Connect with us

खेल-कूद

पुलवामा हमले के बाद सानिया मिर्जा किस देश का कर रही हैं समर्थन, जानकर रह जाएंगे दंग!

Published

on

नई दिल्ली। जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए जबकि पांच जवान गंभीर रूप से घायल हैं। घायलों का इलाज अस्पताल में जारी है।

आतंकी हमले के बाद विश्व के हर कोने से लोग शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दे रहे हैं। बॉलीवुड समेत खेल जगत के कई खिलाड़ियों ने भी ट्विटर पर जवानों को श्रद्धांजलि देते हुए पाकिस्तान के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

इन सबके बीच सबसे बड़ा सवाल यह उठ रहा था कि सानिया मिर्जा की इस घटना पर क्या राय है। अब सानिया ने ट्वीट के जरिए सभी सवालों का जवाब दे दिया है।

सानिया मिर्जा ने लिखा, ‘यह पोस्ट उन लोगों के लिए है, जो सोचते हैं कि मशहूर हस्तियों के रूप में हमें किसी हमले की निंदा ट्विटर और इंस्टाग्राम पर करनी चाहिए, यह साबित करने के लिए कि हम देशभक्त हैं और हमें देश की परवाह है. क्यों?? क्योंकि हम सेलेब्स हैं।’

सानिया ने आगे लिखा, ‘और आप में से कुछ ऐसे निराश व्यक्ति हैं, जिनके पास अपने गुस्से को निकालने के लिए कोई टारगेट नहीं है तो नफरत फैलाने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे हैं।’ सानिया ने आगे लिखा, ‘मैं अपने देश के लिए खेलती हूं, इसके देश के लिए पसीना बहाती हूं और इसी तरह मैं अपने देश की सेवा करती हूं और साथ ही अपने CRPF के जवानों और उनके परिवार के साथ खड़ी हूं।’

सानिया ने आगे लिखा कि ’14 फरवरी का दिन भारत के लिए एक काला दिन था और मैं उम्मीद करती हूं कि हमें फिर ऐसा दिन न देखना पड़े। यह दिन कभी नहीं भूला जाएगा। मैं शांति के लिए प्रार्थना करती हूं. गुस्सा तभी तक अच्छा है, जब तक इससे कुछ अच्छा निकलकर आ रहा है और किसी व्यक्ति को ट्रोल करने से आपको कुछ हासिल नहीं होगा।’

 

खेल-कूद

भारत को दो सिल्वर पदक जिताने वाली खिलाड़ी का खुलासा, गांव की लड़की से हैं समलैंगिक रिश्ते

Published

on

नई दिल्ली। एशियाई खेलों में भारत का नाम रोशन करने वाली एथलीट दुती चंद ने सनसनीखेज खुलासा किया है। दुती के मुताबिक गांव की एक लड़की से उनके समलैंगिक रिश्ते हैं।

दुती एशियाई खेलों में भारत को दो रजत पदक जिता चुकी हैं। उन्होंने अपने समलैंगिक रिश्तों को कबूल करते हुए कहा, ‘मुझे कोई ऐसा मिल गया है जो मुझे जान से भी प्यारा है। मुझे लगता है कि हर किसी को रिश्तों की आजादी होनी चाहिए कि वह किसके साथ रहना चाहता है।’

दुती चंद ने कहा, ‘मैंने हमेशा उन लोगों के अधिकारों की पैरवी की है जो समलैंगिक रिश्तों में रहना चाहते हैं। यह किसी व्यक्ति विशेष की अपनी इच्छा है। फिलहाल मेरा फोकस वर्ल्ड चैंपियनशिप और ओलंपिक गेम पर है, लेकिन भविष्य में मैं उसके साथ सेटल होना चाहूंगीं।’

दुती चंद ने कहा, ‘मैंने एलजीबीटी समुदाय के अधिकारों के लिए आवाज उठाने के लिए उस वक्त हिम्मत जुटाई, जब पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए आईपीसी के सेक्शन 377 को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया था। मेरा सपना था कि मुझे कोई ऐसा मिले जो मेरे पूरे जीवन का साथी बने। मैं किसी ऐसे के साथ रहना चाहती थी, जो मुझे बतौर खिलाड़ी प्रेरित करे।’

दुती चंद ने कहा, ‘मैं बीते 10 साल से धावक हूं और अगले 5 से 7 साल तक दौड़ती रहूंगी। मैं प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने पूरी दुनिया घूमती हूं, यह आसान नहीं है। मुझे किसी का सहारा भी चाहिए।’

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending