Connect with us

प्रादेशिक

सही उम्र में कर लें शादी वरना हो सकती है ये गंभीर समस्या!

Published

on

लखनऊ। अजंता होप सोसाइटी ऑफ ह्यूमन रिप्रोडक्‍शन एंड रिसर्च (AHHR) के तत्वाधान में आज यहां होटल क्‍लार्क्‍स अवध में एक सतत चिकित्‍सा शिक्षा (CME) का आयो‍जन किया गया। इस कार्यक्रम का उद्धाटन संयुक्ता भाटिया व इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (IMS) के निदेशक प्रो दीपक मालवीय ने किया। इस कार्यक्रम में बताया गया की शादी सही उम्र मेें कर लेनी चाहिए और बच्चे की प्लानिंग भी सही उम्र में कर लें वरना हो सकती है बांझपन की शिकायत।
कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंची अजंता हॉस्पिटल एंड आईवीएफ सेंटर (IVF) की जानी-मानी आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ गीता खन्‍ना ने कहा बढ़ती उम्र संतान प्राप्ति में एक बड़ी बाधा बन सकती है अतएव सही समय पर परिवार पूरा करें वर्ना अंडाशय की सक्रियता का कमजोर होना इलाज में भी एक चुनौती बन जाता है।
उन्होंने बताया कि संतान उत्पन्न करने वाले अंडे को तैयार करने के लिए बांझपन के विशेषज्ञ स्त्री को हार्मोन्स दवायें देते हैं। इन दवाओं का सभी महिलाओं पर एक जैसा असर नहीं आता है, जो एक चिंता का विषय है। कौनसी हार्मोनल दवा का किस महिला पर क्या असर पड़ता है ये एक बड़ी चुनौती भी है।

इस विषय पर चर्चा करने के लिए पीजीआई, लोहिया अस्पताल, कमांड अस्पताल और केजीएमयू के डॉक्टर भी शामिल रहे। वहीं, दिल्ली के विभिन्न विशेषज्ञ जैसे- प्रोफेसर सुधा प्रसाद, डॉ गौरी देवी, डॉ पंकज तलवार, डॉ रूपाली बस्सी और मणिपाल के प्रोफेसर प्रताप कुमार ने इस मुद्दे पर चर्चा की। साथ ही लखनऊ और आसपास के करीब 250 प्रसूति एवं महिला रोग विशेषज्ञ भी मौजूद रहे और अपनी बात रखी।
इसके अलांवा संजय गांधी पीजीआई, लोहिया संस्थान, कमांड हॉस्पिटल और केजीएमयू जैसे संस्थानों के प्रतिष्ठित विशेषज्ञ उपस्थित रहे। गीता खन्ना ने बताया कि सीएमई में शामिल सभी विशेषज्ञों ने सलाह दी कि सही उम्र में शादी करें और परिवार को पूरा करने की जिम्मेदारी निभाना न भूलें। ऐसा न हो कि अंडाशय की सक्रियता समाप्त हो जाये क्योंकि स्त्री के शरीर में कुदरती रूप से एक निश्चित संख्या में ही अंडे मिले हैं, जो कि बढ़ती उम्र के साथ समाप्त हो जाएंगे।
कार्यक्रम में मौजूद विशेषज्ञों ने युवा जोड़ों को सलाह देते हुए कहा कि इस बात का घ्यान रखें यदि उनकी गर्भधारण करने की 12 माह की कोशिश के बाद भी गर्भधारण न हो पाये तो उन्हें बांझपन विशेषज्ञ से सम्पर्क करना चाहिए। साथ ही ये भी कहा कि यदि विवाहित जोड़ों की उम्र 35 वर्ष से अधिक है तो वो अपनी जीवन शैली और मोटापे पर नियंत्रण रखे हैं। इसके बाद छह माह तक गर्भधारण की कोशिश सफल न होने की स्थिति में भी जोड़ों को बांझपन विशेषज्ञ से मिलना चाहिये।
विशेषज्ञों ने जानकारी देते हुए कहा कि अंडाशय के विफल होने की दो स्टेज होती हैं। यह प्रारंभिक जीवन में विफल हो सकता है, जिसे प्री मेच्योर ओवेरियन फेल्योर कहा जाता है। दूसरी स्टेज होती है जिसे रजोनिवृत्ति कहा जाता है। अंडाशय केवल 35 साल की उम्र के बाद ही नहीं बल्कि उससे पहले भी अपनी सक्रियता खो सकते हैं जिसे प्रीमैच्योर मेनोपॉज भी कहते हैं। इसलिए बच्चे की प्लानिंग 30 की उम्र तक कर लेनी चाहिए।

आगे विशेषज्ञों ने बताया कि एएमएच और एएफसी जैसे विभिन्न मार्करों से ओवेरियन रिजर्व के बारे में जाना जाता है। लेकिन कुछ महिलाओं की अनपेक्षित कमजोर प्रतिक्रिया (poor ovarian response) के कारणों का इससे पता नहीं चलता है।
इसके कारणों के बारे में उन्होंने बताया कि ऑपरेशन ऑफ ओवेरियन सिस्ट्स और एंडोमेट्रियोसिस, मधुमेह, धूम्रपान करने वालों, थैलेसीमिया, गुणसूत्र दोष, कुछ संक्रमणों, पोस्ट कीमो रेडियोथेरेपी, मोटापा, जीवन शैली और देर से विवाह पाया गया है।

इसके बाद में प्रतिनिधियों और विशेषज्ञों के साथ खराब अंडाशय प्रतिक्रिया के लिए नवीनतम रणनीतियों पर सत्र के अंत में एक पैनल चर्चा हुई।

प्रादेशिक

बिना डरे शेर के पास जाकर बैठ गया शख्स, फिर जो हुआ….

Published

on

नई दिल्ली। सोशल मीडिया पर एक ऐसा वीडियो वायरल हो रहा है जिसे देखकर आप हैरान कर रह जाएंगे। वीडियो दिल्ली के चिड़ियाघर का है। यहां एक शख्स शेर के बाड़े में कूद गया और और उसके पास जा बैठा। हालांकि शख्स को शेर ने कोई नुकसान नहीं पहुंचाया और उसे सही सलामत बाड़े से बाहर निकाल लिया गया।

वीडियो में देखा जा सकता है कि किस तरह शख्स कूद कर शेर के सामने जा खड़ा होता है। इसके बाद शेर उसे देखने लगता है। शेर के इतने करीब जाने के बाद भी शख्स को डर नहीं लगता और वह उसके सामने बैठ जाता है।

इस दौरान ऑडियो में सुना जा सकता है कि लोग उसे वहां से हटने के लिए चिल्ला रहे हैं। घटना के दौरान युवक काफी देर तक शेर के सामने बैठा रहा। आनन-फानन में सुरक्षाकर्मी भी बाड़े में कूद गए और युवक की जान बचाई।

इस घटना को लेकर डीसीपी (दक्षिणपूर्व) ने कहा, ‘युवक का नाम रीहान खान (28) है, जो कि बिहार का निवासी है। वह मानसिक रूप से अस्थिर लगता है। उसे तुरंत बिना किसी चोट के बाहर लाया गया था।’ पूर्वी चंपारण का रहने वाले ये शख्स फिलहाल कई दिनों से दिल्ली के सीलमपुर में रह रहा था। इसको बचाने के लिए जू प्रशासन की 4 टीमें बाड़े में कुदी थी। जिसके बाद इसको बचाया गया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending