Connect with us

नेशनल

Mumbai Bridge Collapse : मुंबई के CST के पास फुटओवर ब्रिज गिरा, 5 की मौत 36 घायल

Published

on

मुंबई। (द्वारकेश बर्मन) छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के पास हुए फुट ओवरब्रिज हादसे में खबर लिखे जाने तक आठ लोगों की मौत की सूचना आ रही थी जबकि इसकी अभी कोई आधिकारिक पुष्टि नही किन्तु संख्या में बढ़ोतरी का अनुमान जताया जा रहा है ।

मुंबई में छत्रपति शिवाजी टर्मिनस के पास हुए फुट ओवरब्रिज हादसे में आठ लोगों की मौत हो गई है और बताया जा रहा है कि 36 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। राहत और बचाव कार्य जारी है।

इस बार में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री विनोद तावड़े ने कहा है कि ब्रिज की कंडीशन खराब नहीं थी। मंत्री ने कहा कि रेलवे और बीएमसी इसकी जांच करेंगे।

मंत्री विनोद तावड़े ने कहा, ‘ब्रिज का एक स्लैब गिरा है। रेलवे और बीएमसी इसकी मेंटनेंस के बारे में जांच करेंगे। ब्रिज खराब कंडीशन में नहीं था, इसमें छोटी-मोटी रिपेयरिंग की जरूरत थी, जोकि जारी थी। काम पूरा नहीं हुआ फिर भी इसे चालू रखा गया था, इसके बारे में भी जांच की जाएगी।’

बता दें कि हादसे में घायल हुए लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। ब्रिज के बाकी स्लैब को भी अब गिराया जा रहा है।

इस हादसे पर दुख जताते हुए महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने ट्वीट किया, ‘मुंबई में टाइम्स ऑफ इंडिया बिल्डिंग के पास हुए फुटओवर ब्रिज हादसे से की खबर सुनकर कष्ट हुआ। अभी बीएमसी कमिश्नर और मुंबई पुलिस के अधिकारियों से बात की है और उन्हें निर्देश दिए हैं कि वे रेल मंत्रालय के अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर काम करें और तेजी के साथ राहत और बचाव कार्य करें।’

डीआरएम बोले- ब्रिज के देखरेख का काम बीएमसी का

रेलवे के सूत्रों के अनुसार, इस ब्रिज के मलबे में अभी भी कई लोगों के दबे होने की आशंका है, जिसे देखते हुए इलाके में बड़े स्तर पर राहत कार्य शुरू कराए गए हैं। मुंबई के जिस स्थान पर यह हादसा हुआ उससे कुछ ही दूरी पर मुंबई पुलिस और मुंबई महानगरपालिका के मुख्यालय स्थित हैं। सेंट्रल रेलवे के डीआरएम डीके शर्मा के अनुसार, जिस ब्रिज के गिरने से यह हादसा हुआ उसकी देखरेख का काम बीएमसी करती है। उन्होंने बताया कि ब्रिज का निर्माण कार्य रेलवे ने कराया था, लेकिन रखरखाव की जिम्मेदारी बीएमसी की ही थी।

पुल के नीचे मौजूद थे तमाम लोग:-

अब तक मिली सूचना के मुताबिक, राहत कार्यों के लिए एनडीआरएफ, मुंबई पुलिस और रेलवे पुलिस की टीम को भी मौके पर लगाया गया है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि जिस वक्त यह हादसा हुआ ब्रिज के नीचे बड़ी संख्या में लोग और वाहन मौजूद थे। ऐसे में इस पुल के मलबे में कई लोग दबे हो सकते हैं। इस संभावना को देखते हुए एनडीआरएफ और पुलिस की टीम जल्द से जल्द लोगों को बाहर निकालने के प्रयास कर रही है।

नेशनल

भारत के सख्त रुख के आगे झुका चीन, गलवान से 2 किमी पीछे हटे सैनिक

Published

on

नई दिल्ली| लद्दाख के गलवान में भारत के आक्रामक रुख के बाद आखिरकार चीन ने अपने कदम पीछे हटा लिए हैं। एलएसी पर भारत के अडिग रुख को देखते हुए गलवान से चीन के सैनिकों ने पीछे हटना शुरू कर दिया है जिसका मतलब है गलवान में भारत की बड़ी जीत हुई है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक़, चीनी सैनिक पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसा वाली जगह से 2 किलोमीटर पीछे हट गए हैं। गलवान से चीन के सैनिकों ने अपने टेंट हटा लिए हैं। इसके अलावा बख्तरबंद गाड़ियां वापस जा रही हैं। हालांकि भारत अभी चीन के सैनिकों के वापस जाने के मामले पर बारीकी से नजर रखे हुए हैं।

15 जून की घटना के बाद चाइनीज पीपल्स लिब्रेशन आर्मी के सैनिक उस स्थान से इधर आ गए थे जो भारत के मुताबिक एलएसी है। भारत ने भी अपनी मौजूदगी को उसी अनुपात में बढ़ाते हुए बंकर और अस्थायी ढांजे तैयार कर लिए थे। दोनों सेनाएं आंखों में आंखें डाले खड़ी थीं।

कमांडर स्तर की बातचीत में 30 जून को बनी सहमति के मुताबिक चीनी सैनिक पीछे हटे या नहीं, इसको लेकर रविवार को एक सर्वे किया गया। अधिकारी ने बताया, ”चीनी सैनिक हिंसक झड़प वाले स्थान से दो किमी पीछे हट गए हैं। अस्थायी ढांचे दोनों पक्ष हटा रहे हैं।” उन्होंने बताया कि बदलवा को जांचने के लिए फिजिकल वेरीफिकेशन भी किया गया है।

#galwan #india #china #indianarmy

Continue Reading

Trending