Connect with us

नेशनल

भारत के ये है सबसे गरीब राज्य, आखिरी नाम जानकर नहीं होगा यकीन

Published

on

दुनिया में भारत बड़ा अर्थव्यवस्था वाला देश है। लेकिन भारत में कुछ ऐसे राज्य है जो बहुत गरीब है। आज हम आपको भारत के उन सबसे गरीब राज्य के बारे में बताने जा रहे है, जिसे आप नहीं जानते है। तो चलिए जानते है भारत के 5 सबसे गरीब राज्य के बारे में –

झारखंड – झारखंड राज्य देश का सबसे गरीब राज्य माना जाता है। जहां की 54 प्रतिशत जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे रहते है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

मणिपुर – मणिपुर देश का दूसरा सबसे गरीब राज्य है। जहां की 40 प्रतिशत जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे रहते है।

अरुणाचल प्रदेश – अरुणाचल प्रदेश देश का तीसरा सबसे गरीब राज्य है। जहां की 35 प्रतिशत जनसंख्या गरीबी रेखा के नीचे रहते है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

बिहार – बिहार देश का चौथा सबसे गरीब राज्य है। जहां की 43 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा के नीचे रहते है।

ओड़िसा – ओड़िसा राज्य देश का पांचवां सबसे गरीब राज्य है। ओड़िसा के 33 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा के नीचे रहते है।

नेशनल

सिद्धू ने किया खुलासा, कहा-नहीं हुआ कपिल शर्मा शो से बाहर

Published

on

नई दिल्ली। पुलवामा हमले पर विवादित बयान देने के बाद चौतरफा घिरे नवजोत सिंह सिद्धू को लोकप्रिय शो द कपिल शर्मा शो से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। लेकिन अब इस मुद्दे पर चौंका देने वाली बात सामने आई है। पूर्व क्रिकेटर और पंजाब के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शो से बाहर होने की  बात को सिरे से खारिज कर दिया है।

सिद्धू ने कहा, “मैं अपने राजनीतिक दायित्वों को निभाने के चलते द कपिल शर्मा के कुछ शूट्स का हिस्सा नहीं रह सका था। मुझे विधानसभा की कार्यवाही में शामिल होना था जिसके चलते मैं शूटिंग नहीं कर सका। इसके चलते उन्होंने (शो मेकर्स) दो एपिसोड्स के लिए मेरा रिप्लेसमेंट ढूंढ लिया। मुझे शो से हटाए जाने के बारे में चैनल से कोई टर्मिनेशन लेटर नहीं मिला है।”

बता दें कि पुलवामा की घटना के बाद नवजोत ने अपने एक बयान में पाकिस्तान के प्रति नर्म रवैया दिखाया था। जिसके  बाद पूरे देश में उनकी जमकर आलोचना की जा रही थी।

हमले के बाद सिद्धू ने कहा था, ‘क्या कुछ लोगों की करतूत के लिए पूरे देश को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है? ये एक बेहद कायराना हमला था। मैं इस हमले की कड़ी निंदा करता हूं. हिंसा को किसी भी तरीके से जायज नहीं ठहराया जा सकता।’

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending