Connect with us

खेल-कूद

गणतंत्र दिवस पर मोदी सरकार ने दी खुशखबरी, रेलवे में मिलेंगी 4 लाख लोगों को नौकरियां!

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से पहले रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बड़ा बयान दिया है। बुधवार को गोयल ने कहा कि रेलवे में 2021 तक चार लाख से अधिक लोगों को नौकरियां दी जाएंगी।

उन्होंने सामान्य श्रेणी के तहत आर्थिक रूप से कमजोर तबके के लोगों को 10 फीसदी आरक्षण के तहत नियुक्ति की प्रक्रिया जल्द शुरू होने के भी संकेत दिए।

रेलमंत्री ने यहां एक प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में रेलवे में कर्मचारियों के मंजूर पद 15.06 लाख हैं, जिनमें 12.23 लाख नियमित कमचारी हैं और बाकी 2.8 लाख पद रिक्त हैं।

उन्होंने कहा, “पिछले साल हमने 1.51 लाख से अधिक पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की और 1.31 लाख पद रिक्त हैं और करीब 99,000 पद और रिक्त होंगे क्योंकि 2019 और 2020 में क्रमश: 53,000 और 46,000 कर्मचारी सेवानिवृत्त होंगे।”

उन्होंने कहा कि अगले दो साल में 2.3 लाख पदों पर नियुक्ति पूरी होगी।

रेलमंत्री ने कहा कि 1.31 लाख कर्मचारियों की नियुक्ति का पहला चरण फरवरी-मार्च 2019 में शुरू होगा और सरकार की आरक्षण नीति के अनुसार, करीब 19,715 पद अनुसूचित जाति, 9,857 पद अनुसूचित जनजाति और 35,485 पद अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित होंगे।

गोयल ने कहा, “और हाल ही में संसद में पारित 103वें संविधान संशोधन के अनुसार, इन पदों में 10 फीसदी आरक्षण यानी करीब 13,100 पद आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) से भरे जाएंगे। यह चक्र अप्रैल-मई 2020 तक पूरा होगा।”

नियुक्ति के दूसरे चरण में सेवानिवृत्ति के कारण खाली होने वाले करीब 99,000 पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया मई-जून 2020 में शुरू होगी और यह 2021 के जुलाई-अगस्त में पूरी होगी।

उन्होंने कहा कि आरक्षण नीति के अनुसार, करीब 15,000 पद अनुसूचित जाति, 7,500 पर अनुसूचित जनजाति, 27,000 अन्य पिछड़ा वर्ग और 10,000 पद ईडब्ल्यूएस के उम्मीदवारों से भरे जाएंगे।

रेलमंत्री ने देशभर में 22 ट्रेनों की सेवा में विस्तार करने की भी घोषणा की। उन्होंने बताया कि गतिमान एक्सप्रेस की सेवा झांसी तक बढ़ा दी गई है।

राउड़केला-कोरापुट एक्सप्रेस अब जगदलपुर तक जाएगी। जयपुर-कामाख्या एक्सप्रेस की सेवा उदयपुर तक बढ़ा दी गई है। सिकंदराबाद-तंदुर एक्सप्रेसे चितापुर तक जाएगी और बांद्रा-पटना एक्सप्रेस अब सहरसा तक चाएगी।

 

खेल-कूद

आत्मरक्षा के लिए बच्चे और महिलाएं जरूर सीखें कुंग फू: शिशिर

Published

on

लखनऊ। खेल से स्वस्थ और फिट रह सकते हैं। खेलों के प्रति बच्चों का रुझान कम होना अच्छे संकेत नहीं हैं। आज बच्चों का खेल मैदान से नाता कम होने का खामियाजा समाज को भुगतान पड़ रहा हैं। बच्चियों और महिलाओं के प्रति अपराध बढ़ रहे हैं, ऐसी दशा में बच्चियों और महिलाओं को अपनी रक्षा स्वयं करने के लिए आत्म रक्षा की कला कुंग फू को सीखना चाहिए।

यह बातें सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के निदेशक शिशिर ने 13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता के आज दूसरे दिन बालिकाओं की सांडा फाइट के उद्घाटन के मौके पर कही।

उन्होंने कहा कि छोटे छोटे बच्चों को कुंग फू खेल खेलते देख अपना बचपन याद आ गया। कुंग फू फेडरेशन ऑफ इंडिया का यह प्रयास काफी सराहनीय है। उन्होंने ने कहा कि इस आत्म रक्षा के खेल को हर स्तर से बढ़ावा दिया जाना चाहिए।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending