Connect with us

आध्यात्म

भक्ति धाम-मनगढ़ में प्रथम शिला स्थापना समारोह संपन्‍न

Published

on

श्री भक्ति धाम-मनगढ़, जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज, अभूतपूर्व मन्दिर का निर्माण कार्य, जगदगुरुत्तम, जगद्गुरु कृपालु परिषत्, काशी विद्वत परिषत

मनगढ़ (कुण्‍डा, प्रतापगढ़ उत्‍तर प्रदेश)। श्री भक्ति धाम-मनगढ़ में जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज की स्मृति में एक अभूतपूर्व मन्दिर का निर्माण कार्य प्रगति पर है। सात अप्रैल को जगद्गुरु कृपालु परिषत् की अध्यक्षा सुश्री डा. विशाखा त्रिपाठी जी एवं सुश्री डा. श्यामा त्रिपाठी जी व सुश्री डा.कृष्णा त्रिपाठी जी के सान्निध्य में इटली के सफेद संगमरमर से निर्मित होने वाले इस मन्दिर का प्रथम शिला स्थापना समारोह सम्पन्न हुआ।

वेदमंत्रों की प्रतिध्वनि के मध्य मन्दिर के सफेद संगमरमर की प्रथम शिला स्थापित की गई। तत्पश्चात् सभी भक्तों ने आरती व परिक्रमा की और अन्त में प्रसाद वितरण हुआ।

शाश्वत भाव से सदा सर्वदा मुक्त यदाकदा हमारे इस ग्रह पर जहां जीवन भी है, ऐसे दिव्य व्यक्तित्व के स्वामियों का जन्म होता है जिनका मकसद होता है जनकल्याण। जगद्गुरु श्री कृपालुजी महाराज ऐसी ही परम पावन दिव्‍य व अलौकिक व्‍यक्ति थे, जिन्‍हें उनके शिष्यों के बीच “श्रीमहाराजजी” नाम से ही पुकारा जाता है।

उत्तर प्रदेश के  प्रतापगढ़ जनपद की कुण्‍डा तहसील के एक छोटे से गाँव  मनगढ़ में 22 अक्‍टूबर 1922 शरत पूर्णिमा की रात को श्रीमहाराजजी का जन्म हुआ। बचपन से ही कुशाग्र बुद्धि के स्वामी श्रीमहाराजजी 14 साल की अल्प आयु में ही काशी ,चित्रकूट और इंदौर विश्वविद्यालयों में अध्ययन के लिए पहुंचे। ढाई साल की अल्पावधि में ही उन्‍होंने वहां कई पाठ्यक्रम संपन्न किये।

सोलह बरस की उम्र में पढ़ाई लिखाई से अलग होकर चित्रकूट के सघन जंगलों में पहुँच गए। जहां राधाकृष्ण के प्रति अपने अनन्य प्रेम में समाधिस्थ हो गए। कई-कई दिनों तक आप इस अवस्था में अन्न-जल  ग्रहण नहीं करते थे जैसे बाहरी चेतना से आपका संपर्क ही टूट जाता हो अन्तश्चेतना शेष रह जाती हो।

जनवरी 1957 में काशी विद्वत परिषत ने श्रीमहाराजजी को संभाषण के लिए आमंत्रित  किया था। इस संस्था से वैदिक साहित्य के शीर्ष  500 अध्येयता जुड़े रहे हैं। सभी ने मुक्त कंठ से माना श्रीमहाराजजी सबसे अग्रणी हैं आध्यात्मिक ज्ञान और वैदिक साहित्य  के अंतिम आगार हैं। इसी संभाषण श्रृंखला के दौरान विद्वत परिषत ने आपको जगद्गुरु के ओहदे से विभूषित किया। इसी संस्था ने श्रीमहाराजजी को जगदगुरुत्तम (Supreme amongst all Jagadgurus ) भी घोषित किया। 15 नवंबर 2013 को श्रीमहाराजजी इस लोक को छोड़कर गोलोकवासी हो गए।

 

Continue Reading

आध्यात्म

दिवाली के दिन पूजा का है ये है सबसे शुभ मुहूर्त

Published

on

नई दिल्ली। आज यानी रविवार को पूरा देश दिवाली का त्योहार धूमधाम से मना रहा है। कार्तिक मास की अमावस्या को महानिशा काल में और स्थिर लग्न में महादेवी लक्ष्मी की पूजा अर्चना की जाती है। इससे माता लक्ष्मी की कृपा पूरे साल भक्तों पर बनी रहती है। उन्हें धन की कभी कमी नहीं रहती है।

– अपने घर की उत्तर या पूर्व दिशा को (पूजास्थल) को साफ करके स्थिर लग्न में एक लकड़ी के पटरी पर सवा मीटर लाल वस्त्र बिछाकर भगवान गणेश देवी लक्ष्मी और कुबेर आदि देवताओं की स्थापना करें

–  सभी देवी देवताओं को रोली मोली चावल धूप दीप सफेद मिष्ठान्न अर्पण करें और भगवान गणेश को 27 हरी दूर्वा की पत्तियां और देवी लक्ष्मी को कमल का पुष्प अर्पित करें

– स्थिर लग्न में स्वयं आप लाल आसन पर बैठकर अपने दाएं हाथ में जल लेकर देवी लक्ष्मी से अपने घर में चिर स्थाई रूप से रहने की प्रार्थना करें

– ॐ गं गणपतये नमः और ॐ ह्रीं श्रीं महालक्ष्मये नमः और ॐ कुबेराय नमः मन्त्र का कमलगट्टे की माला से 108 बार जाप करें

– जाप के बाद भगवान गणपति देवी लक्ष्मी और सभी देवी देवताओं को सफेद मिठाई और फल और साबूदाने की खीर का भोग लगाएं  और परिवार के सभी सदस्य प्रसाद ले

पूजा का समय

व्यापारी वर्ग पूजा का समय दोपहर 2:17 से 3:41 तक

शाम की पूजा का समय 6:45 से 8:36 तक

महानिशाकाल रात 1:14 से 3:27 तक

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending