Connect with us

नेशनल

लोकसभा चुनाव 2019: 56 पार्टियों का बन गया महागठबंधन, अब क्या करेगी बीजेपी?

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए विपक्षी दल एकजुट होने लगे हैं। शनिवार को आम चुनाव के मद्देनजर 56 पार्टियों ने मिलकर महागठबंधन को अंतिम रूप दिया।

यह महागठबंधन महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के खिलाफ चुनाव लड़ेगा। इस महागठबंधन के दो बड़ी पार्टियां कांग्रेस और एनसीपी सीटों के बंटवारे पर अंतिम फैसला लेगी।

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में लोकसभा की 48 सीटें हैं। केंद्र की सत्ता में आने के लिए उत्तर प्रदेश के बाद यह राज्य सबसे अहम माना जाता है। जिन छोटी पार्टियों के चुनाव लड़ने की संभावना है, उनमें प्रमुख हैं-स्वाभिमानी शेतकारी संगठन, बहुजन विकास अगाडी और युवा स्वामिभमानी पार्टी। सत्तारूढ़ बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने 48 सीटों पर 25:23 के अनुपात में अपने-अपने उम्मीदवार खड़े करेगी।

दूसरी ओर शिवसेना ने अपने कोटे की 23 सीटों में से 21 सीटों पर अपने उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं। उद्धव ठाकरे ने ज्यादातर मौजूदा सांसदों को ही दोबारा मौका दिया है। मुंबई में पार्टी ने मुंबई दक्षिण से अरविंद सावंत, मुंबई दक्षिण-मध्य से राहुल शेवाले और मुंबई उत्तरपूर्व से गजानन कृतिकर को उम्मीदवार बनाया है। मुंबई की बची तीन सीटें गठबंधन के उसके साथी बीजेपी के पास है।

कोंकण क्षेत्र से, पार्टी ने थाणे से राजन विचारे, कल्याण से श्रीकांत शिंदे, रायगढ़ से केंद्रीय मंत्री अनंत गीते, रत्नागिरी-सिधुदुर्ग से विनायक राऊत को उम्मीदवार बनाया है. इसके अलावा पार्टी ने कोल्हापुर सीट से संजय मंडालिक, हटकानंगाले से धर्यशील माने, शिर्डी से सदाशिव लोखांडे, शिरूर से शिवाजीराव अधलराव, औरंगाबाद से चंद्रकांते खर और मवाल से श्रीरंग बर्ने को उम्मीदवार बनाया गया है।

वहीं पूर्वी महाराष्ट्र में, यवतमाल-वाशिम से भावने गवली, बुलढ़ाना से प्रतापराव जाधव, रामटेक से क्रुपाल तुमाने, अमरावती से आनंदराव अदसुल, परभणी से संजय जाधव, हिंगोली से हेमंत पाटिल और ओस्मानाबाद से आमराजे निमबाल्कर को उम्मीदवार बनाया गया था. वरिष्ठ शिवसेना नेता और उद्योग मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि दो अन्य सीटों पालघर और सतारा के लिए उम्मीदवारों की घोषणा अगले कुछ दिनों में की जाएगी।

बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के तहत, दोनों पार्टियां यहां की 48 संसदीय सीट में से 25:23 के अनुपात से चुनाव लड़ रही हैं. पार्टी ने गठबंधन के अपने पांच छोटे दलों के लिए कोई सीट नहीं छोड़ी है। इस लोकसभा चुनाव में महाराष्ट्र में एक तरफ बीजेपी-शिवसेना का गठबंधन होगा तो दूसरी ओर उन 56 पार्टियों का महागठबंधन होगा जिनकी अगुआई कांग्रेस और एनसीपी जैसे दल करेंगे।

यह पहला मौका होगा जब महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना बनाम महागठबंधन की लड़ाई इतने बड़े स्तर पर देखी जाएगी। इस नए महागठबंधन के बाद अब देखना होगा कि बीजेपी और शिवसेना इन 56 विपक्षी दलों से कैसे पार पाती है।

 

नेशनल

अरुण जेटली के निधन पर अमित शाह ने जताया दुख, कहा-ये मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है

Published

on

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का शनिवार को निधन हो गया। दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) में 12 बजकर 5 मिनट पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

जेटली के निधन से भाजपा कार्यकर्ताओं समेत देशभर में शोक की लहर है। उनके निधन पर भाजपा के साथ ही विपक्षी दलों के नेताओं ने गहरा शोक जताया है।

गृहमंत्री अमित शाह ने भी जेटली के निधन पर दुख जताया है। शाह ने ट्विटर पर जताते हुए कहा कि अरुण जेटली के निधन से अत्यंत दुःखी हूं। जेटली का जाना मेरे लिये एक व्यक्तिगत क्षति है।

उन्होंने कहा कि उनके रूप में मैंने न सिर्फ संगठन का एक वरिष्ठ नेता खोया है बल्कि परिवार का एक ऐसा अभिन्न सदस्य भी खोया है जिनका साथ और मार्गदर्शन मुझे वर्षों तक प्राप्त होता रहा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending