Connect with us

प्रादेशिक

15 साल की छात्रा का टीचर ने बनाया अश्लील वीडियो, अच्छे नंबर के बहाने बुलाता था कोचिंग में

Published

on

नई दिल्ली। बिहार  की राजधानी पटना से जिस्मफरोशी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां पालीगंज में कोचिंग की आड़ में सेक्स रैकेट चलाया जा रहा था।

इस रैकेट के जरिए स्कूल की नाबालिग लड़कियों को फंसाकर उन्हें ब्लैकमेल किया जाता था। कोचिंग चलाने वाला आरोपी टीचर पालीगंज के एक निजी स्कूल का सहयोग से ये रैकेट चला रहा था।

सेक्स रैकेट का पर्दाफाश होने के बाद पटना पुलिस ने उस स्कूल को बंद करवा कर मामले की जांच के लिए एक टीम गठित कर दी है।

इस रैकेट का फांडाफोड़ तब हुआ जब मंगलवार की सुबह सोशल मीडिया पर टीचर और छात्रा का अश्लील वीडियो वायरल हो गया। वीडियो वायरल होने के बाद छात्रा के परिजनों ने स्कूल टीचर के खिलाफ मामला दर्ज कराया।

नाबालिग छात्रा की उम्र 15 साल है और वो स्थानीय लिटिल फ्लावर स्कूल में 6ठी क्लास में पढती है। पुलिस में दी गई शिकायत में परिजनों ने लिखा कि पढाई में कमजोर होने के कारण स्कूल के प्रबंधक ने उन्हें बुलाकर कहा कि लड़की को कोचिंग की जरूरत है। इसके लिए एक टीचर धर्मेन्द्र कुमार का चुनाव भी स्कूल के डायरेक्टर ने किया।

धर्मेंन्द्र स्कूल में अंग्रेजी पढाता था। थाने में दर्ज एफआईआर में शिक्षक के साथ-साथ स्कूल के डायरेक्टर, प्रिंसिपल और कई शिक्षकों पर आरोपी शिक्षक को बढावा देने का आरोप भी लगाया गया है। जब परिजनों को शिक्षक के इस कारनामे के बारे में पता चला तब उन्होंने स्कूल के प्रिंसिपल और शिक्षकों से शिकायत की। लेकिन कोई सुनवाई नही हुई और उन्हें डांट कर भगा दिया गया। धमकी भी दी गई कि अगर इसके बारे में किसी को बताया तो बच्ची का किसी स्कूल में दाखिला नहीं होगा और मुंह दिखाने लायक भी नही रहोगे।

पूरे मामले पर डायरेक्टर ने सफाई भी दी है। डायरेक्टर के मुताबिक वीडियो 6 महीने पुराना है। उनके मुताबिक आरोपी टीचर अब स्कूल का हिस्सा नहीं है वो 2 महीने पहले ही नौकरी छोड़ चुका है। जबकि घरवालों का कहना है कि घर पर ट्यूशन पढ़ाने का प्रलोभन देकर आरोपी शिक्षक ने ये कुकृत्य किया है। परिजनों के अनुसार आरोपी वीडियो बनाकर ब्लैकमेल करता था। वीडियो वायरल होने के बाद पूरे पालीगंज में यह चर्चा का विषय बना हुआ है। आरोपी शिक्षक फरार बताया जा रहा है. जो वीडियो वायरल हुआ है वो स्कूल के अंदर का नहीं है।

उत्तराखंड

आध्यात्म : भगवान श्रीराम का देवभूमि उत्तराखण्ड से है गहरा नाता

Published

on

By

भगवान श्रीराम का मंदिर भव्य मंदिर भले ही अयोध्या में बनाने जा रहा है, लेकिन भगवान श्रीराम का देवभूमि उत्तराखण्ड से गहरा नाता रहा है।

यहां श्रीराम भागीाथी और अलंकनंदा के संगम यानि गंगा के उदगम स्थल देवप्रयाग में भी बसते हैं, जहां उनका भव्य मंदिर भी है।

राम मंदिर भूमि पूजन के मुहूर्त को अब 48 घंटे बाकी, घट सकते हैं मेहमान

 

रामलला और रावण का बीच हुए युद्ध में जब राम ने रावण का वध किया तो उन पर ब्रहमा हत्या लग गयी, जिसके पाप से निवाराण पाने के लिये श्रीराम उस वक्त तप करने इस क्षेत्र में आये थे। जहां उन्होने सालो तक इस क्षेत्र में भी तपस्या की और तभी इस क्षेत्र को भगवान श्रीराम की तपस्थली भी कहा जाता है।

#rammandir #pauri #Uttarakhand #Ayodhya

Continue Reading

Trending