Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

करोड़पति भिखारी हर महीने कमाता है इतने रुपए, नोट गिनने के लिए लोगों को रखा है नौकरी पर

Published

on

नई दिल्ली। भारत में आपको भिखारी हर ट्रैफिक सिग्नल में पर मिल जाएगें। इन भिखारी को देखकर आपने कभी न कभी 2-4 रुपए दिए होंगे।

लेकिन आज हम आपको एक ऐसे भिखारी के बारे में बताने जा रहे जिसकी कमाई जानकर आप सोच में पड़ जाएंगे। हम बात कर रहे हैं चीन के एक भिखारी की जो हर महीने भीख मांग कर लाखों रुपए कमाता है। हर महीने उसके पास इतने नोट इकठ्ठा हो जाते हैं कि उन्हें गिनने के लिए इस शख्स को बाहर से लोगों को बुलाना पड़ता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यह भिखारी हर महीने केवल भीख मांगकर लगभग 1700 डॉलर की कमाई कर लेता है। भारत की मुद्रा के हिसाब से यह करीब एक लाख रूपए है।

इस भिखारी के 3 बच्चे हैं, जो बीजिंग के सबसे बड़े स्कूल में पढ़ाई करते हैं। यही नहीं पूरे परिवार का खर्चा भी यही उठाता है। भीख मांग-मांगकर उसने दो मंजिला घर भी बना लिया है।

ये भिखारी हर महीने पैसा जमाकर के डाक खाने पहुंचता है और वहां नोटों का ढेर लगाकर पैसे गिनता है। पैसों को गिनने के लिए वो डाकघर के स्थानीय कर्मचारियों की मदद भी लेता है इसके लिए वो कर्मचारियों को टिप के रूप में 900 रुपए भी देता है।

अन्तर्राष्ट्रीय

युवक ने लगवाई थी कोरोना की वैक्सीन, फिर उसके साथ जो हुआ…

Published

on

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है। इस वायरस ने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है। कई देश इस वायरस को रोकने के लिए इसकी वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं।

अमेरिका में भी कई कंपनियां वैक्सीन का ट्रायल कर रही हैं। मॉडर्ना कंपनी ने भी एक वैक्सीन तैयार की है जिसका ट्रायल जारी है। लेकिन इस वैक्सीन को लगाने के बाद एक युवक के अंदर इसका बुरा असर दिखा है।

युवक का नाम इआन हेडन है। वह वॉशिंगटन का रहने वाला है। 29 साल के हेडन ने कोरोना वैक्सीन लगवाई थी। जिसके बाद उसके शरीर में बदलाव देखने को मिला है। हेल्थ न्यूज वेबसाइट STAT News से बात करते हुए इआन ने बताया कि वे बेहोश हो गए थे।

हालांकि, खुद पर बुरा असर होने के बावजूद इआन ने कहा कि वे चाहते हैं कि जब वैक्सीन उपलब्ध हो तो लोग लगवाएं। इआन ने कहा कि वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने के करीब 12 घंटे बाद उन्हें 103 फारेनहाइट बुखार हो गया था।

तबीयत बिगड़ने पर इआन को इमरजेंसी क्लिनिक में इलाज किया गया, लेकिन जब वे वापस घर लौटे तो बेहोश हो गए। हालांकि, 24 घंटे के भीतर उनकी तबीयत में सुधार देखने को मिला।

इआन हेडन ने कहा कि जब उन्हें मॉडर्ना वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई तो हाथों में कुछ दर्द हुआ और हाथ कंधे से ऊपर उठाने में भी उन्हें दिक्कत हुई।

दूसरी डोज के बाद जब इआन हेडन की तबीयत बिगड़ी तो उन्हें सुबह 5 बजे इमरजेंसी क्लिनिक जाना पड़ा। कुछ इलाज के बाद डॉक्टरों ने उन्हें हॉस्पिटल जाने को कहा, लेकिन वे घर लौट आए। घर लौटने पर उन्हें उल्टी हुई और वे बेहोश हो गए।

मॉडर्ना कंपनी ने इआन के साथ ही अन्य 45 वॉलेंटियर्स को भी कोरोना वैक्सीन लगाए हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक चार वॉलेंटियर्स को गंभीर दिक्कत हुई है, लेकिन किसी को भी जान का खतरा नहीं है।

हालांकि, वैक्सीन से अन्य लोगों पर जो बुरा असर हुआ है, उसके बारे में अधिक जानकारी सामने नहीं आई है। मॉडर्ना कंपनी का कहना है कि इआन हेडन के साथ ही तीन कैंडिडेट को वैक्सीन की उच्च खुराक दी गई थी।

इआन हेडन ने कहा कि उन्हें बीमार पड़ने के बाद भी वैक्सीन लगवाने पर कोई पछतावा नहीं है। इआन ने कहा कि उन्हें इस बात का भी डर नहीं है कि इससे उनके शरीर पर लंबे वक्त तक बुरा असर पड़ सकता है।

हाल ही में मॉडर्ना कंपनी ने कहा था कि शुरुआत में जिन आठ लोगों को ट्रायल के दौरान वैक्सीन की खुराक दी गई थी उसका नतीजा सकारात्मक आया। अमेरिका की यह पहली वैक्सीन है जिसका टेस्ट लोगों पर किया गया। दवा कंपनी ने यह भी कहा था कि वैक्सीन सुरक्षित मालूम पड़ती है और वायरस के खिलाफ इम्यून रेस्पॉन्स पैदा करती नजर आती है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending