Connect with us

मुख्य समाचार

भागीरथ बनकर बुंदेलखंड को जलमय कर दिया डीएम मानवेंद्र सिंह ने, सभी को पढ़नी चाहिए इनकी कहानी

Published

on

मानवेंद्र सिंह

उत्तर प्रदेश में ललितपुर ज़िले में ओडी नदी के पुनर्जीवन व जल स्रोतों के पुनरुद्धार के काम के लिए जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने दिल्ली में 25 फरवरी 2019 को राष्ट्रीय जल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

मानवेंद्र सिंहडीएम मानवेंद्र सिंह को यह पुरस्कार दो अलग-अलग श्रेणियों (ओडी नदी के पुनर्जीवन और जल स्रोतों के पुनरुद्धार ) के लिए दिया गया है। ललितपुर जिले में ओडी नदी पुनर्जीवन के लिए राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कृत मिलने पर जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह की बड़ी पहचान बन गई है।
मानवेंद्र सिंहज़िले में ओडी नदी को पुनर्जीवन मिलने के बाद स्थानीय किसानों को खेती के लिए पर्याप्त मात्रा में सिंचाई के लिए पानी मिल रहा है। डीएम मानवेंद्र सिंह बताते हैं,” पहले ज़िले में किसानों को सिंचाई के लिए पानी न मिलने के कारण खेती में बड़ा नुकसान सहना पड़ता था, लेकिन ओडी नदी के पुनर्जीवन के काम के बाद नदी में जलधारा वापस लौट आई है, इससे किसानों को फसल में दो से तीन सिंचाई का पानी मिल जाता है।”
मानवेंद्र सिंहजनपद में ओडी नदी के पुनर्जीवन व जल स्रोतों के पुनरुद्धार के काम में जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह को रैमेन मैक्सेसे पुरस्कार से सम्मानित जलपुरुष राजेंद्र सिंह का मार्गदर्शन मिला। इसकी मदद से ज़िले में व्यापक स्तर पर जलसंरक्षण का हुआ, जिससे ओडी नदी पुनर्जीवन संभव हो सका है।

इससे पहले डीएम मानवेंद्र सिंह को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के पौत्र अरुण गांधी और प्रपौत्र तुषार गांधी ने ‘पर्यावरण संरक्षक सम्मान’ से भी सम्मानित किया गया।

उत्तराखंड

दून पब्लिक स्कूल की 25वीं वर्षगांठ पर सीएम त्रिवेंद्र ने कही ये बड़ी बात

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शनिवार को भानियावाला, देहरादून में दून पब्लिक स्कूल की 25वीं वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित समारोह का दीप प्रज्वलित कर शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री ने समस्त विद्यालय परिवार को विद्यालय की 25 वीं वर्षगांठ के अवसर पर बधाई व शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि कोई भी विद्यालय तब तक एक अच्छा विद्यालय नहीं होता जब तक उसमें अच्छे शिक्षक ना हो।

क्योंकि सभी अच्छे संसाधनों के होते हुए भी बिना शिक्षक के वह विद्यालय पूर्ण नहीं होता और एक अच्छा शिक्षक सभी संसाधनों की कमी को पूर्ण कर सकता है।

उन्होंने कहा कि अगर शिक्षा संस्कारपूर्ण नहीं है, तो व्यर्थ है। बिना संस्कार के शिक्षा अधूरी है और जो व्यक्ति अपने समाज, राज्य व देश के विषय में नहीं सोचता वह शिक्षित नहीं है।

मुख्यमंत्री ने सभी विद्यार्थियों एवं विद्यालय परिवार को विद्यालय के 25 सफलतम वर्ष पूर्ण करने के लिए बधाई व शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने विद्यालय के टाॅपर बच्चों को सम्मानित भी किया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending