Connect with us

नेशनल

राम मंदिर निर्माण में हो रही देरी से नाराज संतो ने लिया बड़ा फैसला, अब करेंगे ये काम!

Published

on

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट में लंबे समय से चल रहे रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुनवाई एक बार फिर टल गई।  इस मामले की सुनवाई 29 जनवरी को चीफ जस्टिस रंजन गोगोई द्वारा गठित की गई नई बेंच द्वारा की जानी थी, लेकिन जस्टिस बोबडे की अनुपस्थिति की वजह से सुनवाई की तारीख एक बार फिर आगे बढ़ गई।

मामला लंबा खिचने से संत समाज में रोष है। कई संतों का मानना है कि सुनवाई में देरी से हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाई जा रही है।

आपको बता दें कि पांच जजों की पीठ में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के अलावा जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस अब्दुल नजीर, जस्टिस एस. ए. बोबडे और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ शामिल हैं।

सुनवाई 29 जनवरी को होनी थी, लेकिन अंतिम समय में जस्टिस बोबडे छुट्टी पर चले गए और सुनवाई टल गई। अभी इस मामले की सुनवाई की अगली तारीख नहीं तय की गई है।

सुनवाई में लगातार हो रही देरी से संत समाज में गहरा असंतोष है। प्रयागराज में संतों ने कहा कि जिसपर संतों का आशीर्वाद होगा, वही व्यक्ति ही सत्ता पर विराजमान होगा।

संतों के मुताबिक, अब चाणक्य नीति के अनुसार नए राजा का चयन होगा, जो राम मंदिर का निर्माण करेगा। गौरतलब है कि इससे पहले 10 जनवरी को मामले की सुनवाई होनी थी, लेकिन बाबरी मस्जिद के वकील द्वारा पीठ पर सवाल खड़े किए गए।जिसके बाद जस्टिस यूयू ललित ने खुद को मामले से अलग किया और चीफ जस्टिस को नई बेंच का गठन करना पड़ा।

नेशनल

पुलवामा का आक्रोश! ट्रेन में कश्मीर के युवकों की जमकर हुई पिटाई, लोगों ने बोला-पत्थरबाज हैं मार डालो

Published

on

पुलवामा हमले के बाद कश्मीरी पत्थरबाजों के खिलाफ लोगों का गस्सा पूरे देश में देखने को मिल रहा है। ऐसे में अब कश्मीरियों के खिलाफ भी लोगों का गुस्सा दिखने लगा है। हाल ही में दिल्ली के पास सराय रोहिल्ला स्टेशन पर कश्मीरी शॉल बेचने वालों की कुछ अज्ञात लोगों ने पिटाई कर दी।
कश्मीरियों ने अपनी जान बचाने के लिए ट्रेन से कूद गए। इस बारे में पुलिस उपायुक्त (रेलवे) दिनेश गुप्ता ने बताया कि हरियाणा के सांपला जाने के लिए शॉल बेचने वाले तीन कश्मीरी युवक एक लोकल ट्रेन में सवार हुए थे। इसी दौरान कुछ युवकों ने उन्हें गंदी गालियां देना शुरू कर दी।

हमलावरों ने कहा कि कश्मीर में तुम लोग पत्थर फेंकते हो और भारत में रोजी रोटी कमाने के लिए आते हो। इस हंगामे के बीच भीड़ भी हमलावरों के साथ शामिल हो गई और हंगामा हो गया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending