Connect with us

नेशनल

पीएम मोदी ने 1988 में कैसे कर लिया डिजिटल कैमरा-ईमेल इस्तेमाल, सोशल मीडिया पर लोग पूछ रहे सवाल

Published

on

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का एक निजी चैनल को दिया गया इटंरव्यू खूब सुर्खियां बटोर रहा है। इस इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी में कुछ ऐसा कह दिया कि सोशल मीडिया के लोग हैरान परेशान हो गए।

इंटरव्यू में पीएम मोदी ने बादलों पर बयान देखकर सुर्खियां बटोरी हीं साथ ही और भी कुछ ऐसा कह दिया जिसे सोशल मीडिया यूजर्स पचा नहीं सके।

इंटरव्यू में पीएम मोदी ने दावा किया कि उन्होंने साल 1988 में डिजिटल कैमरे से तस्वीर खींच कर ईमेल द्वारा दिल्ली भेजी थी। पीएम मोदी के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर एक नई बहस छिड़ गई है कि पीएम मोदी का दावा कितना सही है।

कांग्रेस पार्टी के IT सेल की प्रमुख दिव्या स्पंदना ने भी प्रधानमंत्री के इस कथन पर उनपर जमकर निशाना साधा। दिव्या स्पंदना ने लिखा कि क्या आप सोच सकते हैं कि 1988 में नरेंद्र मोदी की ईमेल आईडी क्या थी? मुझे लगता है dud@lol.com

क्या कहा था पीएम मोदी ने

एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘शायद, मैंने पहली बार डिजिटल कैमरा का उपयोग किया, 1987-1988 में और उस समय काफी कम लोगों के पास ईमेल रहता था। मेरे यहां विरमगाम तहसील में आडवाणी जी की रैली थी, मैंने डिजिटल कैमरा पर उनकी फोटो खींच कर दिल्ली को ट्रांसमिट की।’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

सोशल मीडिया पर क्या कह रहे हैं लोग

सोशल मीडिया पर कई आम यूजर्स इस मुद्दे पर अपनी बात रख रहे हैं। इकॉनोमिस्ट रूपा सुब्रमण्या ने लिखा कि 1988 में पश्चिमी देशों में भी कुछ ही वैज्ञानिकों के पास ही ईमेल था, लेकिन पीएम मोदी ने 1988 में ही हिंदुस्तान में ईमेल का इस्तेमाल कर लिया था। जबकि बाकी देश के लिए 1995 में इसका इस्तेमाल लागू हुआ।

वायरल वीडियो के जवाब में शाहिद अख्तर ने लिखा है कि पहला डिजिटल कैमरा 1990 में बिक्री के लिए सामने आया था। ये लोजिटेक फोटोमैन का ग्रे वर्ज़न था।

लेकिन पीएम मोदी के पास ये 1988 में ही था। इसके अलावा तब उन्होंने इंटरनेट का भी इस्तेमाल कर लिया था, जबकि भारत में 14 अगस्त, 1995 में इंटरनेट आया था।

गौरतलब है कि भारत में आम जन के लिए इंटरनेट की सुविधा विदेश संचार निगम लिमिटेड (VSNL) के द्वारा जारी की गई थी।

नेशनल

अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े राहुल गांधी, मनमोहन ने कही ये बड़ी बात

Published

on

नई दिल्ली। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद शनिवार को पार्टी वर्किंग कमेटी की बैठक चल रही है। मिली जानकारी के मुताबिक कमेटी के सामने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की है।

इस्तीफे की पेशकश के बाद सोनिया और मनमोहन सिंह राहुल को मनाने की कोशिश कर रहे है। लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि वो (राहुल) इस्तीफे पर अड़े हैं। राहुल के इस कदम के बाद उनसे मीटिंग में पूछा जा रहा है कि अगर आप नहीं तो कौन? इस पर राहुल ने चुप्पी साधी हुई है।

बता दें, मोदी की सुनामी में कांग्रेस की जो गत हुई, उससे हर कोई हैरान है। हार पर मंथन करने के लिए कांग्रेस के दिग्गज इकट्ठा हुए हैं. इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहुंच गए हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending