Connect with us

मनोरंजन

इस खास टाइम पर लड़कियों को चोरी छुपे ताड़ते थे नवाजुद्दीन सिद्दीकी, इंटरव्यू में किया खुलासा

Published

on

मुंबई। अपनी दमदार एक्टिंग से लोगों के दिलों पर राज करने वाले एक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपनी वेब सीरीज सैक्रेड गेम्स को लेकर सुर्खियों में हैं।

हाल ही में उनकी वेब सीरीज का टीजर रिलीज किया गया जिसके बाद दर्शकों में वेब सीरीज को लेकर बेसब्री और ज्यादा बढ़ गई है। वेब सीरीज के अलावा नवाज इनदिनों अपने इंटरव्यू की वजह से भी चर्चा में हैं।

एक इंटरव्यू के दौरान नवाज में अपने बचपन से जुड़े कई राज खोले। उन्होंने बताया कि बचपन में वो बेहद खुराफाती थे। वो गांव में उन्हीं लड़कों के साथ रहते थे जो खुराफात में मास्टरमाइंड थे।

गांव कनेक्शन के एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि गांव में वो किस तरह लड़कियां ताड़ा करते थे। उन्होंने बताया, ‘हमारे गांव में लाइट बिल्कुल नहीं थी। लालटेन हुआ करती थी। पर आदत पड़ गई थी। लालटेन में सारे काम करने की। पढ़ाई भी उसी में करते थे।’

नवाजुद्दीन ने कहा, ‘मुझे अच्छे वो किस्सा याद है जब अचानक से लाइट जाती थी तो बड़ा अच्छा लगता था क्योंकि हम मोहल्लों में खड़े होकर लड़कियां ताड़ते रहते थे। जैसे ही लाइट जाती थी तब हमें मौका मिलता था कि उनके पास जाकर बात करने का।’

उन्होंने कहा- मोहल्ले में इन सब चीजों का ख्याल रखा जाता है कि इसकी लड़की और उसकी लड़की…इन सब चीजों पर बहुत हंगामा हो जाता था। तो इन सब चीजों का खयाल रखते हुए कि किसी को पता ना चले जब लाइट जाती थी तो ही हमें मौका मिलता था। उसी वक्त पर हम बात करते थे।’

मनोरंजन

जानिए करण जौहर ने क्यों कहा, ‘मैं माफी नहीं मांगूंगा’

Published

on

मुंबई। फिल्म इंडस्ट्री के लोगों या अमीरों को प्राथमिकता देने के लिए फिल्मकार करण जौहर को अकसर आलोचनाओं का सामना करना पड़ता है, लेकिन करण का कहना है कि वह अपनी बनाई हुई फिल्मों के लिए माफी नहीं मांगेंगे, हालांकि बदलते वक्त के साथ वह सिनेमा बनाने की अपनी पद्धति को बदलने के लिए तैयार हैं।

मुंबई में लेखिका शुनाली खुल्लर श्रॉफ की किताब ‘लव इन द टाइम ऑफ एफफ्लूएन्जा’ की लॉन्चिंग पर मीडिया से बात करने के दौरान करण ने कहा, “मैंने उस किस्म की फिल्में इसलिए बनाई है क्योंकि मैं एक निश्चित माहौल में बड़ा हुआ हूं और वहां एक ऐसी तमन्ना भी थी जो मेरे सोचने के तरीके के साथ जुड़ी हुई थी। मैं हमेशा सोचता था कि सिनेमा असल जीवन से कहीं ज्यादा है और इसलिए मैंने ऐसे किरदार बनाए जिनकी लोग तमन्ना करते हैं।”

करण ने आगे कहा, “लेकिन कहीं न कहीं आगे चलकर सिनेमा का रचनाक्रम बदल गया और मुझे उसे स्वीकारना होगा और निश्चित करना होगा कि मेरे किरदार और भी ज्यादा जमीन से जुड़े हुए और वास्तविक हो ताकि वह अब और ज्यादा चमक-धमक वाले नहीं लगे।”

करण ने यह भी कहा, “मुझ पर एफफ्लूएंजा का आरोप है, लेकिन यह कहते हुए मैं उन फिल्मों के लिए माफी नहीं मांगूंगा जिन्हें मैंने बनाया है हालांकि मुझे लगता है कि भविष्य में मुझे इसमें बदलाव लाना होगा।”

एफफ्लूएंजा का तात्पर्य अमीरों की समस्या से है। अधिकतर ऐसा माना जाता है कि अमीरों के पास वास्तव में कोई परेशानियां नहीं होती है। जिंदगी को जीने में उन्हें अकेलापन, जीवन से उब जाना या असंतुष्ट हो जाने जैसी समस्याओं का ही सामना करना पड़ता है और इसमें खुद को खुश रखने के लिए वे पैसों के पीछे भागते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending