Connect with us

प्रादेशिक

अलवर में फिर फैली सनसनी, एंबुलेंस ड्राइवर और कंपाउंडर ने मुंह में कपड़ा ठूंसकर किया महिला से गैंगरेप

Published

on

जयपुर। राजस्थान के अलवर में गैंगरेप की वारदात के एक हफ्ते के भीतर एक दूसरी घटना सामने आई है। यहां कठूमर के सरकारी अस्पताल के डिलीवरी रूम में एक महिला से 108 एंबुलेंस के ड्राइवर और कंपाउंडर ने बलात्कार किया।

वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गए। पीड़िता की शिकायत के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। पीड़िता अलवर के कठमूर की रहने वाली है।

पीड़िता ने अपने दिए बयान में कहा कि पांच मई को मैं अपनी बहू की डिलीवरी कराने कठूमर स्थित सरकारी हॉस्पिटल पहुंची। मैंने वहां बहू की सहायता के लिए अटेंडर के रूप में वहां मौजूद थी।

सात मई की रात करीब आठ बजे ड्यूटी पर तैनात एक कंपाउंडर मेरे पास आया और उसने प्रसूता के नाम पर कागज बनवाने के लिए कहा। इस बहाने से वह मुझे डिलीवरी रूम में ले गया जहां पर एंबुलेंस का ड्राइवर पहले से ही मौजूद था।

जैसे ही मैंने डिलीवरी रूम के अंदर गई तो कंपाउंडर ने गैलरी के गेट बंद कर दिए और उसे बेड पर पटक दिया। फिर मुंह में कपड़ा ठूंसकर ड्राइवर ने मेरे साथ रेप किया। फिर जैसे ही कंपाउंडर ने भी गलत काम करने की कोशिश की तो मैंने लात मार कर गिरा दिया।

जब मैंने शोर मचाया तो उन्होंने मुझे उन्होंने थप्पड़ मारे और धमकाया कि अगर वो किसी को बताएगी तो नवजात को जान से मार देंगे। समाज के डर से मैं पुलिस को कुछ नहीं बता सकी, लेकिन आखिर में हिम्मत जुटाकर मैंने मामला दर्ज करवाया।

रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पीड़ित महिला का मेडिकल कराया गया और मामले की जांच शुरू कर दी गई है। उधर, एसआई उदयभान सिंह ने बताया कि एम्बुलेंस चालक व कंपाउंडर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है।

प्रादेशिक

सीएम योगी बोले, कोरोना की रोकथाम के लिए लखनऊ, कानपुर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाएं अधिकारी

Published

on

लखनऊ। यूपी में कोरोना के मामलों को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक करते हुए अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने लखनऊ , कानपुर नगर और मेरठ में कोविड-19 के सम्बन्ध में विशेष रणनीति बनाकर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि टेस्टिंग और सर्विलांस जितना सुदृढ़ होगा, कोरोना के प्रसार को रोकने में उतनी ही अधिक सफलता मिलेगी। योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन, टेस्टिंग और सर्विलांस के सम्बन्ध में निरन्तर फीडबैक लेते हुए उचित कार्रवाई करें। कोविड की रोकथाम के लिए लखनऊ , कानपुर नगर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाई जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। पिछले एक सप्ताह में सक्रिय कोरोना के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, यह एक अच्छा संकेत है और ये दर्शाता है कि राज्य सरकार की कोविड-19 के प्रति अपनाई गई रणनीति कारगर रही है। कोविड-19 नियंत्रण सम्बन्धी कार्य सक्रियता के साथ निरन्तर जारी रखें जाएं। उन्होंने फोकस्ड टेस्टिंग किए जाने पर बल देते हुए कहा कि कोविड बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी सुनिश्चित की जाए।

Continue Reading

Trending