Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट में 6 भारतीयों की मौत, तौहीद ज़मात संगठन पर शक

Published

on

श्रीलंका की राजधनी कोलम्बो में रविवार को ईस्टर के मौके पर एक बेहद दर्दनाक घटना घुट हुई। कोलम्बो के तीन गिरजाघरों और तीन होटलों को निशाना बनाया गया जिसमे 290 लोगों की मौत हो गयी साथ ही 500 लोगों की घायल होने की खबर सामने आयी है। इस भीषण धमाके में मरने वालों में छह भारतीय भी शामिल हैं। पुलिस ने सोमवार को बताया कि हमले में मारे गए विदेशियों में कम से कम छह भारतीय नागरिकों के शामिल होने की खबर है।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने धमाके मारे गए दो अन्य लोगों की सोमवार को पहचान भी की और ट्वीट के ज़रिये इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया कि कोलंबो में भारतीय उच्चायोग ने बताया है कि नेशनल हॉस्पिटल ने तीन भारतीयों की मौत हुई है। इनके नाम लक्ष्मी, नारायण चंद्रशेखर और रमेश है। इसी में उच्चायुक्त ने ट्वीट किया, ” हम बड़े दुख के साथ कल हुए हमले में दो लोगों के. जी हनुमंतरायप्पा और एम रंगयप्पा के निधन की पुष्टि करते हैं।सूत्रों से मिली खबरके मुताबिक, इन हमलों के पीछे तौहिद जमात संगठन का नाम सामने आ रहा है। यह एक इस्लामिक संगठन है जिसका एक समुदाय भारत के तमिलनाडु में सक्रिय है। इसका नाम आतंकी घटनाओं से जुड़ता रहा है। इन हमलों से पहले श्रीलंका के मुख्य पुलिस अधिकारी ने चेतावनी थी कि देशभर के चर्चों को निशाना बनाया जा सकता है।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस मुखिया पूजुथ जयसुंद्रा ने 11 अप्रैल को श्रीलंका के वरिष्ठ अधिकारियों को चेतावनी दी थी। अपने भेजे हुए अलर्ट में उन्होंने लिखा था, ‘विदेशी खुफिया विभाग से जानकारी मिली है कि नेशनल तौहिद जमात (एनजीटी) नाम का संगठन आत्मघाती हमले करने की तैयारी कर रहा है।’ रविवार को हुए हमले ठीक उसी तरह के हैं जिन्हें इस्लामिक संगठन अंजाम देता है।

अन्तर्राष्ट्रीय

मैरेज हॉल में बम धमाका, 63 लोगों की मौत 182 घायल

Published

on

नई दिल्ली। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक शादी समारोह में हुए धमाके में 63 लोगों की मौत हो गई जबकि 182 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हैं।

टोलो न्यूज ने गृह मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि यह धमाका शनिवार देर रात हुआ। इस धमाके में मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब धमाका हुआ उस समय वेडिंग हॉल गेस्ट से पूरी तरह से भरा हुआ था। धमाके के बाद वहां चारों तरफ अफरातफरी और चीख पुकार मच गई।

धमाके के बाद फिलहाल अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। आपको बता दें कि 10 दिन के भीतर काबुल में यह दूसरा बम धमाका है।

इससे पहले आतंकियों ने कार में बम धमाका किया था जिसमें 95 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका उस समय हुआ है, जब अमेरिका समर्थित अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच शांति के लिए वार्ता चल रही है। अमेरिकी सेना की वापसी के लिए सरकार तालिबान से शांति का आश्वासन चाह रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending