Connect with us

नेशनल

पुलवामा में एक बार फिर से सेना पर हुआ हमला, आतंकियों ने किया IED Blast

Published

on

IED Blast

अभी 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकी हमला हुआ ही था। इसको लेकर भारत-पाकिस्तान के बीच काफी तनाव भी चल रहा है। अब एक बार फिर आतंकियों ने पुलवामा के त्राल इलाके में IED ब्लास्ट किया है। इसमें सेना के जवानों को निशाना बनाया गया लेकिन इस बार सेना ने इस मंसूबे को नाकामयाब कर दिया।

IED Blastफिलहाल इस हमले में किसी भी सेना के जवान को नुकसान नहीं पहुंचा है। इससे ये साफ होता दिख रहा है कि पाकिस्तान ना सुधरेगा और ना ही आतंकियों के खिलाफ कोई कार्यवाई करेगा।

इस वीडियों को देखें- 10 बजे आने वाले Abhinandan Varthaman की वापसी पर फंसा पेंच! |Wing Commander| Wagha Border

इतना ही नहीं सिर्फ आतंकियों को पनाह देगा। बता दें कि भारत के तरफ से सौंपे गए डोजियर में उसने सारे सुबूत दे दिए थे लेकन अब पाकिस्तान आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को बचाने की कोशिश कर रहा है।

नेशनल

कोरोनाः भारत में लॉकडाउन न होता तो इतने लाख हो सकते थे संक्रमित, शोध में हुआ खुलासा

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में कोहराम मचा दिया है। इस जानलेवा वायरस से अब तक 48 हजार से ज्यादा लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। भारत में भी हाल के दिनों में इस वायरस ने तेजी से अपने पांव पसारे हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय के ताजा आंकड़े के मुताबिक कोरोना वायरस से अबतक 1965 लोग संक्रमित पाए गए हैं जबकि 151 लोगों का इलाज कर उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया है। इस बीच लॉकडाउन को लेकर हुए शोध में एक नई बात सामने आई है।

एक शोध के मुताबिक लॉकडाउन के 20वें दिन तक कोरोना वायरस के संभावित मामलों में 83 फीसदी तक कमी आ सकती है। यूपी के शिव नादर विश्वविद्यालय के इस अध्ययन से इस वायरस से लड़ने को लेकर उम्मीद जगी है।

अध्ययन के मुताबिक बंद की वजह से संदिग्ध लक्षण वाले लोगों को एक या दो दिन में ही अलग किया जा रहा है। अध्ययन में यह बात भी सामने आई है कि अगर लॉकडाउन न होता तो संक्रमित लोगों की संख्या 2 लाख 70 हजार 360 तक पहुंच जाती और 5407 लोगों की मौत हो जाती। शिव नादर विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर समित भट्टाचार्य के मुताबिक हम यह भी मानते हैं कि इससे 80 से 90 फीसदी लोग सामुदायिक दूरी में रह रहे हैं।

भट्टाचार्य ने कहा कि इस तरह की आशावादी स्थिति में हमने अनुमान लगाया है कि लॉकडाउन के पहले दिन से लेकर 20वें दिन तक में लक्षण दिखने वाले 83 फीसदी मामले कम हो सकते हैं। यानी इस तरह से संभावित 30,790 में से 3,500 लोग ही संक्रमित होंगे और 619 संभावित मौतों में से 105 ही मौत होंगी। देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1965 तक पहुंच गई है जबकि मरने वालों की संख्या 50 है।

अनुसंधानकर्ताओं का मानना है कि देश में बंद की वजह से संक्रमण का एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में संचार होने की गति धीमी होगी और संक्रमण के मामले कम होंगे।

विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर नागा सुरेश विरापु ने कहा कि हमारा अनुमान इस ओर इशारा करता है कि भारत में अगले 10 से 20 दिन में 5000 से 30,790 तक लक्षण वाले मामले हो सकते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending