Connect with us

नेशनल

मोदी सरकार के मंत्री नितिन गडकरी ने अपनों पर ही उठाए सवाल, कह दी ये बड़ी बात!

Published

on

नई दिल्ली। तीन राज्यों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सरकार न बचा पाने के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने शनिवार को बड़ा बयान दिया।

गडकरी ने कहा, ‘जिस तरह नेतृत्व सफलता का श्रेय लेता है उसी तरह उसे विफलताओं का भी श्रेय लेना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘सफलता के कई दावेदार होते हैं लेकिन विफलता में कोई साथ नहीं होता। सफलता का श्रेय लेने के लिये लोगों में होड़ रहती है लेकिन विफलता को कोई स्वीकार नहीं करना चाहता, सब दूसरे की तरफ उंगली दिखाने लगते हैं।’

पुणे जिला शहरी सहकारी बैंक असोसिएशन लिमिटेड द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ‘राजनीति में जब भी हार होती है तब कमेटी बैठती है लेकिन जब जीत मिलती है तो कोई पूछने वाला नहीं होता है क्योंकि जीत के सभी हकदार होते हैं, हार की जिम्मेदारी लेने को कोई तैयार नहीं होता।’

गडकरी ने कहा कि ‘राजनीति में  विधानसभा और लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद प्रत्याशी मिलने पर बहाना बनाते हैं कि पोस्टर नहीं मिला, पार्टी से पैसा मांग रहा था तो नहीं दिया। बड़े नेता की सभा मांगी थी तो वो भी नहीं हुई, कैंसिल कर दी। इस प्रकार सारा वातावरण खराब कर दिया और इन सब कारणों की वजह से हार हुई है। मैंने ऐसे नेताओं से कहा कि आप चुनाव हारे क्योंकि इसमें पक्ष और आप खुद लोगों का विश्वास पाने में पीछे रह गए और इसीलिए आपकी हार हुई. इसलिए अपने हार की जिम्मेदारी खुद लो दूसरो पर जिम्मेदारी मत डालो।’

 

नेशनल

सुप्रीम कोर्ट ने गुलाम नबी आजाद को दी कश्मीर जाने की इजाजत, कर सकेंगे 4 जिलों का दौरा

Published

on

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की इजाजत मिल गई है। सोमवार को जम्मू कश्मीर से जुड़ी 8 याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए उच्चतम न्यायालय ने आजाद को कश्मीर जाने की इजाजत दे दी। अब आजाद अदालत के आदेश के बाद 4 जिले बारामूला, अनंतनाग, श्रीनगर जम्मू का का दौरा कर सकेंगे।

सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में गुलाम नबी आजाद की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी ने दलीलें रखीं। उन्होंने अदालत में कहा कि गुलाम नबी आजाद 6 बार के सांसद हैं, पूर्व मुख्यमंत्री हैं फिर भी श्रीनगर एयरपोर्ट से वापस भेज दिया गया। गुलाम नबी आजाद ने 8, 20 और 24 अगस्त को वापस जाने की कोशिश की।

गौरतलब है कि गुलाम नबी आजाद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका डालकर अपने परिवार से मिलने की इजाजत मांगी थी। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने सीपीआई (एम) नेता सीताराम येचुरी को भी श्रीनगर जाने की इजाजत दी थी। सीताराम येचुरी ने अपनी पार्टी के नेता एमवाई तारिगामी से मिलने की इजाजत मांगी थी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending