Connect with us

प्रादेशिक

पत्नी बीमार हुई तो बेच दिया 11 महीने का बच्चा, फिर सालों बाद जो हुआ…

Published

on

नई दिल्ली। दिल्ली के मालीवाल शाहबाद डेरी क्षेत्र से दिलदहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक शख्स ने अपनी पत्नी की बीमारी की वजह से 11 महीने के बच्चे को बेच दिया।

पत्नी के ठीक होने के बाद जब दंपति बच्चे को मांगने गया तो उस परिवार कोई पता ही नहीं चल सका। कई बार पुलिस के चक्कर लगाने के बाद भी बच्चे की बरामदगी नहीं हो सकी। बाद में महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल के हस्ताक्षेप के बाद बच्चा अपनी मां के पास पहुंच गया।

दरअसल, महिला सुरक्षा यात्रा के दौरान जब स्वाति मालीवाल शाहबाद डेरी क्षेत्र में महिलाओं को संबोधित कर रही थीं तभी एक महिला ने उनसे संपर्क किया और उनको अपनी आप-बीती सुनाई।

पीड़ित महिला ने अपना दर्द बयां करते हुए स्वाति को बताया कि उसके पति ने उसके 11 महीने के बच्चे को 2 साल पहले बेच दिया था। उस समय वह बहुत बीमार थी।

उसने बताया कि वह अपने बच्चे को ढूंढ़ने की कोशिश कर रही है, एक थाने से दूसरे थाने जा रही है, मगर उसे कोई मदद नहीं मिल रही। उसने बताया कि उसे यह भी नहीं पता कि उसका बच्चा जिन्दा है भी या नहीं।

आयोग की अध्यक्ष ने तुरंत शिकायत पर संज्ञान लिया और शाहबाद डेरी थाने के एसएचओ से तुरंत कार्रवाई करने को कहा। एसएचओ ने भी उन्हें कार्रवाई का भरोसा दिलाया। पुलिस ने जल्द से जल्द एक टीम का गठन किया और  2 दिन में बच्चे को दिल्ली के खजूरी इलाके से ढूंढ निकाला।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बच्चे के पिता ने 11 महीने के बच्चे को एक पति-पत्नी को बेच दिया था जिनका कोई बच्चा नहीं था। उसकी पत्नी बहुत बीमार थी और वह बच्चे की देखभाल नहीं कर सकता था इसलिए उसने ऐसा किया।

2-3 महीने के बाद जब वह बच्चे को वापस लेने गया तो उन लोगों को नहीं ढूंढ पाया. उसको केवल इतना पता था कि वो लोग खजूरी में रहते थे. बच्चे के माता-पिता ने अपनी पूरी कोशिश से उनको ढूंढना जारी रखा, उन्होंने दिल्ली पुलिस से भी संपर्क किया, मगर कोई कार्रवाई नहीं हुई लेकिन अब दिल्ली महिला आयोग के प्रयास से बच्चा सही सलामत अपने माता-पिता से मिल गया।

प्रादेशिक

पेड़े की वजह से बेहोश हो गए थे पतंजलि के सीईओ बालकृष्ण

Published

on

नई दिल्ली। पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ बालकृष्ण की तबीयत शुक्रवार को अचानक खराब हो गई जिसके बाद उन्हें पास के भूमानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन डॉक्टरों के उनकी गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें तुरंत एम्स रेफर कर दिया।

बालकृष्ण की तबीयत बिगड़ने पर सोशल मीडिया पर अफवाहें उड़ने लगी कि बालकृष्ण को दिल का दौरा पड़ा है, लेकिन अब इस मामले में नया मोड़ आ गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक किसी व्यक्ति ने उन्हें पेड़ा लाकर दिया था जिसको खाने के बाद बालकृष्ण बेहोश हो गए और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा।

पतंजलि की तरफ से एसकेजी तिजरावाला ने पक्ष रखते हुए कहा कि अभी बालकृष्ण की हालत में सुधार है। उन्होंने कहा, ‘बाबा रामदेव ने आचार्य बालकृष्ण के स्वास्थ्य लिए चिंता जताने वाले करोड़ों लोगों का आभार जताते हुए कहा कि जन्माष्टमी पर एक व्यक्ति पेड़ा लेकर आया था, जिसे खाने के बाद वो बेहोश हो गए। हालांकि, अब स्थिति सामान्य हो रही है.’

उन्होंने आगे बताया कि एम्स द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया है कि उनके स्वास्थ्य के प्रमुख पैरामीटर सामान्य हैं। एम्स के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक बालकृष्ण का ब्लड प्रेशर, ईसीजी और इको आदि जांच की रिपोर्ट नॉर्मल है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending