Connect with us

IANS News

डीयू ने कुलपति का हाजिरी रिकार्ड देने से मना किया, कहा यह ‘निजी’ है

Published

on

नई दिल्ली, 6 दिसंबर (आईएएनएस)| दिल्ली विश्वविद्यालय ने कुलपति समेत अपने प्रशासनिक अधिकारियों की उपस्थिति के संबंध में जानकारी देने से मना कर दिया है। विश्वविद्यालय ने कहा कि सूचना ‘लोक हित’ में नहीं है और यह ‘निजता में हनन’ का मामला होगा।

वहीं प्रशासन के विरुद्ध संघर्ष कर रहे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के शिक्षकों को चेतावनी दी गई है कि उनकी छुट्टियां स्वीकृत नहीं की जाएगी अगर वे अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं कराएंगे।

यह संघर्ष एक वर्ष पहले तब शुरू हुआ, जब एक व्यक्ति ने दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति, रजिस्ट्रार, डिप्टी रजिस्ट्रार, असिस्टेंस रजिस्ट्रार और अन्य समेत गैर-शैक्षणिक कर्मचारियों की सूचना के अधिकार (आरटीआई) के तहत उपस्थिति जानकारी मांगी।

विश्वविद्यालय के जन सूचना अधिकारी (पीआईओ) ने आरटीआई अधिनियम की धारा 8(1)(जे) का हवाला देते हुए कहा, “यह प्रतीत होता है जहां तक खास अधिकारी का सवाल है कि आवेदक द्वारा मांगी गई जानकारी निजी प्रकृति की है और यह किसी की निजता में अनाधिकृत रूप से दखल होगा। इसके साथ ही यह प्रतीत होता है कि इस सूचना के खुलासे से किसी भी प्रकार का लोक हित नहीं होगा।”

विश्वविद्यालय के पहले अपीलीय प्राधिकार ने इस निर्णय के साथ सहमति जताई थी। प्राधिकार ने सितंबर में मामले की सुनवाई की थी।

जेएनयू विश्वविद्यालय और इसके शिक्षकों के बीच चल रहे मौजूदा संघर्ष के मद्देनजर यह प्रगति काफी महत्वपूर्ण है। यहां शिक्षकों ने अपने अकादमिक स्वतंत्रता पर पाबंदी लगाने का आरोप लगाते हुए उपस्थिति रजिस्टर पर हस्ताक्षर करने से मना कर दिया है।

विश्वविद्यालय में पहले अपीलीय प्राधिकार(फर्स्ट अपीलेट अथॉरिटी) डिप्टी रजिस्ट्रार सुधीर शर्मा से आईएएनएस की ओर से कई कोशिशों के बाद भी संपर्क नहीं साधा जा सका।

 

Continue Reading

IANS News

फेसबुक ने रूसी सरकार से जुड़े 3 पेज डिलीट किए

Published

on

 सैन फ्रांसिस्को, 17 फरवरी (आईएएनएस)| प्रौद्योगिकी कंपनी फेसबुक ने अपने प्लेटफॉर्म पर वायरल वीडियो कंपनी मैफिक मीडिया द्वारा चलाए जा रहे तीन वीडियो केंद्रित पेजों को डिलीट कर दिया है, क्योंकि इन पेजों ने रूस के साथ अपने संबंधों का उचित रूप से खुलासा नहीं किया।

  रूसी सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्राप्त राजकीय आरटी (औपचारिक रूप से रसिया टुडे) की सहायक कंपनी, रुप्टली के मैफिक मीडिया में 51 फीसदी हिस्सेदारी है।

सीएनएन ने फेसबुक के एक प्रवक्ता के शुक्रवार के बयान के हवाले से कहा, “इन पेजों से जुड़े लोगों को इन पेजों से संबद्ध लोगों के बारे में गुमराह नहीं होना चाहिए। हम लगातार सुधार करेंगे, जिससे लोगों को उन पेजों की अधिक जानकारी मिल सके, जिन्हें वे फॉलो करते हैं।”

फेसबुक ने पेजों के एडमिनों तक पहुंचने के लिए उन पेजों को निरस्त कर दिया। कंपनी एडमिनों से यह खुलासा करने की मांग करना चाहती है कि पेज कहां से चलाए जा रहे हैं। फेसबुक प्लेटफॉर्म पर वापस आने के लिए उनकी मूल कंपनी से उनकी संबद्धता भी जानना चाहता है।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, युवाओं से अपील करने वाले इन पेजों को फेसबुक पर करोड़ों लाइक्स मिल चुके हैं, लेकिन इन पेजों ने यह खुलासा नहीं किया कि वे रूसी सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending