Connect with us

खेल-कूद

टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर रचा इतिहास, लग गई रिकॉर्ड्स की झड़ी!

Published

on

नई दिल्ली। बॉक्सिंग डे मैच में टीम इंडिया ने इतिहास रचते हुए ऑस्ट्रेलिया को 137 रनों से हरा दिया है। इस जीत के साथ विराट सेना ने ऑस्ट्रेलिया में 37 साल के सूखे को भी खत्म कर दिया।

आपको बता दें कि इससे पहले भारत ने मेलबर्न की धरती पर 37 पहले टेस्ट जीता था। जीत के साथ भारत ने टेस्ट सीरीज में 2-1 से अजेय बढ़त बना ली है।

मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए इस मैच में पांचवें और आखिरी दिन रविवार को भारतीय टीम ने आस्ट्रेलिया की दूसरी पारी 261 रनों पर समाप्त कर यह जीत हासिल की।

इस मैच को जीतने के साथ भारतीय टीम ने 150वां टेस्ट मैच जीता है। वह इस उपलब्धि को हासिल करने वाली पांचवीं टीम है।भारतीय गेंदबाज जसप्रीत बुमराह को मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया।

वह एक तेज गेंदबाज के रूप में आस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे अधिक नौ विकेट लेने वाले पहले भारतीय तेज गेंदबाज बन गए हैं। इस क्रम में उन्होंने दिग्गज गेंदबाज कपिल देव को पछाड़ा है।

एक कप्तान के रूप में विराट कोहली ने पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। कोहली ने कप्तान के तौर पर विदेशी सरजमीं पर 11 टेस्ट मैच जीत लिए हैं।

बॉक्सिंग डे पर मिली इस जीत से भारतीय टीम के हौसले बुलंद हैं। देखना दिलचस्प होगा कि तीन जनवरी को अंतिम टेस्ट में भारत इस कॉन्फिडेंस को कैसे भुनाता है।

खेल-कूद

अरुण जेटली के निधन से शोक में डूबी टीम इंडिया, काली पट्टी बांधकर खेलेगी मैच

Published

on

नई दिल्ली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन के बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच के तीसरे दिन अपने बाजुओं पर काली पट्टी लगाकर मैच खेलने का फैसला किया है।

आपको बता दें कि जेटली भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के उपाध्यक्ष रह चुके हैं। बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस के साथ बातचीत में कहा कि काली पट्टी बांधकर खेलने का विचार कोषाध्यक्ष अनिरुद्ध चौधरी का था, जिसका कि प्रशासकों की समिति (सीओए) और सीईओ राहुल जौहरी ने भी समर्थन किया।

उन्होंने कहा, “अनिरुद्ध को यह महसूस हुआ कि खिलाड़ियों को अपने बाजुओं पर उस व्यक्ति के सम्मान में काली पट्टी बांधकर खेलना चाहिए, जिन्होंने बीसीसीआई प्रशासन में बड़ी भूमिका निभाई है।”

चौधरी ने कहा कि जेटली का अचानक जाना, उनके लिए बहुत बड़ी निजी क्षति है क्योंकि उन्होंने पूर्व उपाध्यक्ष के साथ काफी समय तक काम किया था।

उन्होंने कहा, “जेटली जी के निधन के बारे में सुनकर गहरा दुख हुआ। मुझे बीसीसीआई में विभिन्न पदों पर उनके साथ काम करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। उनके पास किसी भी हालात को पढ़ने और अमूल्य सलाह देने की अभूतपूर्व क्षमता थी। मुझे लगता है कि इसी चीज ने उन्हें राजनीति और क्रिकेट की दुनिया में हर किसी के लिए एक खास व्यक्ति बना दिया।”

उन्होंने कहा, मैंने हर मुलाकात के साथ उनसे बहुत कुछ सीखा। उनका जाना मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है और मैं उन्हें हमेशा याद करूंगा। मैं उनके परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं।”

बीसीसीआई ने भी जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया है। बोर्ड ने अपने एक शोक संदेश में कहा, “बीसीसीआई अपने पूर्व उपाध्यक्ष और पूर्व आईपीएल संचालन परिषद के सदस्य जेटली के निधन पर शोक व्यक्त करता है। जेटली एक जुनूनी क्रिकेट प्रशंसक थे। उन्हें हमेशा क्रिकेट के सक्षम और सम्मानित प्रशासकों में से एक के रूप में याद रखा जाएगा।”

बीसीसीआई ने कहा, “दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ के अध्यक्ष के रूप में लंबे कार्यकाल के दौरान उन्होंने क्रिकेट ढांचे में काफी बदलाव किया। वह क्रिकेटरों के हमेशा करीबी मित्र रहे और हमेशा उनके साथ खड़े रहे, उन्होंने उन्हें प्रोत्साहित किया और उनका समर्थन किया। बीसीसीआई उनकी आत्मा की शांति की प्रार्थना करता है।”

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending