Connect with us

नेशनल

RLSP अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा का बेतुका बयान, कहा- “रामलीला में सीता सिगरेट पीती हैं”

Published

on

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और कांग्रेस, आरजेडी के सहयोगी उपेन्द्र कुशवाहा ने एक बार फिर विवादित बयान दे दिया है। इस बार उन्होंने धर्म को समक्ष रखते हुए माता सीता पर एक बेहद  अपमानजनक टिप्पणी की है।राष्ट्रीय लोक समता पार्टी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा दरभंगा में बिहार के महागठबंधन प्रत्याशी अब्दुल बारी सिद्दीकी का प्रचार करने पहुंचे थे जहां उन्होंने बीजेपी के 5 साल के कार्यकाल पर निशाना साधा। इसी दौरान उन्होंने बीजेपी की तुलना रामलीला की पात्र माता सीता से की और कहा कि, ‘जिस सीता मैया को मंच पर देखकर लोग सिर झुकाते हैं, वही पर्दे के पीछे जाकर सिगरेट पीती है।’

कुशवाहा यहां ही नहीं रुके उन्होंने आगे कहा की वो एनडीए में रहकर आए हैं इसलिए उन्हों पता है कि वहां अंदर से कुछ और हैं और बाहर से कुछ और। उपेंद्र कुशवाहा ने यह भी कहा कि बीजेपी के कार्यकर्ताओं में रामलीला के लोगों का ज्यादा अनुभव है। इस बयान के दौरान ही उपेंद्र कुशवाहा अपनी सीमा ही लांग गए, वह बोले कि रामलीला के पात्रों में एक व्यक्ति मां सीता का रूप धारण करके आता है। जब माताएं-बहनें उसे देखती हैं तो सिर झुका लेती हैं। इतना सम्मान होता है मन में देवी के रूप के लिए। पर्दे के सामने वो मां सीता होती है लेकिन जब पर्दे के पीछे जाकर देख लीजिए तो वही सीताजी सिगरेट पीती रहती है।चुनाव के चलते नेताओं की एक दूसरे को लेकर तो बद्द्जुबानी चल ही रही थी लेकिन अब इन लोगों ने देवी-देवताओं को भी इस बद्द्जुबानी के दल-दल में घसीट लिया। लोकसभा चुनाव 2019 के प्रारंभ होते ही हिंदू धर्म एवं सभी धर्मों को ये नेता निशाना बनाते आए हैं। उपेंद्र कुशवाहा का कोई हक़ नहीं बनता किसी भी धर्म का या किसी भी देव-देवता का इस तरह भरी सभा में मजाक बनाए।

विपक्षी दलों ने उनके खिलाफ आवाज़ उठानी शुरू कर दी है और उनसे माफ़ी मांगने की अपील भी की है साथ ही यह भी कोशिश की जाएगी कि उन पर चुनाव आयोग की ओर से दवाब बनाया जाए।

नेशनल

ट्रंप के बयान पर बोले राहुल गांधी-पीएम मोदी को देश के सामने बताना होगा सच

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कश्मीर मामले पर दिए गए बयान के बाद भारतीय राजनीति में हड़कंप मच गया है।

हाल ही में ट्रंप ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ बातचीत के दौरान कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर मसले पर मध्यस्थता करने को कहा था और वह इसके लिए तैयार हैं।

ट्रंप के इस बयान के बाद मंगलवार को संसद में खूब हंगामा हुआ। जिसके बाद विदेश मंत्री एस जयशंकर ने सदन में खड़े होकर इस बयान को सिरे से खारिज कर दिया है।

भारत का साफ कहना है कि कश्मीर द्वीपक्षीय मसला है और भारत इसमें किसी तीसरे पक्ष का हस्तक्षेप नहीं चाहता। अब इस मामले में राहुल गांधी का भी बयान आया है।

सांसद गांधी ने पूरे मसले पर प्रधानमंत्री से जवाब देने को कहा है। राहुल ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री को राष्ट्र को बताना चाहिए कि उनके और ट्रंप के बीच क्या बात हुई थी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending