Connect with us

नेशनल

शपथ ग्रहण समारोह में पीएम मोदी ने एक बार फिर सबको चौंकाया, जानकर आप भी रह जाएंगे दंग

Published

on

नई दिल्ली। नरेंद्र मोदी ने गुरूवार को प्रधानमंत्री पद की शपथ ली। शपथ ग्रहण के बाद वो लगातार दूसरी बार देश के प्रधानमंत्री बन गए हैं। पीएम मोदी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

पीएम मोदी के बाद राजनाथ सिंह, अमित शाह, नितिन गडकरी, सदानंद गौड़ा, रामविलास पासवान, स्मृति ईरानी, जयशंकर, पीयूष गोयल, प्रकाश जावड़ेकर, महेंद्र नाथ पांडेय, धर्मेंद्र प्रधान, मुख्तार अब्बास नकवी, प्रह्लाद जोशी, अरविंद सावंत, गिरिराज सिंह, डॉ हर्षवर्धन, नरेंद्र सिंह तोमर, हरसिमरत कौर बदल, अर्जुन मुंडा, रमेश पोखरियाल निशंक, निर्मला सीतारमण, रविशंकर प्रसाद, गजेंद्र सिंह शेखावत ने कैबिनेट मंत्री पद की शपथ ली।

शपथ ग्रहण के दौरान पीएम मोदी के चौंकाने वाले फैसले एक बार फिर देखने को मिले जिसके लिए वो जाने जाते हैं। पीएम मोदी की कैबिनेट में ऐसे कई लोग शामिल नहीं हुए मंत्री पद के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे। वहीं शपथ लेने वाले कुछ लोग ऐसे भी दिखे जिन्हें देखकर लोग हैरान हो गए।

आईए जानते हैं कौन से हैं वो नाम जिन्हें साल 2014 में तो कैबिनेट में जगह मिल गई लेकिन 2019 में उनको मंत्री पद नहीं मिल सका।

  1. सुषमा स्वराज
  2. अरुण जेटली
  3. महेश शर्मा
  4. सुरेश प्रभु
  5. जे पी नड्डा
  6. राज्यवर्धन सिंह राठौर
  7. मेनका गांधी
  8. जयंत सिन्हा
  9. उमा भारती
  10. मनोज सिन्हा
  11. अनंत कुमार हेगड़े
  12. शिव प्रताप शुक्ल

नेशनल

सावरकर पर दिग्विजय सिंह ने दिया बड़ा बयान, कहा-हम उनका सम्मान करते हैं लेकिन….

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय राजनीति में वीर सावरकर एक बार फिर से सुर्खियों में हैं। दिल्ली के रामलीला मैदान में कांग्रेस की ‘भारत बचाओ’ रैली में राहुल गांधी के सावरकर पर की गई टिप्पणी के बाद महाराष्ट्र से लेकर दिल्ली तक उथल पुथल देखने को मिल रही है।

जहां एक ओर शिवसेना और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) राहुल गांधी के इस बयान के बाद उन पर लगातार निशाना साध रहे हैं वहीं कांग्रेस पार्टी राहुल गांधी के बचाव में उतर आई है। इस बीच दिग्विजय सिंह ने भी सावरकर को लेकर बड़ा बयान दिया है।

एक टीवी चैनल से की गई खास बातचीत में दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम सावरकर का सम्मान करते हैं। बातचीत के दौरान दिग्विजय सिंह ने कहा, मैं इतना ही कह सकता हूं कि दामोदर राव सावरकर के जीवन के दो पहलू हैं। एक वो है जब ब्रिटिश हुकूमत के खिलाफ लड़ते हुए उन्हें सज़ा हुई और कालापानी भेजा गया।

दिग्विजय सिंह ने कहा, सावरकर के जीवन का दूसरा पहलू माफी लिखकर जेल से निकलने का है। माफी मांग कर जेल से निकलने के बाद उन्होंने अपने पूरे समय पूरे देश में ब्रिटिश हुकूमत की बांटो और राज करो की नीति को ही आगे बढ़ाया। इसलिए दोनों ही पहलू उनके जीवन में रहे हैं।

दिग्विजय सिंह ने कहा, ‘मैं कहता हूं, जो भी व्यक्ति देश के लिए लड़ा है, हम उसका सम्मान तो करते हैं, लेकिन माफी मांगना एक अलग इतिहास है।’

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending