Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

अपनी मेहनत से लाखों रूपए कमाता है ये करामाती सूअर, जानकर रह जाएंगे दंग!

Published

on

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका का एक सुअर दुनियाभर में प्रसिद्ध हो रहा है। दरअसल ये कोई आम सुअर नहीं है ये एक खास तरह का आर्टिस्ट है। ये सुअर मुंह में कूची पकड़ कर तरह-तरह की पेंटिंग्स बना लेता है।

उसकी बनाई पेंटिंग्स की प्रदर्शनी भी लगाई जा चुकी है। इस सूअर का नाम पिगकासो है। पिगकासो की पेंटिंग्स लाखों में बिक रही है। पिगकासो विश्व का एकलौता सूअर पेंटर है।

पिगकासो की खास बात यह है कि जैसे ही उसके दातों में कूची फंसाई जाती है और सामने कैनवस रखा जाता है, तो वो कूची को रंगों में डालकर उसे कैनवस पर फेरना शुरू कर देता है। इससे कई तरह की एबस्ट्रेक्ट पेंटिंग बनने लगती है।

pigcasso।myshopify।com नाम की साइट पर उसकी ज्यादातर पेंटिग्स की प्रदर्शनी लगाई गई हैं। फिलहाल इस साइट में पिगकासो की बनाई गईं 64 पेंटिंग्स रखी गई हैं।

पेंटिग्स के साथ उनकी कीमत भी दर्ज है। ये पेंटिंग्स अलग अलग नामों से इस साइट पर प्रदर्शित हैं। pigcasso।org/gallery पर भी आप पिगकासो का आर्ट वर्क देख सकते हैं।

दरअसल, साउथ अफ्रीका की एनिमल वेलफेयर कैंपेनर जोयने लेफसन ने उसे एक फार्म से बचाया, फिर उसे केपटाउन के पास एक फॉर्म में रखा गया, जहां आमतौर पर बचाए गए जानवर रखे जाते हैं।

पिगकासो की मालिकिन जोयने लेफसन कहती हैं, सुअर बहुत स्मार्ट जानवर होते हैं। एक दिन जोयने ने देखा कि युवा पिगकासो ने वहां काम कर रहे एक कर्मचारी का रंगने का ब्रश मुंह से उठाया और उसे वो इधर उधर फिराने लगी, तब जायने ने उसे कैनवस देने का फैसला किया।

रिपोर्ट-मानसी शुक्ला 

 

अन्तर्राष्ट्रीय

रूस के राष्ट्रपति का एलान- हमने बना ली कोरोना की वैक्सीन, मेरी बेटी को लगा टीका

Published

on

मॉस्को। जब पूरी दुनिया में कोरोना जमकर कहर बरपा रहा है ऐसे में रूस से एक उम्मीद की किरण जगी है।
दरअसल रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने ऐलान किया है कि हमने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना ली है और इसे देश में रजिस्टर्ड भी करा लिया है। पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन का टीका उनकी बेटी को भी लगाया गया है। पुतिन ने कहा- मेरी बेटी ने भी इस वैक्सीन का टीका लिया है, शुरू में उसे हल्का बुखार था लेकिन अब वह बिलकुल ठीक है।

पुतिन ने कहा कि इस सुबह दुनिया में पहली बार, नए कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्‍सीन रजिस्‍टर्ड हुई।” उन्‍होंने उन सभी को धन्‍यवाद दिया जिन्‍होंने इस वैक्‍सीन पर काम किया है। पुतिन ने कहा कि वैक्‍सीन सारे जरूरी टेस्‍ट से गुजरी है। अब यह वैक्‍सीन बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए भेजी जाएगी।

रूसी अधिकारियों के मुताबिक, Gam-Covid-Vac Lyo नाम की इस वैक्सीन को तय योजना के मुताबिक रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और रेग्युलेटरी बॉडी का अप्रूवल मिल गया है। बताया जा रहा है कि इस वैक्सीन को सबसे पहले फ्रंटलाइन मेडिकल वर्कर्स, टीचर्स और जोखिम वाले लोगों को दिया जाएगा। रूस ने कई देशों को भी वैक्‍सीन सप्‍लाई करने की बात कही है। रूस का कहना है कि वह अपने कोरोना टीके का बड़े पैमाने पर उत्‍पादन सितंबर से शुरू कर सकता है।

Continue Reading

Trending