर से उन्होंने अपनी मंत्रिस्तरीय जिम्मेदारियों को फिर से संभालना शुरू किया था।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending