Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

बिना अप्लाई किए ही गूगल में 1.2 करोड़ की नौकरी पा गया ये मुस्लिम छात्र, इस तरह मिली जॉब!

Published

on

नई दिल्ली। इंजीनियरिंग के बाद लाखों स्टूडेंट्स का सपना होता है कि वो गूगल कंपनी में नौकरी करे। छात्र इसके लिए जी तोड़ मेहनत भी करते हैं लेकिन कुछ ही लोगों का यह सपना पूरा हो पाता है।

आज हम आपको ऐसे स्टूडेंट के बारे में बताने जा रहे हैं जो बिना गूगल में अप्लाई किए 1.2 करोड़ रुपए की नौकरी पा गया। हम बात कर रहे हैं अब्दुल्ला खान की। अब्दुल्ला 21 साल के हैं।

वह IIT के छात्र नहीं है फिर भी गूगल की तरफ से उन्हें इतना जबरदस्त पैकेज मिला है। बता दें, वह सितंबर में 1.2 करोड़ रुपये के सालाना पैकेज पर गूगल के लंदन के ऑफिस में  शामिल होंगे।

खान “श्री एलआर तिवारी इंजीनियरिंग कॉलेज”, मीरा रोड, मुंबई से अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। कमाल की बात ये हैं उन्होंने गूगल की नौकरियों के लिए आवेदन नहीं किया था।

कंपनी के द्वारा उन्हें इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था। जब उन्होंने “प्रतिस्पर्धी प्रोग्रामिंग चुनौतियों” (competitive programming challenges) को होस्ट करने वाली साइट पर खान की प्रोफाइल देखी। जिसके बाद उन्हें गूगल से कॉल आया।

“टाइम्स ऑफ इंडिया” की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने  बताया कि गूगल से आया हुआ कॉल की मुझे उम्मीद नहीं थी। ये कॉल मेरे लिए अचानक से आया था।

 

अन्तर्राष्ट्रीय

इस कुर्सी पर बैठते ही लोगों की हो जाती है मौत, वजह जानकर कांप जाएंगे आप

Published

on

नई दिल्ली। पूरे देश में सत्ता की कुर्सी पाने के लिए इन दिनों राजनीतिक दलों में जोड़-तोड़ का दौर जारी है। लेकिन सत्ता की कुर्सी से इतर आज हम आपको एक ऐसी कुर्सी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसके बारे में जानकर आपकी रुह कांप जाएगी। आपको जानकर हैरनी होगी कि एक ऐसी कुर्सी मौजूद है जिस पर बैठते ही लोगों की मौत हो जाती है।

यह कुर्सी इंग्लैंड में मौजूद है। थॉमस बस्बी नाम के एक शख्स को इस कुर्सी का मालिक कहा जाता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बस्बी को ये कुर्सी इतनी प्यारी थी कि वो इस पर किसी को भी बैठने नहीं देता था।

कहा जाता है कि एक बार उसकी कुर्सी पर उसके ससुर बैठ गए तो उसने उनकी हत्या कर दी। कुर्सी के बारे में ये कहानी भी मशहूर है कि  मरते वक्त उसने इस कुर्सी को श्राप दे दिया था कि जो भी इस पर बैठेगा वो मर जाएगा।

जिसके बाद इस श्रापित कुर्सी को दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान एक पब में रखा गया। इतना ही नहीं इस कुर्सी को वहां पर हॉट सीट का नाम दिया गया। इसके बाद फिर इस पर बैठने वाले लोगों की मौत होने लगी।

कहते है जो व्यक्ति इस कुर्सी पर बैठता वो लौटकर अपने घर नहीं जा पाता। इस विषय पर जब विस्तार से चर्चा हुई तो पता चला कि इस पर बैठने से अब तक 63 लोगों की मौत हो चुकी है। लोगों का मानना है कि थॉमस बस्बी इस कुर्सी पर किसी को बैठते हुए आज भी नहीं देख पाते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending