Connect with us

नेशनल

इंडिगो एयरलाइंस में ये सर्विस हुई बंद, पैसेंजर्स को देना होगा एक्स्ट्रा चार्ज

Published

on

अगर आप एयरपोर्ट पर चेक-इन न करके ऑनलाइन चेक-इन करते हैं। तो आपको एक झटका लगाने वाला हैं। दरअसल, इंडिगो एयरलाइंस ने अपने करीब 651 करोड़ रुपए के घाटे के चलते वेब चेक-इन के लिए 800 रुपए तक का अतिरिक्त शुल्क वसूलने का निर्णय लिया है। इस घाटे के पीछे ईंधन के ऊंचे दामों और रुपये में गिरावट को जिम्मेदार माना गया है।

हाल में ही इंडिगो के ऑफिशियल हैंडल ने ट्विट किया- ‘हमारी संशोधित नीति के अनुसार, सभी वेब चेक-इन सुविधा के लिए सारी सीटों पर अब चार्ज लगेगा। हालांकि वैकल्पिक रूप से, आप हवाई अड्डे पर मुफ्त में चेक-इन कर सकते हैं। सीटें उपलब्धता के अनुसार सौंपी जाएगी।’

आपको बता दें, एयरलाइन की वेबसाइट पर कहा गया है कि- ‘हवाई अड्डे पर लंबी कतारों से बचें और वेब चेक-इन के साथ परेशानी मुक्त यात्रा करें। घरेलू क्षेत्रों में उड़ान भरने वाले यात्री निर्धारित समय से 1 घंटे पहले किसी भी समय वेब चेक-इन कर सकते हैं।’

इसके साथ ही सैनिकों, वरिष्ठ नागरिकों, अकेले सफर कर रहे नाबालिग या फिर ग्रुप बुकिंग करने वाले लोग इस वेब चेक इन सुविधा का लाभ नहीं उठा सकते। वैसे एक तरफ जहां मोबाइल बोर्डिंग पास आम हो रहे हैं। वहीं इंडिगो आपको अपने बोर्डिंग कार्ड का प्रिंटआउट लाने के लिए कहता है।

बता दें कि इससे पहले यह बजट एयरलाइंस विंडो सीट, एक्स्ट्रा लेग रूम जैसी कुछ खास तरह की सीटों के लिए ही वेब चेक-इन करने पर अतिरिक्त शुल्क वसूलती थी।

नेशनल

EVM बनाने वाले पूर्व कर्मचारी का खुलासा, इस तरह से की गई थी 2014 लोकसभा चुनाव में घांघली!

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव से महज कुछ दिनों पहले ईवीएम को लेकर हुए खुलासे से भारतीय राजनीति में हड़कंप मच गया है। अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट द्वारा किए गए खुलासों के मुताबिक 2014 के आम चुनाव में इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) से छेड़छाड़ की गई थी।

लंदन में सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए सैयद शुजा ने दावा किया कि ईवीएम पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है इसे हैक किया जा सकता है।

शुजा ने बताया कि ईवीएम को वाई-फाई या ब्लूटूथ के हैक नहीं किया जा सकता बल्कि इसे दूसरे तरीके से हैक किया जाता है। हालांकि इस हैकर ने ईवीएम हैक करने से संबंधित कोई तथ्य पेश नहीं किए जिसके बाद इसकी बात पर यकीन करना बहुत मुश्किल है। अब देखना यह है कि आम चुनाव से महज कुछ दिनों पहले इस खुलासे के बाद राजनीतिक दल क्या कदम उठाते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending