Connect with us

मनोरंजन

कंगना रनौत को इस डायरेक्टर ने चप्पलों से पीटा, भगाया थियेटर से बाहर!

Published

on

नई दिल्ली। बॉलीवुड एक्टर रणदीप हुड्डा के हाल ही में किए गए एक ट्वीट से पूरे बॉलीवुड में हड़कंप मच गया है।  फिल्म हाईवे की अपनी को-स्टार आलिया भट्ट की तारीफ करते हुए उन्होंने नाम लिए बिना कंगना रनौत को काम चलाऊ एक्ट्रेस और पीड़िता बता दिया।

रणदीप के इस ट्वीट के बाद कंगना रनौत की बहन रंगोली अपनी बहन के बचाव में उतर आई हैं। रंगोली ने रणदीप की जमकर क्लास लगाई साथ ही महेश भट्ट को भी आड़े हाथों लिया। रंगोली ने ट्वीट में महेश भट्ट पर कंगना रनौत को चप्पल फेंककर मारने का आरोप भी लगाया।

रंगोली ने सोनी राजदान को टैग करते हुए ट्वीट किया कि डियर सोनी जी, महेश भट्ट ने उन्हें (कंगना रनौत) को कभी ब्रेक नहीं दिया, बल्कि अनुराग बसु ने दिया था। महेश भट्ट जी सिर्फ क्रिएटिव डायरेक्टर थे वो अपने भाई के प्रोडक्शन हाउस में.. वो उनका अपना प्रोडक्शन हाउस नहीं था।

रंगोली ने आगे लिखा, फिल्म ‘वो लम्हे’ के बाद कंगना ने उनके साथ फिल्म ‘धोखा’ में काम करने से मना कर दिया था क्योंकि उसमें कंगना को एक सूसाइड बॉम्बर का किरदार निभाना था। उन्होंने अपने ऑफिस में कंगना पर खूब चिल्लाया, इस बात से वो बहुत दुखी हुई थी। लेकिन बाद में वो फिल्म ‘वो लम्हे’ के प्रिव्यू के लिए गई थी और उन्होंने उस पर चप्पल फेंक कर मारी थी। उसे उसकी खुद की ही फिल्म नहीं देखने दी थी। वो पूरी रात रोई थी। उस समय वो सिर्फ 19 साल की थी।

मनोरंजन

आचार संहिता हटते ही चुनाव आयोग पर बरसे विवेक ओबेरॉय, कहा-अब कहां जाऊं पैसे रिकवर करने?

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 के नतीजों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को साल 2014 से भी बड़ा जनादेश दिया है। इन चुनावों में भाजपा ने पिछले बार से ज्यादा अच्छा प्रदर्शन करते हुए 303 सीटें हासिल की। भाजपा की इस प्रचंड जीत के बाद पूरे देश में पार्टी कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर है।

लोकसभा में मिली इस ऐतिहासिक जीत पर नामचीन हस्तियों से लेकर आम नागरिक, सभी मोदी को बधाइयां दे रहे हैं। पीएम मोदी की इस जीत पर एक्टर विवेक ओबेरॉय की भी खुशी का ठिकाना नहीं है।

विवेक की खुशी दोगुनी है क्योंकि 23 मई को भारी मतों से बीजेपी के जीतने के ठीक एक दिन बाद यानी 24 मई को “पीएम नरेंद्र मोदी”  सिनेमाघरों में रिलीज की गई।

फिल्म दर्शकों को काफी पसंद आ रही है। क्रिटिक्स ने भी फिल्म को अच्छी रेटिंग्स दी हैं। लेकिन तय वक्त पर फिल्म रिलीज न होने पर विवेक ओबेरॉय थोड़े निराश नजर आ रहे हैं। एक इंटरव्यू के दौरान उनका दर्द छलक उठा।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत में विवेक ओबेरॉय ने कहा- ”नरेंद्र मोदी बायोपिक की रिलीज डेट का टलना मेरे लिए सबसे बुरा अनुभव रहा। फिल्म के प्रिंट्स दुनियाभर में बांटे जा चुके थे। हम फिल्म, 11 अप्रैल को रिलीज करने वाले थे। मगर रिलीज के ठीक एक दिन पहले हमें चुनाव आयोग से नोटिस मिला। हमारे खिलाफ कड़ा फैसला लिया गया।”

विवेक ने कहा, “ये बेहद दुखद था। सभी ने फिल्म के लिए काफी मेहनत की थी। मगर फिल्म के रिलीज ना होने की वजह से सभी का मनोबल गिर गया।”

एक फिल्ममेकर के तौर पर भी ये किसी के लिए बहुत कष्टदायी है। ऐसे कैसे किसी के पास इतने राइट्स हो सकते हैं कि वो आपको फिल्म की रिलीज के एक दिन पहले बर्बाद कर दे।

हमने हाईकोर्ट में जाकर अपने हक की लड़ाई लड़ी। उन्होंने अंतिम समय पर आकर हमपे अटैक किया। विवेक ने बताया, “फिल्म के प्रमोशन के दौरान और थियेटर के टिकट बुकिंग में करोड़ों रुपयों का नुकसान हुआ। हमने हर तहर से खर्चे किए. मगर उनका कोई फायदा नहीं हुआ। ये बेहद दुखद था। मैं खर्च हुए पैसों की भरपाई के लिए कहां जाऊं। मैंने 3 हजार मेहमानों को इनवाइट किया था।”

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending