Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

बच्चों को पढ़ाने से पहले ये टीचर उतार देती है अपने कपड़े, वजह जान दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे आप!

Published

on

हैडलाइन पढ़कर आपको गुस्सा आ रहा होगा कि कैसी टीचर है, बच्चों के सामने ऐसा कैसे कर सकती हैं? लेकिन असिलियत जानकर आप उसकी तारीफ किए बिना रह नहीं पाएंगे। दरअसल, ये टीचर नीदरलैंड में रहती हैं। इसका नाम ड्रेबी हेरकेंस हैं। ये जीरो हार्ट रिजनावेड स्कूल में जीव विज्ञान की टीचर है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

आपको बता दें, जीव विज्ञान कि टीचर ने अपनी क्लास में बच्चों की पढाई में दिलचस्पी बढ़ाने का एक ऐसा अनोखा तरीका निकाला है। वह अपनी क्लास में बच्चों के सामने कपड़े बदल बदल कर बायोलॉजी पढ़ाती हैं।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

दरअसल, बच्चों को अच्छी तरह से पढ़ाने और समझाने के लिए वो अपनी टेबल पर खड़ी हो जाती है। और अपने कपड़े बदलती हैं। और उन कपड़ों के अंदर वह एक ऐसी ड्रेस पहनी हुई होती हैं। जिसमें शरीर से जुड़ी हुई संरचना और हड्डियों के चित्र छपे हुए होते हैं।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

इस महिला टीचर ने बताया कि है कि इस तरह बढ़ाने से बच्चों को जल्दी समझ आ जाता है। यह महिला टीचर इसी तरह से बच्चों को पढ़ाने के लिए नए-नए कलात्मक उपाय ढूंढती रहती है।

अन्तर्राष्ट्रीय

15 साल में छोड़ा था लड़की ने घर, बनी ISIS दुल्हन, अब दिया आतंकवादियों के बच्चे को जन्म

Published

on

ISIS

आपने शादी से जुड़े बहुत से मामले सुने होंगे लेकिन आज हम आपको एक ऐसा मामला बताने जा रहै हैं जिससे आप हैरान रह जाएंगे। इंग्लैंड की एक महिला ने ISIS जॉइन कर लिया था। अब उसी 19 साल की महिला ने अपने एक बच्चे को जन्म दिया है। अब वह अपने देश इंग्लैंड़ वापस आना चाहती है।
इस महिला का नाम शमीमा बेगम है जिसने सीरिया के रिफ्यूजी कैंप में बच्चे को जन्म दिया है। महिला को ISIS में शामिल होने का कोई अफसोस भी नहीं है। उसने बताया की इस फैसले ने उसे और मजबूद बनाया है। ऐसे में अब उसे अपने देश वापस लौटने की इजाजत मिलनी चाहिए या नहीं इस पर बड़ी बहस चल रही है।

शमीमा के वकील का कहना है कि शमीमा के साथ नाजी अपराधियों के भी बुरा व्यावहार किया जा रहा है। वकील ने कहा कि जब वह स्कूल में पढ़ने वाली 15 साल की लड़की थी, तभी चली गई। वह एक पीड़ित थी। वहीं, शमीमा ने एक इंटरव्यू में ये स्वीकार किया है कि ब्रिटेन में उसका पुनर्वास काफी मुश्किल भरा होगा।

उसके वकील ने बताया कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद खूनी अपराधियों को भी मौका मिला था तो इसे भी मिलना चाहिए। शमीमा का परिवार चाहता है कि अगर उसे देश वापस आने की अनुमति मिलती है और जेल की सजा दी जाती है तो वे उसके बच्चे को पालने के लिए तैयार होंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending