Connect with us

नेशनल

प्रचंड बहुमत के बाद बीजेपी मुख्यालय में गरजे मोदी, कहा-ये जनता की जीत है

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019  में भारतीय जनता पार्टी को मिली प्रचंड जीत के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर है।

साल 2014 से ज्यादा सीटें मिलने के बाद देशभर में बीजेपी कार्यकर्ता जमकर खुशी मना रहे हैं। बीजेपी की इस जीत के बाद बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यायल पहुंचे।

मुख्यालय पहुंचने पर पीएम मोदी और अमित शाह का कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया गया। प्रचंड जीत के बाद पीएम मोदी ने पार्टी मुख्यालय में मौजूद कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

पीएम ने कहा, मैं भारत के 130 करोड़ नागरिकों का सिर झुकाकर स्वागत करता हूं। उन्होंने जीत पर खुशी जताते हुए कहा कि आज मेघराजा भी हमारे साथ विजय उत्सव में शरीक हैं।

पीएम मोदी ने कहा, मैं पहले दिन से कह रहा था कि यह चुनाव कोई नेता, कोई पार्टी नहीं लड़ रही थी। यह चुनाव जनता लड़ रही थी। आज मेरी उस बात को जनता ने सबसे सामने ला दिया है।

पीएम ने कहा कि आज कोई विजयी हुआ है तो लोकतंत्र विजयी हुआ है, जनता विजयी हुई है। पीएम ने कहा, जबसे देश आजाद हुआ है, तब से लेकर अब तक कई चुनाव हुए हैं। लेकिन इस चुनाव में सबसे ज्यादा वोटिंग हुई, वह भी 40-42 डिग्री तापमान में।

पीएम ने कहा, आज तक कोई चुनाव ऐसा नहीं गया, जिसमें महंगाई मुद्दा न रही हो। लेकिन इस चुनाव में कहीं भी महंगाई पर बात नहीं हुई। उन्होंने कहा, पहले भ्रष्टाचार के नाम पर चुनाव लड़े गए। लेकिन इस चुनाव में कोई भी भ्रष्टाचार का दाग सत्ताधारी पार्टी पर नहीं लगा।

उन्होंने कहा, भाजपा की एक विशेषता है कि हम कभी दो भी हो गए, लेकिन हम कभी अपने मार्ग से विचलित नहीं हुए। आदर्शों को ओझल नहीं होने दिया। न रुके, न झुके, न थके. कभी हम दो हो गए, तो भी और आज दोबारा आ गए। दो से दोबारा होने की यात्रा में कई उतार चढ़ाव आए। हम दो थे, तब भी निराश नहीं हुए। अब दोबारा आए हैं तब भी न नम्रता छोड़ेगे, न विवेक को छोड़ेंगे, न हमारे आदर्शों को छोड़ेंगे, न हमारे संस्कारों को छोड़ेंगे।

अन्तर्राष्ट्रीय

इस मुस्लिम देश के पहाड़ पर दिखे ‘भगवान राम’, देखें तस्वीर

Published

on

नई दिल्ली। इराक गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल को दो हजार ईसा पूर्व के भित्तिचित्र मिले हैं। इस भित्तिचित्र को लेकर अयोध्या शोध संस्थान का दावा है कि ये भगवान राम की छवि है।

भगवान राम का ये भित्तिचित्र इराक के होरेन शेखान क्षेत्र में संकरे मार्ग से गुजरने वाले रास्ते पर दरबंद-ई-बेलुला चट्टान में मिला है। इस चित्र में एक राजा को दिखाया गया है, जिसने धनुष पर तीर ताना हुआ है।

उनकी कमर के पट्टे में एक खंजर या छोटी तलवार लगी है। इसी चट्टान में एक और छवि भी है, जिसमें एक शख्स हाथ मुड़े हुए दिख रहा है। अयोध्या शोध संस्थान के निदेशक योगेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि ये भगवान हनुमान की छवि है।

वहीं इराक के विद्वानों का कहना है कि ये भित्तिचित्र पहाड़ी जनजाति के प्रमुख टार्डुनी का है। भारतीय राजदूत प्रदीप सिंह राजपुरोहित की अगुआई में ये प्रतिनिधिमंडल इराक गया था। जिसके लिए संस्कृति विभाग के अंतर्गत आने वाले अयोध्या शोध संस्थान ने अनुरोध किया था।

प्रदीप सिंह का दावा है कि इन चित्रों से पता चलता है कि भगवान राम सिर्फ कहानियों में नहीं थे क्योंकि ये निशान उनके प्रत्यक्ष प्रमाण हैं। भारतीय और मेसोपोटामिया संस्कृतियों के बीच संबंध का विस्तृत अध्ययन करने के लिए भी इस प्रतिनिधिमंडल ने चित्रमय प्रमाण भी एकत्रित किए हैं।

वहीं इराक के इतिहासकार अयोध्या शोध संस्थान की  बातों से इत्तेफाक नहीं रखते हैं। उनका कहना है कि वे इस चित्र को भगवान राम से जुड़ा नहीं मानते हैं।

उनका कहना है कि ये साबित करने के लिए गायब लिंक को खोजना जरूरी है। उनका कहना है कि उन्होंने शोध के लिए इराक की सरकार से अनुमति मांगी है। अनुमति मिलने के बाद सभी कड़ियों को जोड़ने का काम किया जाएगा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending