Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

मेहुल चोकसी ने दिया मोदी सरकार को तगड़ा झटका, जानिए क्या डूब गया हमारा आपका पीएनबी में जमा पैसा?

Published

on

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के 13,500 करोड़ लेकर भागा मेहुल चोकसी ने केंद्र सरकार के प्रयासों को तगड़ा झटका देते हुए भारतीय नागरिकता छोड़ दी है। अपना भारतीय पासपोर्ट को एंटीगुआ हाई कमिशन में जमा कर चोकसी ने खुद को एंटीगुआ का नागरिक घोषित कर दिया है।

आपको बता दें कि प्रत्यर्पण मामले में सुनावाई से ठीक पहले मेहुल ने यह कदम उठाया है। ऐसे में उसे भारत प्रत्यर्पित करना और भी मुश्किल हो सकता है।

मेहुल चोकसी ने अपने पासपोर्ट जिसका नंबर Z3396732 है, को हाई कमिशन में जमा करवाया. इसके साथ ही उसने इसकी फीस कुल 177 डॉलर भी जमा करवाई. इस बारे में विदेश मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को अवगत करा दिया है। मेहुल चोकसी का अब आधिकारिक पता हार्बर, एंटीगुआ हो गया है।

मेहुल चोकसी के वकीलों को उम्मीद है कि इस कोशिश से भारत द्वारा चोकसी को प्रत्यर्पित करने की कोशिशों को बड़ा झटका लगा है। बता दें कि मेहुल चोकसी के खिलाफ पहले ही इंटरपोल का नोटिस जारी किया हुआ है, भारत की कई एजेंसियां लगातार उसकी तलाश कर रही थीं।

हांलाकि सूत्रों के मुताबिक यह खबर आ रही है कि मेहुल के इस कदम से उसे कोई फायदा नहीं होने वाला है। एंटिगुआ की नागरिकता लेने के बाद भी मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है।

अन्तर्राष्ट्रीय

रूस के राष्ट्रपति का एलान- हमने बना ली कोरोना की वैक्सीन, मेरी बेटी को लगा टीका

Published

on

मॉस्को। जब पूरी दुनिया में कोरोना जमकर कहर बरपा रहा है ऐसे में रूस से एक उम्मीद की किरण जगी है।
दरअसल रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने ऐलान किया है कि हमने दुनिया की पहली कोरोना वैक्सीन बना ली है और इसे देश में रजिस्टर्ड भी करा लिया है। पुतिन ने बताया कि इस वैक्सीन का टीका उनकी बेटी को भी लगाया गया है। पुतिन ने कहा- मेरी बेटी ने भी इस वैक्सीन का टीका लिया है, शुरू में उसे हल्का बुखार था लेकिन अब वह बिलकुल ठीक है।

पुतिन ने कहा कि इस सुबह दुनिया में पहली बार, नए कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्‍सीन रजिस्‍टर्ड हुई।” उन्‍होंने उन सभी को धन्‍यवाद दिया जिन्‍होंने इस वैक्‍सीन पर काम किया है। पुतिन ने कहा कि वैक्‍सीन सारे जरूरी टेस्‍ट से गुजरी है। अब यह वैक्‍सीन बड़े पैमाने पर उत्पादन के लिए भेजी जाएगी।

रूसी अधिकारियों के मुताबिक, Gam-Covid-Vac Lyo नाम की इस वैक्सीन को तय योजना के मुताबिक रूस के स्वास्थ्य मंत्रालय और रेग्युलेटरी बॉडी का अप्रूवल मिल गया है। बताया जा रहा है कि इस वैक्सीन को सबसे पहले फ्रंटलाइन मेडिकल वर्कर्स, टीचर्स और जोखिम वाले लोगों को दिया जाएगा। रूस ने कई देशों को भी वैक्‍सीन सप्‍लाई करने की बात कही है। रूस का कहना है कि वह अपने कोरोना टीके का बड़े पैमाने पर उत्‍पादन सितंबर से शुरू कर सकता है।

Continue Reading

Trending