Connect with us

ऑफ़बीट

कब्रिस्तान में मिला अरबों का खजाना, फिर जो अधिकारियों को दिखा…

Published

on

नई दिल्ली। 28 जनवरी को  आयकर विभाग को ख़बर मिलती है कि तमिलनाडु के मशहूर सर्वणा स्टोर, लोटस ग्रुप और ज़ी स्कॉवयर के मालिकों ने हाल ही में कैश के जरिए चेन्नई में 180 करोड़ की प्रॉपर्टी खरीदी है और वो इस डील को छुपाकर टैक्स की हेराफेरी कर रहे हैं। जांच करने पर पता चला कि  ये खबर पक्की है।

खबर मिलने के तुरंत बाद आयकर विभाग ने इन कंपनियों के चेन्नई और कोयंबटूर में 72 ठिकानों पर छापा मारने के लिए कई टीमें तैयार कीं और अगले दिन सुबह से ही आयकर विभाग की टीम इन कंपनियों के ठिकानों पर छापे मारने लगीं। मगर इनकम टैक्स के अधिकारियों को खाली हाथ ही निराश होकर वापस लौटना पड़ा।

आयकर विभाग को यकीन नहीं हुआ कि इतने पुख़्ता जानकारी होने के बावजूद उनका ऑपरेशन फेल कैसे हो गया। लेकिन डिपार्टमेंट ने  हार नहीं मानी उसे यकीन था की उनकी जानकारी गलत नहीं है। आयकर विभाग ने खुद को नाकाम मानने के बजाए इस बात की तफ्शीश में जुट गए कि उनकी ये रेड नाकामयाब कैसे हुई।

आयकर विभाग अधिकारियों ने अपने मुखबिरों को एक्टिव किया शहर के सैकड़ों सीसीटीवी चेक किए, कॉल डिटेल खंगाली गईं। तब एक सीसीटीवी की फुटेज से पता चला कि एक एसयूवी गाड़ी उस रोज़ यानी 28 जनवरी को पूरे दिन सड़कों पर बेवजह इधर-उधर घूम रही थी जिसे देखने के बाद डिपार्टमेंट को उस पर शक हुआ। सीसीटीवी की मदद से उस एसयूवी और उसके ड्राइवर को गिरफ्तार किया गया। रात भर ड्राइवर को हिरासत मे लेकर उससे पूछताछ की तोह उससे पता चला की कंपनी के मालिकों ने सारा काला धन कब्रिस्तान कि एक कब्र छुपा कर रखा है।

7 जनवरी 2019  की सुबह ड्राइवर के साथ मिलकर आयकर विभाग ने कब्रिस्तान पर छापा मारा। अधिकारियों ने जब कब्र खुदवाई तोह उनकी आँखें फटी की फटी रह गयी। उस कब्र मे 433 करोड़ का खज़ाना,करीब 25 करोड़ रुपये नकद, 12 किलो सोना और 626 कैरेट हीरे थे। अब  सवाल ये था कि आयकर अधिकारियों ने  जिस खज़ाने को ढूढने के लिए 72 ठिकानों पर छापे मारे  वो आखिर एक कब्र में कैसे आयाऔर  आयकर विभाग की रेड की खुफिया जानकारी किसने लीक की?  इन सारे सवालों के जवाब उस ड्राइवर ने दिए जो पूरे दिन चेन्नई की सड़कों पर काला धन लेकर बस यूं ही घूम रहा था।

ड्राइवर ने बताया कि, इस धांधली में शामिल तीनों बड़ीं कंपनियों सर्वणा स्टोर, लोटस ग्रुप और ज़ी स्कॉवयर के मालिकों ने खजाने को पहले ही पार कर दिया था।पैसों की हेराफेरी के साथ-साथ  आईटी एक्सपर्ट्स की मदद लेकर इन लोगों ने कंप्यूटर से रिकॉर्ड भी हटा दिया और पैसों को एक एसयूवी गाड़ी में छुपाकर शहर में पूरे दिन घमाने के बाद जब छुपाने की कोई जगह नहीं मिली तो उसे एक नज़दीकी कब्रिस्तान की एक कब्र में छुपा दिया था।

Edited by-मानसी शुक्ला 

 

अन्तर्राष्ट्रीय

एक ऐसा देश जहां पराई लड़कियों से संबंध बनाने के लिए ‘सरकार’ पैसे देती है

Published

on

By

हर देश में प्रॉस्टीटूशन यानि वैश्यावृति काफी सक्रिय तौर पर चल रहा है, फिर चाहे वो हमारा देश ही क्यों न हो। वेश्यावृति का कारोबार हमारे देश में आग की तरह फैलता जा रहा है।

कुछ देशों में इसे कानूनी घोषित कर दिया तो कही इसे गैरकानूनी तरीके से चलाया जाता है जिसे रेड लाइट एरिया बोलते हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां कॉलगर्ल का खर्च वहां की सरकार उठाती है।

दुनिया में हर देश की सरकार अपने देश की वृत्ति को आगे बढ़ने के लिए जनता की मदद करती है, लेकिन इस देश में परै महिलाओं के साथ संबंध बनाने के लिए उसका खर्च सरकार देती है।

हम बात कर रहे हैं नीदरलैंड की जहां सरकार कॉल गर्ल्स के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए पैसे देती है। जानकारी के मुताबिक, नीदरलैंड में किसी मरीज के इलाज के दौरान डॉक्टर की सलाह पर दवाओं के साथ-साथ कॉलगर्ल के साथ संबंध बनाने पर होने वाले खर्च को भी इलाज के खर्च में शामिल करने का प्रावधान है। ये बात बेहद अजीब है लेकिन सच भी है।

Continue Reading

Trending