Connect with us

नेशनल

बड़ी खबरः नामांकन दाखिल करने से पहले पीएम मोदी को लेनी होगी ‘कोतवाल’ से अनुमति!

Published

on

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपना नामांकन दाखिल करने वाराणसी पहुंच चुके हैं। शुक्रवार को पीएम मोदी इस लोकसभा सीट से अपना नामांकन करेंगे लेकिन इस सीट से पर्चा भरने से पहले पीएम मोदी को ‘कोतवाल’ से अनुमति लेनी होगी।

अगर आप कोतवाल का मतलब पुलिस समझ रहे हैं तो बता दें कि हम किसी पुलिस अधिकारी की नहीं बल्कि ‘काशी के कोतवाल’ काल भैरव की बात कर रहे हैं।

काल भैरव को काशी का कोतवाल कहा जाता है। हिंदू मान्यता के मुताबिक उन्हें स्वंय भोलेनाथ ने काशी में नियुक्त किया था। कहा जाता है कि काशी में रहने के लिए काल भैरव की अनुमति लेना जरूरी होता है।

पीएम मोदी जब भी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी जाते हैं तो वह काल भैरव की पूजा जरूर करते हैं। ऐसा माना गया है कि वाराणसी में रहना है तो काशी के कोतवाल का दर्शन करना जरूरी है।

ये ऐसे देवता हैं जिन्हें सब पसंद है। चाहे वह टॉफी, बिस्किट, मिठाई या दारू से लेकर गांजा भांग। आज भी ये काशी के कोतवाल के रूप में पूजे जाते हैं। इनका दर्शन किए बगैर विश्वनाथ का दर्शन अधूरा रहता है।

वाराणसी के कोतावली पुलिस थाने में एसएचओ की कुर्सी पर बाबा काल भैरव विराजते हैं। अफसर बगल में कुर्सी लगाकर बैठते हैं। कहा जाता है कि ये परंपरा सालों से चली आ रही है।

यहां कोई भी थानेदार जब पोस्टिंग होकर आया, तो वो अपनी कुर्सी पर नहीं बैठा। कोतवाल की कुर्सी पर हमेशा काशी के कोतवाल बाबा काल भैरव विराजते हैं। वो शहर के रक्षक हैं। शहर में बिना काल भैरव की इजाजत के कोई भी प्रवेश नहीं कर सकता।

नेशनल

अब नितिन गडकरी ने Exit Poll पर उठाए सवाल, कह दी ये बड़ी बात

Published

on

नई दिल्ली। 19 मई को मतदान के बाद आए सभी एग्जिट पोल में बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए को बहुमत मिलता दिख रहा है। एग्जिट पोल जारी होने के बाद अब इसके सटीक होने पर सवाल उठने लगे हैं।

विपक्षी पार्टियों ने इसे सिरे से नकारते हुए 23 मई तक इंतजार करने की बात कही है। वहीं अब इन एग्जिट पोल्स पर उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू के बाद मोदी सरकार के मंत्री और पूर्व बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी ने सवाल खड़े किए हैं।

सोमवार को एक कार्यक्रम के दौरान गडकरी ने कहा कि एग्जिट पोल अंतिम निर्णय नहीं है। हालांकि कि उन्होंने केंद्र में दोबारा बीजेपी की सरकार बनने की बात कही।

प्रधानमंत्री की बायोपिक ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ के नए पोस्टर के लांच के अवसर पर संवाददाताओं से बातचीत में गडकरी ने कहा, “एक्जिट पोल ‘अंतिम निर्णय’ नहीं हैं, बल्कि संकेत करते हैं। हालांकि एक्जिट पोल में जो भी होता है, कमोबेश रिजल्ट में आता है।” इससे पहले उपराष्ट्रपति वैंकैया नायडू भी एक्जिट पोल को लेकर अपने राय रख चुके हैं।

नायडू ने गुंटूर में अपने संबोधन में कहा था, “हमें यह समझने की जरूरत है कि वर्ष 1999 से अधिकतर एक्जिट पोल गलत साबित हुए हैं।”

उन्होंने कहा, “मतगणना के दिन तक सभी अपना आत्मविश्वास जाहिर करते हैं। लेकिन इसका आधार नहीं है. हमें 23 तक इंतजार करना होगा.” उन्होंने कहा, “देश को एक योग्य नेता और स्थिर सरकार की जरूरत है, यह कोई भी हो सकता है.”

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending