Connect with us

नेशनल

गोडसे को देशभक्त बताने के बाद साध्वी को हो रहा पछतावा, प्रायश्चित करने के लिए करेंगी ये काम

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की भोपाल लोकसभा सीट से प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने नाथुराम गोडसे पर दिए बयान पर माफी मांग ली है।

साध्वी ने ट्वीट कर कहा कि चुनावी प्रक्रियाओं के बाद अब समय है चिंतन मनन का, इस दौरान मेरे शब्दों से समस्त देशभक्तों को यदि ठेस पहुंची है तो मैं क्षमाप्रार्थी हूं। और सार्वजनिक जीवन की मर्यादा के अंतर्गत प्रयश्चित हेतु 21 प्रहर के मौन व कठोर तपस्यारत हो रही हूं। हरिः ॐ।

आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव प्रचार के कमल हासन के बयान पर पलटवार करते हुए साध्वी प्रज्ञा सिंह ने नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता दिया था। कमल हासन के बयान के जवाब में उन्होंने कहा था, ”नाथूराम गोडसे देशभक्त थे, देशभक्त हैं और देशभक्त रहेंगे।”

साध्वी के इस बयान में उनकी चौतरफा निंदा हुई थी। उनके बयान के बाद भाजपा ने भी इस बयान से किनारा कर लिया था। चुनाव आयोग ने साध्वी प्रज्ञा सिंह बयान के बारे में मध्यप्रदेश के सीईओ से तथ्यात्मक रिपोर्ट मांगी।

विवाद बढ़ने पर साध्वी ने माफी मांगी और कहा, “अपने संगठन भाजपा में निष्ठा रखती हूं, उसकी कार्यकर्ता हूं और पार्टी की लाइन मेरी लाइन है।”

प्रधानमंत्री मोदी ने साध्वी प्रज्ञा के बयान की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा, “गांधी जी या गोडसे के बारे में जो बयान दिए गए हैं वो बहुत खराब हैं और समाज के लिए बहुत गलत हैं। ये अलग बात है कि उन्होंने माफी मांग ली है, लेकिन मैं उन्हें मन से कभी माफ नहीं कर पाऊंगा।” इससे पहले साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने मुंबई हमले में शहीद हेमंत करकरे के ऊपर भी विवादित बयान दिया था।

नेशनल

एक देश एक चुनाव पर पीएम मोदी ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक देश एक चुनाव के मुद्दे पर 19 जून को सर्वदलीय बैठक बुलाई है। इस बैठक में पूरे देश में एक साथ चुनाव कराने पर चर्चा होगी साथ ही महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर आयोजित किए जा रहे कार्यक्रमों पर भी चर्चा होगी।

रविवार को सरकार की ओर से बुलाई गई सर्वदलीय मीटिंग को लेकर प्रह्लाद जोशी ने कहा कि हमें विपक्षी दलों के साथ ही सहयोगियों से भी सुझाव मिले हैं।

मीटिंग के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि इस बार संसद में कई नए चेहरे आए हैं और उनकी ओर से आने वाले विचारों को शामिल किया जाना चाहिए। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 19 जून को होने वाली बैठक में पीएम नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे।

सर्वदलीय बैठक के बाद जोशी ने कहा कि वर्ष 2022 में भारत की आजादी के 75 साल पूरे होने जा रहे हैं। इसके अलावा इस साल महात्मा गांधी का 150वां जयंती वर्ष मनाया जा रहा है।

इस संबंध में आयोजनों के बारे में चर्चा करने तथा जिलों से संबंधित मुद्दों पर विचार विमर्श करने के लिए भी प्रधानमंत्री मोदी ने बैठक बुलाई है। गौरतलब है कि सोमवार से संसद का बजट सत्र शुरू हो रहा है।

बता दें कि संसद का बजट सत्र 17 जून से शुरू हो रहा है और 17 जुलाई तक चलेगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन 4 जुलाई को आर्थिक समीक्षा पेश करेंगी और 5 जुलाई को बजट पेश किया जाएगा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending