Connect with us

नेशनल

CRPF के काफिले के पास हुआ धमाका, शुरूआती जांच में सामने आई चौंकाने वाली बात

Published

on

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में श्रीनगर-जम्मू हाईवे पर शनिवार को बनिहाल के पास एक संदिग्ध कार में धमाका हो गया। धमाका सेंट्रो कार में हुआ जो हाईवे पर ख़ड़ी थी।

इस धमाके में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। हैरान करने वाली बात यह है कि जिस जगह धमाका हुआ उसके पास से सीआरपीएफ की 6-7 बसें गुजर रही थीं। मिली जानकारी के मुताबिक धमाके के बाद सीआरपीएफ का काफिले को रवाना कर दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बनिहाल टनल के पास रिहाइशी इलाके से दूर एक सेंट्रो कार जम्मू-श्रीनगर हाइवे पर खड़ी थी। जैसे ही सीआरपीएफ का काफिला नजदीक आया कार में धमाका हो गया।

धमाके के दौरान कार में कोई मौजूद नहीं था। ड्राइवर के लापता होने की वजह से सुरक्षा एजेंसियों को आतंकी हमले की आशंका जता रहे हैं। फिलहाल, ड्राइवर की तलाश की जा रही है।

शुरुआत जांच में मामला कार में सिलेंडर ब्लास्ट का लग रहा है। कार के परखच्चे उड़ गए हैं। हालांकि, ड्राइवर के गायब होने से शक की सूई आतंकी हमले की तरफ जा रही है।

धमाका इतना जबरदस्त था कि दूर होने के बावजूद सीआरपीएफ की एक बस को मामूली नुकसाना पहुंचा है और उसके शीशे टूट गए हैं। इस धमाके में सीआरपीएफ जवान या कोई भी आम नागरिक हताहत नहीं हुआ है। फिलहाल सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया है और जांच शुरू कर दी है।

नेशनल

रेलवे में ख़त्म होगा खलासी सिस्टम, नहीं होंगी नई भर्तियां

Published

on

नई दिल्ली। अगर आप भी भारतीय रेलवे में नौकरी करने का सपना संजोए हुए हैं तो आपके लिए बुरी खबर है। दरअसल रेलवे अपने वरिष्ठ अधिकारियों के आवास पर काम करने वाले ‘बंगला पियुन’ या खलासियों की नियुक्ति की औपनिवेशिक काल की प्रणाली को समाप्त करने की तैयारी कर रहा है और इस पद पर अब कोई नई भर्ती नहीं की जाएगी। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में बृहस्पतिवार को आदेश जारी किया।

रेलवे बोर्ड ने आदेश में कहा है कि टेलीफोन अटेंडेंट सह डाक खलासी (TADK) संबंधी मामले की समीक्षा की जा रही है. आदेश में कहा गया है, ‘टीएडीके की नियुक्ति संबंधी मामला रेलवे बोर्ड में समीक्षाधीन है इसलिए यह फैसला किया गया है कि टीएडीके के स्थानापन्न के तौर पर नए लोगों की नियुक्ति की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ाई जानी चाहिए और न ही तत्काल नियुक्ति की जानी चाहिए।

आदेश में कहा गया है, ‘इसके अलावा, एक जुलाई 2020 से इस प्रकार की नियुक्तियों को दी गई मंजूरी के मामलों की समीक्षा की जा सकती है और इसकी स्थिति बोर्ड को बताई जाएगी। इसका सभी रेल प्रतिष्ठानों में सख्ती से पालन किया जाए।

#indianrailways #india #centralgovernment

Continue Reading

Trending