Connect with us

प्रादेशिक

काशी के इस युवा ने कर दिया कुछ ऐसा, PM Modi हो गए गले लगाने को मजबूर, बन गया दोस्त

Published

on

लोकसभा चुनाव 2019 के चुनाव प्रचार के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र Modi दो दिन पहले काशी दौरे के लिए निकले थे। काशी से लौटने के बाद नरेंद्र मोदी ने अपने फेसबुक पेज पर एक वीडियो शेयर की जो की तेज़ी से इंटरनेट पर वायरल हो रही है।

आपको बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी मे एक दिव्यांग शख्स से मिले। उस शख्स से मिलकर नरेंद्र मोदी भावुक हो गए और उसे गले से लगा लिया। दरअसल उस दिव्यांग शख्स ने मोदी  को एक कविता सुनाई-“रखता है जो हौंसला आसमान छूने का उसको नहीं होती परवाह गिर जाने की दुनिया मे हर चीज़ ठोकर खाकर टूट जाया करती है।”

Special moments with my young friend in Kashi.

Special moments with my young friend in Kashi.

Gepostet von Narendra Modi am Montag, 18. Februar 2019

बस सफलता ही ऐसी चीज़ है जो ठोकर लगने के बाद ही प्राप्त होती।” कविता की इन पंक्तियों को सुनकर नरेंद्र मोदी अपने आंसू रोक ना सके और वह भावुक हो उठे। जैसे ही वह शख्स उनके पैर छूने के लिए नीचे झुका तभी प्रधानमंत्री मोदी ने उसे ज़मीन से उठाकर अपने सीने से लगा लिया।

मोदी ने इस वीडियो को फेसबुक पर शेयर करते हुए लिखा काशी में मेरे युवा मित्र के साथ कुछ खास पल। इस वीडियो को अब तक 4.5 मिलियन लोग देख चुके हैं और 38 हजार से ज्यादा लोगों ने इसे शेयर भी  किया है।
रिपोर्ट-मानसी शुक्ला 

प्रादेशिक

विकास दुबे की गिरफ्तारी पर मां बोलीं सरला देवी, अब सरकार को जो करना है करेगी

Published

on

कानपुर। कानपुर में आठ पुलिस वालों के हत्यारे हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। उसकी गिरफ्तारी उज्जैन के महाकाल मंदिर से हुई है। इस इस मामले पर विकास दुबे की मां सरला देवी का कहना है कि भोले बाबा ने मेरे बेटे की जान बचाई है। अब सरकार को जो करना है वो करेगी। मेरे कहने से कुछ नहीं होगा।

विकास की मां ने कहा कि वह हर साल उज्जैन के महाकाल मंदिर में जाकर भगवान के दर्शन करता था और उनका श्रृंगार करवाता था। उन्होंने कहा कि भोले बाबा ने ही आज मेरे बेटे की जान बचाई है। सरला देवी ने कहा कि टीवी से उन्हें विकास की गिरफ्तारी की जानकारी मिली। अब सरकार जो करना चाहती है करे। सरकार बहुत बड़ी है। हमें नहीं पता क्या करना चाहिए।

वहीँ, यूपी के अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) प्रशांत कुमार से जब पूछा गया कि क्या यह उप्र पुलिस और मध्य प्रदेश पुलिस का संयुक्त अभियान था तो उन्होंने जवाब दिया कि नही वहां हमारी टीम मौजूद नही थी। अधिकारी ने कहा कि कानपुर से जांच अधिकारी और पुलिस टीम शीघ्र ही दुबे को लाने के लिए उज्जैन पहुंचेगी।

Continue Reading

Trending