Connect with us

IANS News

बिहार : ‘ज्ञानस्थली’ बोधगया में ‘बौद्घ महोत्सव’ शुरू, नीतीश ने किया उद्घाटन

Published

on

गया, 11 जनवरी (आईएएनएस)| बौद्ध संप्रदाय के प्रमुख तीर्थस्थल और विश्व प्रसिद्घ पर्यटक स्थल बिहार के बोधगया में शुक्रवार को बौद्ध महोत्सव 2019 का शानदार आगाज हुआ। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को बोधगया के कालच्रक मैदान में दीप प्रज्वलित कर इस महोत्सव की औपचारिक शुरुआत की। महोत्सव के पहले दिन देश-विदेश के कलाकारों ने कालचक्र मैदान में बने भव्य मंच पर अपनी आकर्षक प्रस्तुति दी। तीन दिवसीय इस महोत्सव के पहले दिन श्रीलंका, तिब्बत, थाईलैंड, लाओस, वियतनाम सहित विभिन्न देशों से आए कलाकारों ने आए दर्शकों का मन मोह लिया।

इस मौके पर महाबोधि मंदिर परिसर के साथ-साथ पूरे बोधगया को सजाया गया है।

बौद्ध महोत्सव में आए लोगों को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बोधगया मंदिर प्रबंधकारिणी समिति (बीटीएमसी) सचिव नंजे दोरजे के कार्यो की सराहना की।

उन्होंने कहा, “शांति, प्रेम और अहिंसा का संदेश भगवान बुद्ध ने इसी धरती से दिया था। इसी उपदेश को लोगो तक पहुंचाना है।”

उन्होंने समाज में टकराव की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा कि आज समाज में टकराव की स्थिति बन जा रही है, जिसके लिए स्वभाव और पर्यावरण पर ध्यान देने की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि इस टकराव की स्थिति से बचने के लिए भगवान बुद्ध के विचारों पर चर्चा करना होगा। इसे सांस्कृतिक कार्यक्रम के रूप में नहीं बल्कि बुद्ध के मूल बातों को समझना है। उन्होंने कहा कि आज आपस में भाईचारा, प्रेम, सद्भाव का वातावरण बनाना जरूरी है।

 

Continue Reading

IANS News

जेल में शशिकला के लिए विशेष सुविधा : रिपोर्ट

Published

on

 बेंगलुरू, 20 जनवरी (आईएएनएस)| भ्रष्टाचार के मामले में सजा काट रही अन्नाद्रमुक नेता वी.के. शशिकला को बेंगलुरू के केंद्रीय कारा में उनकी पंसद की सुविधाएं दी जा रही हैं।

  इस बात का खुलासा एक जांच रिपोर्ट में हुआ है। रिपोर्ट के अनुसार, शशिकला को खासतौर से तैयार भोजन और विशेष सेल की सुविधा दी जाती है।

सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी विनय कुमार की अध्यक्षता वाली समिति की जांच रिपोर्ट में कहा गया कि साक्ष्यों से स्पष्ट संकेत मिला है कि शशिकला को उपलब्ध कराए गए पांच सेलों में भोजन तैयार करने के कुछ कार्यकलाप चलते हैं।

रिपोर्ट हालांकि कर्नाटक सरकार को कथित तौर पर वर्ष 2017 में सौंपी गई थी, लेकिन इसे सार्वजनिक अब किया गया है।

कर्नाटक की महिला आईपीएस अधिकारी डी. रूपा मुदगिल ने 2017 में एक रिपोर्ट में सबसे पहले इस बात का खुलासा किया था। वह उस समय पुलिस महानिदेश (कारा) थीं।

मुदगिल ने आईएएनएस को यहां बताया, “मेरी रिपोर्ट सरकार द्वारा स्वीकार नहीं की गई और मेरा तबादला कर दिया गया। विनय कुमार की अध्यक्ष वाली समिति की जांच रिपोर्ट मेरी रिपोर्ट के अनुरूप है।”

शशिकला को भ्रष्टाचार के एक मामले में बेंगलुरू की एक निचली अदातल द्वारा 2015 अभियुक्त करार देने के फैसले को सर्वोच्च न्यायालय द्वारा बरकरार रखे जाने के बाद फरवरी 2017 से वह चार साल की सजा काट रही हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending