Connect with us

मनोरंजन

सोहेल खान ने खोली ऐश्वर्या राय की पोल, बोलें-जब वो भाई के साथ…

Published

on

मुंबई। बॉलीवुड के दंबग सलमान खान और ऐश्वर्या राय की लवस्टोरी बच्चों से लेकर बूढ़ो तक के बीच फेमस है। दोनों की प्रेम कहानी संजय लीला भंसाली की फिल्म हम दिल दे चुके सनम प्यार के सेट पर शुरू हुई और धीरे-धीरे मुलाकातों का सिलसिला बढ़ता चला गया। लेकिन तीन साल बाद दोनों के रिश्ते का दुखद अंत हो गया।

ऐश्वर्या ने ब्रेकअप के  बाद सलमान पर मार-पीट करने का आरोप लगाया। वहीं सलमान का कहना था कि उन्होंने ऐसा कभी नहीं किया। इस बारे में सोहेल खान ने ऐश्वर्या और सलमान के रिश्ते के बारे में कई खुलासे किए थे। सुहेल द्वारा किए गए ये खुलासे अभिषेक बच्चन के बर्थडे पर खूब वायरल हुए।

सोहेल, सलमान और ऐश्वर्या के रिश्ते के बारे में बताते हुए नजर आए थे। सोहेल ने कहा, ‘अब वो सबके सामने ये बातें कह रही हैं। जब वो सलमान के साथ घूमती-फिरती थीं। जब वो हमारे घर पर आती थीं तब क्या उन्होंने रिलेशनशिप को स्वीकार किया था?’

‘ऐश ने ही सलमान को असुरक्षित कर दिया था। सलमान खान ये जानना चाहते थे कि वो उन्हें कितना चाहती हैं लेकिन वो सलमान को लेकर उलझी हुई थीं।’ सोहेल ने ये भी बताया कि जब वो विवेक ओबरॉय के साथ थीं तब भी सलमान के साथ कॉन्टैक्ट में रहती थीं।

इस वजह से विवेक भी ऐश्वर्या से नाराज रहते थे। बता दें कि सलमान ने ऐश को पीटने के आरोपों को गलत बताया था। सलमान का कहना था कि उन्होंने ऐश्वर्या पर कभी हाथ नहीं उठाया। सलमान कहते हैं, ‘मैं खुद इतना इमोशनल इंसान हूं कि कोई मुझे पीट सकता है। जब मैं दुखी होता हूं तो खुद को नुकसान पहुंचाता हूं दूसरों को नहीं।’

प्रादेशिक

रक्षाबंधन भाई-बहन के पारस्परिक प्रेम, स्नेह व विश्वास का त्यौहार – सीएम योगी

Published

on

By

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि रक्षाबंधन के अवसर पर कोविड-19 के प्रोटोकाल का पूर्ण पालन किया जाए। कोई भी सार्वजनिक आयोजन न किया जाए। पर्व के सभी अनुष्ठान घर पर ही रहकर किए जाएं।

सीएम योगी ने आगे कहा है कि रक्षाबंधन भाई-बहन के पारस्परिक प्रेम, स्नेह व विश्वास का त्यौहार है। यह पर्व कर्तव्य, आत्मीयता, त्याग, सामाजिक एकता व सद्भाव की भावना का प्रतीक है।

अमित शाह निकले कोरोना पॉज़िटिव, मेदांता अस्पताल में भर्ती

“रक्षाबंधन का त्यौहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है। श्रावण मास में ऋषिगण आश्रम में रहकर अध्ययन और यज्ञ करते थे। श्रावण पूर्णिमा को मासिक यज्ञ की पूर्णाहुति होती थी। यज्ञ की समाप्ति पर यजमानों और शिष्यों को रक्षासूत्र बांधने की प्रथा थी, जिसका पालन रक्षाबंधन के रूप में भी किया जाता है। रक्षाबंधन का त्यौहार समाज में प्रेम और भाईचारा बढ़ाने का कार्य भी करता है।” सीएम योगी ने आगे कहा।

#yogiadityanath #uttarpradesh #cmyogi #RakshaBandhan

Continue Reading

Trending