Connect with us

नेशनल

अंतिम चरण के चुनाव से पहले मायावती की बढ़ी मुश्किलें, ED करेगी मनी लॉन्ड्रिंग की जांच

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के चुनाव के बीच बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मायावती राज में बेची गई चीनी मिलों की जांच शुरू करने का फैसला किया है।

प्रवर्तन निदेशालय अब इस केस में मनी लॉन्ड्रिंग की जांच करेगा। इससे पहले जांच में सीबीआई को मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े दस्तावेज मिले थे, जो ईडी को सौंप दिए गए हैं।

उत्तर प्रदेश में साल 2010-11 में 21 चीनी मिलों को गलत तरीके से बेचे जाने का आरोप है। इस मामले में अब प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने भी शिकंजा कसने की तैयारी कर ली है।

आरोप हैं कि मायावती की सरकार के दौरान एक कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए फर्जी बैलेंस शीट और निवेश के फर्जी कागजातों के आधार पर नीलामी में शामिल होने के लिए योग्य मान लिया।

इस तरह ज्यादातर चीनी मिल इस कंपनी को औने-पौने दामों में बेच दी गई। इस कंपनी का नाम नम्रता मार्केटिंग प्राइवेट लिमिटेड है।

साल 2017 में यूपी में सीएम योगी ने सत्ता संभालने के बाद अप्रैल 2018 में चीनी मिल बेचे जाने के केस को सीबीआई द्वारा जांच किए जाने की सिफारिश कर दी थी।

योगी सरकार की सिफारिश के बाद सीबीआई ने केस दर्ज कर जांच शुरू की थी। शुरूआती जांच में ही इस मामले में गड़बड़ी की बात सामने आई थी।

बसपा सरकार पर आरोप है कि चीनी मिलों की गलत बिक्री से करीब 1179 करोड़ रूपये का नुकसान हुआ है। सीबीआई जांच में ये बात सामने आई है कि यह मामला मनी लॉन्ड्रिंग का भी है। जिसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी है।

नेशनल

भारतीय वैज्ञानिकों ने रचा इतिहास, चंद्रयान-2 को चांद की कक्षा में सफलतापूर्वक पहुंचाया

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के वैज्ञानिकों ने मंगलवार को चंद्रयान-2 को चांद की पहली कक्षा में सफलतापूर्वक प्रवेश करा कर इतिहास रच दिया है।

चांद के ऑर्बिट में चंद्रयान-2 को प्रवेश कराना वैज्ञानिकों के लिए बहुत ही चुनौतीपूर्ण माना जा रहा था। वैज्ञानिकों के सामने सबसे बड़ी चुनौती चंद्रयान-2 की गति कम करने की थी जिसे इसरो वैज्ञानिकों ने सफलतापूर्वक 10.98 किमी प्रति सेकेंड से 1.98 किमी प्रति सेकेंड कर दिया।

वैज्ञानिकों ने सुबह 8.30 से 9.30 बजे के बीच चंद्रयान-2 को चांद की कक्षा LBN#1 में प्रवेश कराया। अब चंद्रयान-2, 118 किमी की एपोजी (चांद से कम दूरी) और 18078 किमी की पेरीजी (चांद से ज्यादा दूरी) वाली अंडाकार कक्षा में अगले 24 घंटे तक चक्कर लगाएगा।

आपको बता दें कि चंद्रयान-2 की गति 90 फीसदी इसलिए कम की गई है ताकि यान चांद गुरूत्वाकर्षण की वजह से उसके सतह से टकरा न जाए। पहले ऑर्बिट में प्रवेश के बाद 7 सितंबर को चंद्रयान-2 चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। चंद्रयान-2 को 22 जुलाई को श्रीहरिकोटा प्रक्षेपण केंद्र से रॉकेट बाहुबली के जरिए प्र‍क्षेपित किया गया था।

इससे पहले 14 अगस्त को चंद्रयान-2 को ट्रांस लूनर ऑर्बिट में डाला गया था. उम्मीद जताई जा रही है कि 7 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चंद्रयान-2 की चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडिंग को लाइव देखेंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending