Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

21 दिन तक लगातार सोती रही लड़की, उठकर देखा तो आ चुका था भयंकर बदलाव!

Published

on

नई दिल्ली। स्वस्थ रहने के लिए नींद का पूरा होना बहुत जरूरी होता है। शोधकर्ताओं के मुताबिक किसी भी शख्स को स्वस्थ रहने के लिए कम से कम 6 घंटे की नींद लेना बहुत जरुरी होता है।

लेकिन अगर कोई अपनी नींद पूरी करने में 21 दिनों का समय ले तो क्या कहेंगे। जी हां आपने बिलकुल सही सुना। ब्रिटेन से एक ऐसा अजीबोगरीब मामला सामने आया है जिसे जानकर आपके होश उड़ जाएंगे।

दरअसल, यहां एक लड़की को इतनी भयानक नींद आई कि वह 15 से 20 घंटे नहीं बल्कि 3 हफ्तों तक लगातार सोती रही। इतने दिनों तक सोने की वजह से उसके कई जरुरी काम भी छूट गए जिससे उसे भारी नुकसान उठाना पड़ा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 21 साल की Rhoda Rodriguez Diaz  रेयर सिंड्रोम से पीड़ित है। जिसकी वजह से उसे काफी नींद आती है। Rhoda अभी सेकेंड ईयर की छात्रा है।

तीन हफ्तों तक लगातार सोने के कारण उसकी परीक्षा भी छूट गई। यह परीक्षा उसकी यूनिवर्सिटी की अहम परीक्षा थी, जिसमें वो हिस्सा नहीं ले सकी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, Kleine Levin Syndrome के कारण Rhoda एक बार का नैप लेने पर कम से कम 21 घंटों तक सोती रहती है। Rhoda को इस बीमारी के बारे में 2018 सितंबर में पता चला था।

अपनी नींद से परेशान Rhoda ने पहले इसका इलाज करवाया, लेकिन कुछ फायदा नहीं हुआ। हालांकि डॉक्टर्स का कहना है कि ये एक न्यूरोलॉजी बीमारी है और उम्र के साथ-साथ ये सिंड्रोम का असर कम होता जाता है।

अन्तर्राष्ट्रीय

मैरेज हॉल में बम धमाका, 63 लोगों की मौत 182 घायल

Published

on

नई दिल्ली। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक शादी समारोह में हुए धमाके में 63 लोगों की मौत हो गई जबकि 182 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हैं।

टोलो न्यूज ने गृह मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि यह धमाका शनिवार देर रात हुआ। इस धमाके में मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब धमाका हुआ उस समय वेडिंग हॉल गेस्ट से पूरी तरह से भरा हुआ था। धमाके के बाद वहां चारों तरफ अफरातफरी और चीख पुकार मच गई।

धमाके के बाद फिलहाल अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। आपको बता दें कि 10 दिन के भीतर काबुल में यह दूसरा बम धमाका है।

इससे पहले आतंकियों ने कार में बम धमाका किया था जिसमें 95 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका उस समय हुआ है, जब अमेरिका समर्थित अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच शांति के लिए वार्ता चल रही है। अमेरिकी सेना की वापसी के लिए सरकार तालिबान से शांति का आश्वासन चाह रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending