Connect with us

नेशनल

प्रमोद सावंत ने संभाली गोवा की कमान, 11 मंत्रियों के साथ ली शपथ

Published

on

रविवार रात 63 वर्ष की उम्र में मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद गोवा को लेकर सियासी उलझनों के बीच प्रमोद सावंत को सीएम पद के लिए आधी रात में शपथ समारोह हुआ। रात करीब एक बजकर पचास मिनट पर प्रमोद सावंत ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इसके साथ ही गोवा में नई सरकार का गठन हो गया। गोवा की राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने प्रमोद सावंत और उनके कैबिनेट को पद और गोपनीयता की शपथ दिलवाई।

प्रमोद सावंत गोवा के नए मुख्यमंत्री बने, राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने देर रात को प्रमोद सावंत और उनके नए मंत्रिमंडल को शपथ दिलवाई, राजभवन में तालियों की गड़गड़ाहट के बीच एक नई सरकार अस्तित्व में आ गई।

प्रमोद सावंत के अलावा 11 मंत्रियों ने शपथ ली, जिसमें सुदिम धवलीकर और विजय सरदेसाई को डिप्टी सीएम की कुर्सी सौंपी गई।

गोवा मंत्रिमंडल के सदस्य
प्रमोद सावंत (मुख्यमंत्री)
सुदिन धवलीकर (उपमुख्यमंत्री)
विजय सरदेसाई (उपमुख्यमंत्री)
विनोद पालयेकर
जयेश सालगांवकर
विश्वजीत राणे
मनोहर अजगांवकर
रोहन खंवटे
गोविन्द गावडे
मिलिंद नाइक
नीलेश काबराल
मोविन गोदिन्हो

देर रात राज भवन में ताजपोशी हुई, ताजपोशी से पहले राष्ट्रगान की धुन बजी, लोग राष्ट्रगान के सम्मान में खड़े हुए, इसके बाद राज्यपाल मृदुला सिन्हा ने गोवा के नए मुखिया को राज्य की कमान सौंपी, प्रमोद सावंत ने संविधान की शपथ ली।

आरएसएस कैडर हैं प्रमोद सावंत
46 वर्षीय प्रमोद सावंत गोवा में भाजपा के अकेले ऐसे विधायक हैं जो आरएसएस कैडर से हैं। मुख्यमंत्री बनने से पहले वह पार्टी के प्रवक्ता और गोवा विधानसभा के अध्यक्ष थे। 2017 में जब भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार बनी तो उन्हें विधानसभा का अध्यक्ष बनाया गया। वह भाजपा सरकार के सबसे पसंदीदा नेता हैं। इस बात का अंदाजा हम इसी बात से लगाया जा सकता है कि परिकर के निधन के बाद जब विकल्प की बात आई तो सबसे पहले उन्हीं का नाम सामने आया।

नेशनल

निर्भया के दोषियों को अब इस तारीख को होगी फांसी, कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट

Published

on

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप केस के चारों दोषियों की फांसी की नई तारीख आ गई है। कोर्ट ने सभी दोषियों के लिए नया डेथ वारंट जारी कर दिया है।

सूत्रों के मुताबिक चारों को 1 फरवरी की सुबह 6 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। चारों दरिंदों के पास अब केवल 350 घंटे ही शेष हैं। बता दें कि शुक्रवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दोषी मुकेश की दया याचिका खारिज कर दी थी।

इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट ने चारों दोषियों को 22 जनवरी सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाने की तारीख तय की थी, लेकिन इसके बाद दोषी मुकेश सिंह ने राष्ट्रपति के सक्षम दया याचिका लगा दी थी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा निर्भया के दोषी मुकेश सिंह की दया याचिका खारिज होने के बाद कोर्ट ने नया डेथ वारंट जारी किया है।

वहीं, इस मामले में नया डेथ वारंट जारी होने के बाद निर्भया की मां आशा देवी ने कहा कि जब तक दोषियों को फांसी पर नहीं लटका दिया जाता है, तब तक मेरी बेटी को न्याय नहीं मिलेगा। मुझको पिछले सात साल से तारीख पर तारीख दी जा रही है। उन्होंने कहा कि हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां दोषी की सुनी जाती है। हर जगह निर्भया के गुनहगारों का ही मानवाधिकार देखा जा रहा है। हमारा मानवाधिकार कोई नहीं देख रहा है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending